Breaking News

विधान परिषद के परिसर में एनपीटीआई ने किया अटल रत्न सम्मान समारोह का आयोजन

• अधिकारी,कर्मचारी और पत्रकार किए गए अटल रत्न सम्मान से सम्मानित

• अटल जी की एक ऐसे सूर्य के रूप में भारत में चमके कि • उन्होंने संयुक्त राष्ट्र से लेकर जिनेवा सम्मेलन तक भारत का नाम अपने नाम की तरह अटल कर दिया: कुंवर मानवेंद्र सिंह

• अटल बिहारी वाजपेयी जी जैसा व्यक्तित्व आज की राजनीति में देखने को नहीं मिलता:प्रमुख सचिव विधान परिषद

अटल जी के व्यक्तित्व के बारे में जितना भी कहा जाये कम है:डॉ हरिओम

लखनऊ। भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जन्मोत्सव पर न्यूज पेपर ट्रस्ट आफ इण्डिया द्वारा दिनांक 27.12.2022 को विधान परिषद के कक्ष संख्या-77 में “भारतरत्न सम्मान-2022” कुंवर मानवेन्द सिंह, सभापति विधान परिषद् की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। जिसमें डॉ राजेश सिंह, प्रमुख सचिव विधान परिषद्, डॉ हरिओम, प्रमुख सचिव समाज कल्याण विभाग उत्तर प्रदेश तथा श्री सुशील दुबे, चेयरमैन, नजम हसन, अध्यक्ष, वक्कास वारसी, मान्यता प्राप्त समिति के सचिव शिवसरन सिंह, अब्दुल वहीद और जुबैर अहमद भी उपस्थित थे।

टोल टैक्स को लेकर गडकरी का बड़ा ऐलान जल्‍द बनाए जाएंगे…वाहन चालकों पर पड़ेगा गहरा असर

इस सम्मान समारोह में डॉ राजेश सिंह ने अपने विचार व्यक्त करते हुये यह कहा कि स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी जैसी व्यक्तित्व आज की राजनीति में देखने को नहीं मिलता है। मैंने विद्यार्थी जीवन से देखने का प्रयास किया और उनसे मिला भी।आजादी की लड़ाई में भी अटल जी का योगदान भूलाया नहीं जा सकता है। वह एक कवि के रूप में जाने जाते हैं उनकी अनेक कविताओं का संग्रह भी जारी हुआ।

ताजिकिस्तान में फंसे 44 भारतीय मजदूरों की सकुशल वापसी

अटल जी दूरदर्शी और प्रखर वक्ता थे। वह सरल भाषा में अपनी बात को रखते थे। वह देश के प्रधानमंत्री भी रहे और अटल जी का व्यक्तित्व प्रधानमंत्री पद को सुशोभित करे यह भी अटल सत्य है। डॉ हरिओम ने अपने विचार व्यक्त करते हुये कहा कि अटल जी की छवि आमजन में एक कवि के रूप में ही दिखी। वह प्रधानमंत्री होते हुये भी अपने को कवि कहलाना ज्यादा पसन्द करते थे। मैंने प्रशासनिक पद पर रहते हुये एक बार प्रधानमंत्री के रूप में उनकी सभा का आयोजन किया, उसमें उनकी वाकपटुता और सरलता देखने को मिली वह किसी भी बात को बहुत ही सरलता से रखते थे। और उनके अंदर आशावादी व्यक्तित्व हमेशा दिखाई पड़ता था। प्रधानमंत्री के रूप में उन्होंने जो-जो बातें कहीं आज वह सत्य हो रहीं हैं। अटल जी के बारे में जितना भी कहा जाये वह कम है।

सभापति विधान परिषद् ने अपने विचार व्यक्त करते हुये कहा कि मैं अटल रत्न सम्मान दिये जाने के लिये आमंत्रित किया गया हूं। मैं अपने को गौरवान्वित महसूस करता हूं। अटल जी की एक ऐसे सूर्य के रूप में भारत में चमके कि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र से लेकर जिनेवा सम्मेलन तक भारत का नाम अपने नाम की तरह अटल कर दिया। अटल जी के व्यक्तित्व के बारे में जितना भी कहा जाये कम है। मैं यहां पर उनके बारे में कहूंगा तो पूरा दिन भी कम हो सकता है। अटल जी ने संसद में भी चाहे वह पक्ष में रहे हो या विपक्ष में बहुत ही बेबाक रूप में अपनी बात रखी। यहां पर मैं भारत रत्न सम्मान से सम्मानित सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को भी कहना चाहता हूं कि अटल सम्मान पाकर उन्हें जो उपलब्धि मिली है उससे वह और निष्ठा के साथ काम करें।सम्मान पाने से व्यक्ति की जिम्मेदारी ज्यादा हो जाती है। अंत में मैं सभी उपस्थित महानुभावों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करता हूं। मो शबाब के प्रति भी धन्यवाद ज्ञापित करता हूं उन्होंने सभा का संचालन किया।

वेणुगोपाल ने यात्रा को ‘राष्ट्रीय पदयात्रा’ करार दिया, शामिल होंगे पूर्व मुख्यमंत्री और …

अटल रत्न सम्मान समारोह में 2022 में डॉ राजेश सिंह, डॉ हरिओम, श्रीकृष्णदत्त ढौडियाल, विनय सिंह, राकेश कुमार पाण्डेय, ओम प्रकाश सिंह, राणा प्रताप, राम सागर शुक्ल, प्रदीप कुमार रघुवंशी, योगेन्द्र, वासु मिश्रा, राजेश वर्मा, अतुल कुमार सलूजा, नूतन सिंह। तथा एनपीटीआई के रजा रिजवी, अविनाश शुक्ला, टीबी सिंह, उत्कर्ष सिन्हा, नासिर खान, एमएम मोहसीन, अशोक सिंह, अजय द्विवेदी, आरिफ मुकीम, खालिद सिद्दीकी, इन्द्रेश रस्तोगी, फिरोज खान, पूर्ति निगम, प्रज्ञा मिश्रा और मो शबाब, इस्लाम खान आदि को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के अंत में वरिष्ठ पत्रकार रजा रिजवीवरिष्ठ पत्रकार रजा रिजवी ने सभी का धन्यवाद किया।

About Samar Saleel

Check Also

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मंडलीय चिकित्सालय को ‘रक्तदान सेवा सम्मान पत्र’ प्रदान कर किया सम्मानित

• स्वैच्छिक रक्तदान के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य एवं अनुकरणीय योगदान हेतु किया गया सम्मानित ...