Breaking News

असमानता और अन्याय के खिलाफ लड़ रही महिलाओं को प्रियंका गांधी ने दिया टिकट

● पहली सूची में 40 प्रतिशत महिलाएं और 40 प्रतिशत युवा शामिल*

● नकरात्मक कैंपेन नहीं करेगी कांग्रेस

लखनऊ। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी ने प्रेसवार्ता कर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की। इस सूची में 40 प्रतिशत महिलाओं को टिकट देने के वादे को पूरा किया। कांग्रेस पार्टी ने असमानता और अन्याय के खिलाफ संघर्ष करने वाली महिलाओं और युवाओं को अपना उम्मीदवार बनाया है।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि जो महिलाएं पहली बार चुनाव लड़ रही हैं, वे संघर्षशील और हिम्मती महिलाएं हैं। अपनी सूची से हम संदेश देना चाहते हैं कि राजनीति का असली मकसद सेवा है। यह काफी हद तक बदल चुका है, लेकिन हम इस मकसद को वापस लाना चाहते हैं। मेरा संदेश है कि अगर आपके साथ अत्याचार हुआ तो आप अपने हक के लिए लड़ें। कांग्रेस ऐसी महिलाओं के साथ है। हमारे प्रत्याशी संघर्ष करने वाले, उत्तरप्रदेश को आगे बढ़ाने की सोच रखने वाले प्रत्याशी और उत्तरप्रदेश की जीत सुनिश्चित करने वाले प्रत्याशी। यह प्रदेश में नई ऊर्जा, युवा ऊर्जा, महिला सशक्तिकरण, सामाजिक न्याय की बुलंद आवाज़ के प्रतीक हैं।

उन्होंने कहा कि, उन्नाव की उस लड़की की माँ हमारी प्रत्याशी हैं, जिसने सत्ताधारी दल के बलात्कारी विधायक के ख़िलाफ़ न्याय के लिए संघर्ष किया। शाहजहाँपुर की वो आशा बहन हमारी प्रत्याशी है जो मुख्यमंत्री की सभा में अपना हक़ माँगने पहुँची तो उसको पीट-पीट कर उसका हाथ तोड़ दिया गया, लेकिन उनकी आवाज़ नहीं दबा सके। लखीमपुर की वो जनप्रतिनिधि हमारी प्रत्याशी हैं जिसने भाजपा के ख़िलाफ़ ब्लॉक प्रमुख का चुनाव लड़ने की हिम्मत जुटाई तो भाजपा वालों ने उसका चीरहरण किया, लेकिन उसका मनोबल नहीं गिरा पाए। लखनऊ की वो महिला हमारी प्रत्याशी हैं जिनको नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ विरोध दर्ज कराने के चलते प्रताड़ित किया गया, लेकिन वो फिर भी सच्चाई के साथ डटी रहीं। सोनभद्र का वो आदिवासी भाई हमारे प्रत्याशी है जिनके आदिवासी भाई बहनों का दबंगों ने नरसंहार किया। सत्ता ने उनके साथ न्याय नहीं किया लेकिन उन्होंने न्याय व संघर्ष का पथ नहीं छोड़ा। नदियाँ निषादों की जीवनरेखा हैं। नदियों और उनके संसाधन पर निषादों का हक़ होता है। बसवार, प्रयागराज में बड़े खनन मफ़ियाओं के दबाव के चलते निषादों को नदियों से बालू निकालने के लिए भाजपा सरकार की पुलिस ने पीटा। निषादों की नावें जलाई गईं। अल्पना निषाद निषादों के हक़ों के संघर्ष की आवाज़ बनीं।

उन्होंने कहा कि हमारे पास बहुत सी महिलाओं के आवेदन आए, उनमें से कई ऐसी हैं जिन्हें कभी मौका नहीं मिला। कई ऐसी हैं जिन्होंने बहुत संघर्ष किया है और पहली बार चुनाव लड़ रही हैं। हमारा लक्ष्य ये भी है कि हमारी भूमिका बढ़े, हमारी पार्टी मजबूत बने। हमने तय किया है कि हम नकरात्मक कैंपेन नहीं करेंगे। हम सकारात्मक मुद्दों पर चुनाव लड़ेंगे। महिलाओं, दलितों, युवाओं के मसलों पर चुनाव लड़ेंगे ताकि प्रदेश आगे बढ़े।

