Breaking News

उत्पादकता आधारित बोनस से बरेका कर्मचारियों में खुशी का माहौल

वाराणसी। कैबिनेट ने वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए रेल कर्मचारियों को उत्पादकता से जुड़े बोनस को मंजूरी दी । प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आज सभी पात्र अराजपत्रित रेल कर्मचारियों (आरपीएफ/आरपीएसएफ कर्मियों को छोड़कर) के लिए वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए 78 दिनों के वेतन के बराबर उत्पादकता से जुड़े बोनस (पीएलबी) को मंजूरी दी।

रेलवे कर्मचारियों को 78 दिनों का बोनस भुगतान से लगभग 1984.73 करोड़ रुपये वित्तीय निहितार्थ होने का अनुमान है। पात्र अराजपत्रित रेल कर्मचारियों को उत्पादकता लिंक बोनस के भुगतान के लिए निर्धारित वेतन गणना की सीमा 7000/- रुपये प्रति माह है। प्रति पात्र रेल कर्मचारी को 78 दिनों के लिए देय अधिकतम राशि 17,951 रूपया है। इस फैसले से लगभग 11.56 लाख अराजपत्रित रेल कर्मचारियों को लाभ होने की संभावना है। पात्र रेल कर्मचारियों को पीएलबी का भुगतान प्रत्येक वर्ष दशहरा पूजा की छुट्टियों से पहले किया जाता है। कैबिनेट के इस फैसले को इस साल की छुट्टियों से पहले लागू किया जाएगा जिससे कर्मचारियों को रेलवे के प्रदर्शन में सुधार की दिशा में काम करने के लिए प्रेरित करने की उम्मीद है।

इस अवसर पर बनारस रेल इंजन कारखाना के महाप्रबंधक कांफ्रेंस हॉल में एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। विडियों कांफ्रेंसिंग के माध्यम से अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी, रेलवे बोर्ड सुनीत शर्मा ने बोनस के संबंध में विस्ताररपूर्वक जानकारी दी तथा देश भर के पत्रकारों से पूछे गये प्रश्नों का जवाब दिया। इसी क्रम में वाराणसी के प्रत्रकार द्वारा बोनस से संबंधित सवाल पुछा गया।

प्रेस कांफ्रेंसिंग के उपरांत प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर राजेश कुमार राय ने पत्रकारों को विस्तारपूर्वक बोनस के संबंध में जानकारी दी तथा रेलवे कर्मचारियों को 78 दिनों के बोनस दिये जाने पर काफी प्रसन्नता व्यक्त की तथा कर्मचारियों को बधाई दी।

उन्होंने कहा कि इससे बरेका के लगभग 5401 अराजपत्रित कर्मचारी लाभान्वित होंगे। प्रेस वार्ता में बरेका के प्रमुख वित्त सलाहकार योगेश श्रीवास्तव एवं प्रमुख मुख्य कार्मिक अधिकारी प्रदीप कुमार सिंह और कर्मचारी परिषद, अन्य पिछड़ा वर्ग एसोसिएशन, एस.सी.-एस.टी. एसोसिएशन के सदस्य भी मौजूद रहे।

प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर श्री राय ने कहा कि बरेका के कर्मचारियों ने महाप्रबंधक अंजली गोयल के कुशल नेतृत्व में कोविड-19 के दौरान एकजूटता दिखाकर उच्च मनोवल के साथ परिस्थितियों का डटकर मुकाबला किया तथा अपनी उत्पादकता को भी बनाए रखा।

इस परिस्थिति में भारत सरकार का यह कदम रेल कर्मचारियों के लिए एक मील का पत्थर साबित हुआ। जिससे कर्मचारियों को रेलवे के प्रदर्शन में सुधार की दिशा में काम करने के लिए प्रेरित करने की उम्मीद है। अन्त में प्रेस वार्ता में आये हुए पत्रकारों को जन सम्पंर्क अधिकारी राजेश कुमार द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया।

रिपोर्ट-संजय गुप्ता

About Samar Saleel

Check Also

एसएससी GD 2021: इन उम्मीदवारों को नहीं मिलेगा लिखित परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने विभिन्न बलों में ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *