Breaking News

इस विस्फोटक स्थिति में पहुंची वैश्विक महामारी, इन छह शहरों में हालत बेहद खराब

वुहान से शुरू हुए वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण एकबार फिर से दुनियाभर के देशों में दहशत में फैलाने लगी है। ठंड बढ़ने के साथ ही चीन में वैश्विक महामारी कोरोना एकबार फिर विस्फोटक स्थिति में पहुंच गई है। तकरीबन दो साल पहले 2020 में ठंड की शुरुआत के साथ वुहान में जिस तरह से कोरोना संक्रमण की शुरुआत हुई थी, ठीक उसी तरह इस साल 2022 दिसंबर के पहले हफ्ते से ही चीन में कोरोना से हालात बिगड़ने लगे थे।

जीरो कोविड पॉलिसी में जब से चीन ने ढील दी है तब से ही वहां लगातार कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। इस बीच चीनी सरकार की हेल्थ अथॉर्रिटी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, चीन में लगभग 3 करोड़ 70 लाख लोग इस हफ्ते एक दिन में कोविड-19 से संक्रमित हो सकते हैं। ये आंकड़ा दुनिया में अबतक का सबसे बड़ा कोरोना विस्फोट हो सकता है। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग की बुधवार को हुई आंतरिक बैठक के अनुसार, दिसंबर के पहले 20 दिनों में कम से कम 24 करोड़ 80 लाख लोगों के वायरस से संक्रमित होने की संभावना है। यह चीन की आबादी का लगभग 18 फीसदी है।

विदेश में भारतियों की सुरक्षा, अफगानिस्तान में महिला शिक्षा पर “भारत” का रुख साफ

चीन में कोरोना की अब तक की सबसे खतरनाक लहर आई है। चीन के बीजिंग, सिचुआन, अनहुई, हुबेई, शंघाई और हुनान में हालत बहुत ज्यादा खराब हो रहे हैं। लगातार बदतर हो रहे हालातों के बीच लोकल मीडिया में खबर है कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग शनिवार या रविवार को पहली बार कोविड समीक्षा बैठक कर सकते हैं जिसमें और कडे कदम उठाये जाने का फैसला हो सकता है। इसी बीच चीन में संपूर्ण लॉकडाऊन की खबरें भी सामने आ रही हैं। आपको बता दें कि चीन में बीते एक महीने में 19 नवंबर से 18 दिसंबर के बीच चीन में 11 लाख मौतों का दावा किया जा रहा है।

जानकारों का कहना है कि चीन में कोरोना से असल में कितने संक्रमित और कितनी मौतें हो रही हैं, यह पता लगा पाना काफी मुश्किल है, लेकिन अगर सरकारी आंकड़ों पर ही गौर किया जाए तो देश में हालात काफी गंभीर हैं। आश्चर्य की बात तो ये है कि सोमवार तक चीन ने कोरोना के केस बढ़ने के साथ मौतों में इजाफे की बात भी कही जा रही थी। वहीं पिछले दो दिनों से पूरे देश में एक भी मौत न होने का रिकॉर्ड दिखाया गया है। दूसरी तरफ मीडिया रिपोर्ट्स में चीन शवदाह गृहों के बाहर भारी भीड़ होने की बातें कही जा रही है। ऐसे में हालात की गंभीरता को समझी जा सकती है।

गौरतलब है कि चीन से ही महामारी कोरोना के संक्रमण ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया था, हालांकि, अभी भी कई देश इस वायरस के संक्रमण से घिरे हुए है। कोरोना वायरस की अबतक कई लहर अपना कहर बरपा चुकी है। फिलहाल वर्तमान समय में घातक वायरस कोरोना काफी हद तक काबू में है। इससे पहले इस वायरस ने जनजीवन अस्‍त व्‍यस्‍त कर दिया था।

About News Room lko

Check Also

‘दो वर्ष बाद शेर बहादुर देउबा बनेंगे प्रधानमंत्री’, केपी शर्मा ओली ने किया सात सूत्रीय समझौते का खुलासा

काठमांडू:  नेपाल में हाल ही में बड़ा राजनीतिक घटनाक्रम देखने को मिला है। केपी शर्मा ...