उन्होंने कहा कि युवाओं पर बात क्यों नहीं होती है? पीड़िताओं की बात क्यों नहीं होती है? बेरोजगारों के साथ हो रहे अन्याय की बात क्यों नहीं हो रही है? क्या वे किसी प्रतिशत में नहीं हैं? हमने महिलाओं की बात शुरू की तो सभी पार्टियां घोषणाएं करने लगीं। भाजपा, सपा, आरएलडी, बसपा सबने घोषणाएं कीं। हमारी यही सफलता है कि अब महिलाओं को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। मैंने जो प्रयास शुरू किए हैं वह जारी रखूंगी, मैं चुनाव के बाद भी यूपी में ही रहूंगी। अगर हमारी पार्टी कहती है कि हमारी भूमिका कहीं और भी होनी चाहिए तो मैं वह भी करूंगी। पार्टी को मजबूत करने का हमारा प्रयास जारी रहेगा।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि 125 उम्मीदवारों की हमारी पहली सूची में 40 प्रतिशत महिलाएं और 40 प्रतिशत युवा हैं। हमें आशा है कि इनके जरिये हम प्रदेश में एक नये तरह की राजनीति की पहल करें। इनमें पत्रकार, अभिनेत्री और ऐसी संघर्षशील महिलाएं हैं जिन्होंने बहुत अत्याचार झेला है।

