Breaking News

रोगी का कल्याण ही सभी पैथियों का उद्देश्य: कप्तान सिंह

औरैया। मानव कल्याण के लिए आयुर्वेद सबसे अच्छी पैथी है, पिछले कुछ समय से लोगों में स्वास्थ्य के प्रति सजगता बढ़ी है। आयुर्वेद को समाज में अधिक स्वीकार्य बनाने के लिए पिछले कुछ सालों में अधिक शोध हुए हैं। सरकार ने अलग से आयुष मंत्रालय का गठन कर दिया है और इस क्षेत्र में बढ़ चढ़कर काम हो रहा है। बजट बढ़ने से आयुर्वेद अस्पताल औषधियों से समृद्ध हो गए हैं, जहां बड़ी संख्या में लोग स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं।

आयुर्वेद और एलोपैथी पर छिड़ी बहस के बीच यह बात औरैया इटावा के क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी डॉक्टर कप्तान सिंह पाल ने कहीं। उन्होंने कहा कि कोविड-19 में आयुर्वेद से रिलीफ है। यह वायरल था, इसकी दवा नहीं थी लक्ष्य आधारित उपचार किया गया, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में आयुर्वेद सक्षम है।

योगा से हम शारीरिक रूप से स्वस्थ होते ही हैं मानसिक रूप से भी हम स्वस्थ होते हैं। उन्होंने कहा कि दिनचर्या, ऋतुचर्या अवस्था के अनुसार आहार-विहार करना चाहिए। भारत में हजारों साल पुरानी पारंपरिक चिकित्सा प्रणालियों में से आयुर्वेद भी है, इसकी दवाएं लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार के लिए जानी जाती हैं।

उनका कहना है कि एलोपैथी और आयुर्वेद बहस का मुद्दा भी नहीं है, सभी पैथीयों का उद्देश्य केवल एक है, रोगी का कल्याण हो। आयुर्वेद और एलोपैथ दोनों अलग-अलग और उपयोगी चिकित्सा पद्धति हैं। सभी चिकित्सा का मूल उद्भव भगवान धन्वंतरि को मानते हैं, भगवान धन्वंतरि ने सबसे पहले आयुर्वेद चिकित्सा की ही रिसर्च की, बाद में अलग-अलग पैथी बन गईं, शस्य विज्ञान अब सर्जरी हो गई। आयुर्वेद पर जो पहले रिसर्च होता था वह बजट के अभाव में रुका रहा। औषधियां वन संपदा से मिल जाती थी वह खत्म हो गई हैं अब औषधीय पौधे लगाने के लिए लोगों को प्रेरित करना पड़ रहा है।

रिपोर्ट-शिव प्रताप सिंह सेंगर

About Samar Saleel

Check Also

सेवा भारती का राहत अभियान

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ। सेवा भारती के माध्यम से कोरोना आपदा ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *