Breaking News

नाका गुरुद्वारा में लोहडी के त्यौहार का किया गया विशेष आयोजन

लखनऊ। गुरुवार को लोहडी के पवित्र त्यौहार का विशेष आयोजन श्री गुरू सिंह सभा ऐतिहासिक गुरूद्वारा नाका हिण्डोला, लखनऊ में किया गया।
इस अवसर पर लखनऊ गुरूद्वारा प्रबन्धक कमेटी के अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह बग्गा ने उपस्थित संगतो एवं समस्त नगरवासियों को लोहडी के त्यौहार की बधाई देते हुए कहा कि लोहडी एक सामाजिक पर्व है। यह पंजाबी समाज के लोग बेटे की शादी की पहली लोहड़ी या बच्चे के जन्म की पहली लोहडी बड़ी खुशी एवं उल्लास के साथ मनाते है।

लोहड़ी पंजाब की लोक संस्कृति का महत्तवपूर्ण त्यौहार है। इस त्यौहार को पूरे भारत में मनाया जाता है पर पंजाब में इस त्यौहार को बहुत बड़े हर्ष और उत्साह से मनाया जाता है। पूरे वर्ष भर को इस त्यौहार का इन्तजार रहता है, पर विशेष रूप से घर में नवविवाहिता एवं नवजात शिशु के आते ही लोहड़ी के त्यौहार की प्रतिक्षा की जाती है। ये दोनों लोहड़ी के शगुन का केन्द्र बिन्दु होते है।

गुरूद्वारा भवन के समक्ष कोविड-19 की गाइडलाइन मास्क लगाकर एवं सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह बग्गा के द्वारा लकड़ीयों में अग्नि देकर इस कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया। प्रवक्ता सतपाल सिंह मीत ने बताया गाथा है कि बादशाह अकबर के समय दुल्ला भट्ठी नाम का डाकू था पर वह दिल का बड़ा नेक था वह अमीरों को लूटकर गरीबोें मे बाँट देता था। वह अमीरों द्वारा जबरदस्ती से गुलाम बनाई गई लड़कियों को उनसे छुड़वा कर उन लड़कियों की शादी करवा देता था और दहेज भी अपने पास से देता था, वह दुल्ला भट्ठी वाला के नाम से प्रसिद्ध हो गया।

तभी से लोहड़ी की रात आग जला कर और रंग-बिरंगे कपड़े पहन कर नाचते गाते है और उसका गुणगान करते है। प्रवक्ता सतपाल सिंह मीत ने बताया कि 14 जनवरी को सायः 6ः30 बजे से रात्रि 9ः15 बजे तक माघ माह संक्रान्ति पर्व मनाया जायेगा। दीवान की समाप्ति के उपरान्त गुरू का लंगर वितरित किया जायेगा। श्री गुरुनानक गर्ल्स डिग्री कालेज में भी लोहडी का पर्व धूम धाम से मनाया गया। डा. सुरभि गर्ग ने लोहड़ी की अग्नि प्रज्वलित की। लोहडी की अग्नि में सभी ने तिल का अर्पण करके सभी के भले की कामना की।

  दया शंकर चौधरी

About Samar Saleel

Check Also

सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन व्यवस्था से ज्यादा फायदेमंद एनपीएस : मुख्य सचिव

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ। राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (NPS) और पुरानी पेंशन ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *