Breaking News

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में निर्यात प्रोत्साहन समिति की बैठक संपन्न, डीजीएफटी कानपुर के प्रतिनिधि उपस्थित न होने पर जताया रोष

औरैया। जिलाधिकारी प्रकाश चन्द्र श्रीवास्तव की अध्यक्षता में जिला स्तरीय निर्यात प्रोत्साहन समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित की गई। बैठक के दौरान जनपद के घी व्यवसायी ने जनपद में एक टेस्टिंग लैब खोले जाने की मांग की।

जिससे जनपद के व्यवसायी को आगरा कानपुर अपना घी का सैंपल चेक करवाने जाते हैं तो उनको वहां पर अनेकों कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। अगर जनपद में मान्यता प्राप्त टेस्टिंग लैब स्थापित हो जाए तो व्यवसायी को अन्य जनपदों में सैंपल जांच के लिए नहीं जाना पड़ेगा।

इसके अतिरिक्त व्यवसायियों ने यह भी मांग की कि जनपद का एक लोगो होना चाहिए। जिससे जनपद की घी की ब्राण्डिंग हो सके। जिससे घी की सोंधी खुशबू से जनपद व राज्य महक सके। घी व्यवसायी द्वारा बताया गया कि अपने जनपद में फूड प्रोसेसिंग की विभिन्न इकाइयां स्थापित हैं।

अपने यहां से मटर एवं बाजरा विभिन्न राज्यों में निर्यात किया जाता है। अपना जनपद चकरनगर के पास है वहां पर विभिन्न प्रकार की बकरियां का पालन पोषण होता है वहां की एक मूल प्रजाति जमुनापारी बकरी है। जो दूध उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है।

जिस पर जिलाधिकारी ने अग्रणी जिला प्रबंधक एवं उपायुक्त उद्योग को निर्देश दिए कि उक्त प्रजाति की बकरियां को बढ़ावा देने के लिए बैंकों में अधिक से अधिक मात्रा में ऋण पत्रावलियों को बैंकों में प्रेषित करें। जिससे बैंकों से ऋण मुहैया करवाया जा सके। जिससे बकरियों का दूध अधिक मात्रा में उत्पादन हो सके।

व्यापारियों ने जिलाधिकारी के समक्ष अपनी भी मांग रखी कि इंडस्ट्रीज की गाड़ियों को नो इन्ट्री से मुक्त रखा जाए तथा वाहन जाने आने का पास निर्गत किया जाए। इसके साथ ही व्यापारियों ने यह भी मांग की जनपद में बाहर की कंपनियों को बुलाकर निर्यात संबंधी जानकारी कराई जाए।

जिससे अधिक मात्रा में ओडीओपी उत्पाद एवं अन्य प्रोडक्ट को निर्यात किया जा सके। बैठक में डीजीएफटी कानपुर के प्रतिनिधि उपस्थित न होने के कारण जिलाधिकारी द्वारा रोष व्यक्त करते हुए चेतावनी पत्र जारी करने हेतु उपायुक्त उघोग को निर्देश दिए। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार, डीडी नाबार्ड, अग्रणी जिला प्रबंधक, गेल के प्रतिनिधि, उपायुक्त उद्योग, जिला ग्रामोद्योग अधिकारी एवं अन्य जिला स्तरीय अधिकारीगण एवं व्यापारीगण उपस्थित रहे।

रिपोर्ट-शिव प्रताप सिंह सेंगर 

About Samar Saleel

Check Also

लखनऊ विश्वविद्यालय को फार्मेसी कौंसिल ऑफ़ इंडिया ने प्रदान की बीफार्म की 100 और डीफार्म की 60 सीट के लिए मान्यता

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ। इंस्टिट्यूट ऑफ़ फार्मास्यूटिकल साइंसेज, लखनऊ विश्वविद्यालय को ...