Breaking News

नर्सिंग होम में 19 माह के बच्चे की जान से खिलवाड़, पीड़ित ने जिले के उच्चाधिकारियों से की शिकायत

रायबरेली। सरकारी अस्पताल की व्यवस्था से आजिज लोग निजी अस्पताल का सहारा लेते हैं। अगर वहां भी जान से खिलवाड़ किया जाय तो फिर वह कहां जाएं। दरअसल शनिवार को एक निजी अस्पताल में एक 19 माह के बच्चे को एक्सपायरी डेट की वैक्सीन लगा दी। पीड़ित ने जिले के उच्चाधिकारियों को इस मामले की सूचना दे दी है। बछरावां के कसरावां निवासी मानस तिवारी पुत्र रविकांत तिवारी ने की शिकायत में बताया की वह अपने पुत्र नमिष तिवारी के जन्म के बाद से सभी टीकाकरण जिले के वात्सल्य नर्सिंग होम में कराये है। इसी क्रम में शनिवार को भी प्रातः काल 11बजे अस्पताल टीकाकरण के लिए पहुंचा । डॉ  सुनीत रस्तोगी  ने ₹7600 पेमेंट करने की अवैध रसीद भेजी। हमने टीकाकरण के लिए ₹7600 का ऑनलाइन पेमेंट किया है लेकिन इस भुगतान की कोई रसीद नहीं दी।

डॉ. रस्तोगी ने 3 डोज लोड करके मेरे 19 माह के बच्चे को दोनों पैर और एक हाथ में टीका लगा दिया और उनके स्टीकर हमारे बच्चे के टीकाकरण की फाइल पर चस्पा कर दिए। जिनमें से दो डोज की एक्सपायरी डेट क्रमशः 06-2022 और 04-2022 अंकित है। इससे जाहिर है की उसके बच्चे की जान के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। पीड़ित ने जिलाधिकारी व जिला स्वास्थ्य अधिकारी को फोन पर भी शिकायत की और कहा की उनके 19 माह के अबोध बच्चे के साथ हुए निंदनीय कृत्य के लिए अस्पताल प्रशासन जिम्मेदार है उन्होने अस्पताल पर कठोर कार्रवाई की मांग की है।

क्या बोले अस्पताल के जिम्मेदार

इस सम्बंध में डा. हिमानी रस्तोगी से बात करने का प्रयास किया गया पर उन्होंने अपना फोन अस्पताल के स्टाफ को दे रखा था। कई बार के प्रयास के बाद डा सुनीत रस्तोगी से बात हुई। उन्होने स्वीकार किया गलती तो हुई है। इसके बाद जब यह पूछा गया इसमे अस्पताल की ओर से क्या बयान है तो अभी बताते हैं यह बोल कर फोन रख दिया।

क्या बोले विभाग के जिम्मेदार

इस लापरवाही के सम्बंध में सीएमओ डा वीरेन्द्र सिंह ने बताया मामला संज्ञान में आया है।जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जायेगी।

रिपोर्ट=दुर्गेश मिश्रा 

About Samar Saleel

Check Also

लखनऊ विश्वविद्यालय के 06 छात्रों का 4 लाख प्रतिवर्ष के पैकेज पर हुआ प्लेसमेंट

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग संकाय के प्लेसमेंट सेल ...