जानें कौन कहां से लड़ेगा चुनाव 
1. नजीबाबाद — हाजी मोहम्मद सलीम अंसारी।

2. नगीना-हेनरीता राजीव सिंह।

3. नेहतौर — मीनाक्षी सिंह।

4. मुरादाबाद ग्रामीण — मोहम्मद नदीम।

5. मुरादाबार नगर — मोहम्म रिजवान कुरैशी।

6. असमोली — हाजी मरघूब आलम।

7. संभल — निदा अहमद।

8. स्वार — हैदर अली खान।

9. चमरौआ — यूसुफ अली यूसुफ।

10. बिलासपुर — संजय कपूर।

11. रामपुर — काजिम अली खान।

12. धनौरा — समर पाल सिंह।

13. अमरोहा — सलीम खान।

14. हस्तिनापुर — अर्चना गौतम।

15. किठौर — बबिता गुर्जर।

16. छपरौली — यूनुस चौधरी।

17. लोनी — यामीन मलिक।

18. मुरादनगर — बिजेंद्र यादव।

19. गाजियाबाद — सुशांत गोयल।

20. गढ़मुक्तेश्वर — आभा चौधरी।

21. नोएडा — पंखुड़ी पाठक।

22. दादरी — दीपक भाटी चोटीवाला।

23. जेवर — मनोज चौधरी।

24. बरौली — गौरंग देव चौहान।

25. अतरौली — धर्मेंद्र कुमार।

26. कोल — विवेक बंसल।

27. अलीगढ़ — मोहम्मद सलमान इम्तियाज।

28. गोर्द्घन — दीपक चौधरी।

29. मथुरा — प्रदीप माथुर।

30. बलदेव — विनेश कुमार संवल वाल्मीकि।

31. एम्मादपुर — शिवानी सिंह बघेल।

32. आगरा दक्षिण — अनुज शर्मा।

33. आगरा उत्तर — विनोद कुमार बंसल।

34. आगरा देहात — उपेंद्र सिंह।

35. खैरागढ़ — रामनाथ सिकरवार।

36. फतेहाबाद — होतम सिंह निषाद।

37. बाह — मनोज दीक्षित।

38. टुंडला — योगेश दिवाकर।

39. जसराना — विजय नाथ सिंह वर्मा।

40. शिकोहाबाद — शशि शर्मा।

41. सिरसागंज — प्रतिमा पाल।

42. एटा — गुंजन मिश्रा।

43. मैनपुरी — विनीता शाक्य।

44. करहल — ज्ञानवती यादव।

45. बिसौली — प्रज्ञा यशोदा।

46. बदायूं — रजिनी सिंह।

47. बहेरी — संतोष भारती।

48. मीरगंज — मोहम्मद इलियास।

49. बरेली कैंट — सुप्रिया अरोन।

50. आंवला — ओमवीर यादव।

51. बरखेरा — हरप्रीत सिंह छब्बा।

52. पूरनपुर — ईश्वर दयाल पासवान।

53. जलालाबाद — गुरमीत सिंह।

54. तिहार — रजनीश कुमार गुप्ता।

55. पवायां — अनुज कुमारी।

56. ददरौली — तनवीर सफदर।

57. सहारनपुर — पूरन पांडेय।

58. मोहम्मदी — रितु सिंह।

59. सीतापुर — शमीना शफीक।

60. बांगरमऊ — आरती वाजपेयी।

61. बिसवां — अभिनव भार्गव।

62. मोहान — मधु रावत।

63. उन्नाव — आशा सिंह।

64. बख्शी का तालाब — ललन कुमार।

65. सरोजनी नगर — रुद्र दमन सिंह।

66. लखनऊ मध्य — सदफ जफर।

67. लखनऊ कैंट — दिलप्रीत सिंह।

68. मोहनलालगंज — ममता चौधरी।

69. बछरावां — सुशील पासी।

70. तिलोई — प्रदीप सिंघल।

71. सलोन — अर्जुन पासी।

72. जगदीशपुर — विजय पासी।

73. कादीपुर — निकलेश सरोज।

74. फर्रुखाबाद — लुईस खुर्शीद।

75. औरैया — सरिता दोहरे।

76. बिल्हौर — ऊषा रानी कोरी।

77. आर्य नगर — प्रमोद कुमार जायसवाल।

78. किदवई नगर — अजय कपूर।

79. कानपुर कैंट — सोहैल अख्तर अंसारी।

80. महाराजपुर — कनिष्का पांडेय।

81. कालपी — उमाकांती।

82. ओरई — उर्मिला सोनकर खाबरी।

83. महोबा — सागर सिंह।

84. मानिकपुर — रंजना भरतियाल पांडेय।

85. हुसैनगंज — शिवाकांत तिवारी।

86. रामपुर खास — आराधना मिश्रा मोना।

87. बाबागंज — बीना रानी।

88. प्रतापगढ़ — नीरज त्रिपाठी।

89. मंझनपुर — अरुण कुमार विद्यार्थी।

90. फाफामऊ — दुर्गेश पांडेय।

91. इलाहाबाद उत्तर — अनुग्रह नारायण सिंह।

92. इलाहाबाद दक्षिण — अल्पना निषाद।

93. बारा — मंजू संत।

94. राम नगर — ज्ञानेश शुक्ला।

95. जैदपुर — तनुज पूनिया।

96. दरियाबाद — चित्रा वर्मा।

97. हैदरगढ़ — निर्मला चौधरी।

98. उतरौला — धीरेंद्र प्रताप सिंह।

99. गोंडा — रमा कश्यप।

100. डुमरियागंज — कांती पांडेय।

101. हरैया — लबोनी सिंह।

102. रुदौली — बसंत चौधरी।

103. फरेंदा — वीरेंद्र चौधरी।

104. महाराजगंज — आलोक प्रसाद।

105. पनियारा — शारदेंदु कुमार पांडेय।

106. खजनी — रजनी देवी।

107. पडरौना — मनीष जायसवाल।

108. तमकुही राज — अजय कुमार लल्लू।

109. रुद्रपुर — अखिलेश प्रताप सिंह।

110. रामपुर कारखाना — शेहला अहरारी।

111. भाटपर रानी — केशव चंद यादव।

112. बरहज — रामजी गिरी।

113. सगरी — राणा खातून।

114. आजमगढ़ — प्रवीण कुमार सिंह।

115. निजामाबाद — अनिल कुमार यादव।

116. मेहनगर — निर्मला भारती।

117. मधुबन — अमरेश चंद्र पांडेय।

118. मोहम्मदाबाद गोहना — बनवारी लाल।

119. जखनियां — सुनील राम।

120. गाजीपुर — लौटनराम निषाद।

121. सकलडीह — देवेंद्र प्रताप सिंह।

122. पिंडरा — अजय राय।

123. रोहनियां — राजेश्वर पटेल।

124. छानबे — भगवती प्रसाद चौधरी।

125. ओबरा — राम राज गोंड।

About Samar Saleel

Check Also

विधायक विनय शाक्य की पुत्री रिया को प्रत्याशी बनाने का युवा कार्यकर्ताओं ने किया विरोध

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें मोदी योगी से कोई बैर नहीं प्रत्याशी की ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *