Breaking News

ग्रामीणों को मिलेगा और भी ज़्यादा शुद्ध पानी, जल जनित बीमारियों का खात्मा करेगी महिलाओं की सबसे बड़ी फौज

  • 6 लाख महिलाएं गांव में करेंगी पानी की जांच

  • एक लाख महिलाओं का प्रशिक्षण पूरा, 70 हजार पानी के नमूनों की जांच हुई

  • नमामि गंगे और ग्रामीण जलापूर्ति विभाग की सबसे बड़ी पहल

  • सेहत संग ग्रामीण महिलाओं के रोजगार के द्वार खोले जल जीवन मिशन योजना ने

  • 6 लाख महिलाएं बनेंगी स्वावलंबी

  • Published by- @MrAnshulGaurav
  • Sunday, June 26, 2022

लखनऊ। यूपी में अब पानी से होने वाली बीमारियों का खात्मा होगा। इसकी कमान महिलाओं को सौंपने का फैसला हुआ है। ग्रामीण क्षेत्र की 6 लाख महिलाएं पानी की जांच करेंगी। अब तक 1 लाख महिलाओं को प्रशिक्षित पूरा हो चुका है। जो पानी की जांच के अभियान में जुट गई हैं। अब तक 70 हजार पानी के नमूनों की जांच कराई जा चुकी है। राज्य सरकार ने लोगों की अच्छी सेहत संग महिलाओं को स्वालंबी बनाने की दिशा में अहम कदम उठाया है। नमामि गंगे और ग्रामीण जलापूर्ति विभाग ने पीने के पानी की शुद्धता की जांच के लिए अब तक का सबसे बड़ा अभियान शुरू किया है।

ग्रामीणों को मिलेगा और भी ज़्यादा शुद्ध पानी, जल जनित बीमारियों का खात्मा करेगी महिलाओं की सबसे बड़ी फौज

20 रुपये प्रत्येक नमूने के एवज में मिलेगा

यह पहला मौका है जब यूपी में पानी से होने वाली बीमारियों से लड़ाई के लिए गांव में महिलाओं को तैयार किया जा रहा है। जल जीवन मिशन की इस योजना ने ग्रामीणों को बेहतर स्वास्थ्य देने के साथ गांव में रहने वाली महिलाओं के लिए रोजगार के नए द्वार भी खोले हैं। महिलाओं को पानी के प्रत्येक नमूने के एवज में 20 रुपये दिये जा रहे हैं। जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह और नमामि गंगे व ग्रामीण जलापूर्ति विभाग के प्रमुख सचिव अनुराग श्रीवास्तव लगातार योजना की निगरानी कर रहे हैं। आमजन को शुद्ध पीने का पानी मुहैया कराने की दिशा लगातार कोशिश की जा रही है।

दांतों को मिलेगा लंबा जीवन, स्किन दागों से मिलेगा छुटकारा

पानी में फ्लोराइड की मात्रा अधिक पाए जाने से फ्लोरोसिस जैसी दांतों की बीमारी हो जाती है। आर्सेनिक की अधिकता से त्वचा पर दाग-धब्बे संबंधी बीमारी पनप आती है। दूषित पानी से गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। शुद्ध पानी से दांतों की उम्र बढ़ेगी। त्वचा रोगों से भी छुटकारा मिलेगा। इसके अलावा उल्टी-दस्त, हैजा, टायफायड, मलेरिया, डेंगू, दांत, हड्डी, किडनी, लिवर व पाचन तंत्र से जुड़ी बीमारी का खतरा बढ़ जाता है।

किट से 12 तरह की जांच संभव

फील्ड जांच किट से पानी की गुणवत्ता की जांच होगी। पानी की 12 तरह की जांच संभव होगी। नल, कुंआ, हैण्डपम्प, ट्यूबवेल के पानी की गुणवत्ता परखी जा सकेगी। पीने के पानी में फ्लोराइड, आर्सेनिक जैसे घातक तत्वों की अधिकता पाए जाने पर जल निगम उस जल श्रोत को बंद करने या फिर समस्या के समाधान के प्रयास करेगा।

प्रत्येक गांव की महिलाएं जुड़ेंगी

गांव की महिलाओं का चयन होगा। प्रत्येक राजस्व ग्राम में 5 महिलाओं का चयन विकास खंड स्तरीय कमेटी करेगी। जिसके सदस्य विकास खंड अधिकारी, संबंधित जनपद के अधिशासी अभियंता, सहायक अभियंता, अवर अभियंता होते हैं। इनकी सहमति से महलाओं का चयन किया जा रहा है।

यहां तेजी से बढ़ रहा अभियान

शाहजहांपुर, बिजनौर, फिरोजाबाद, पीलीभीत, बदायूं, बरेली, मुरादाबाद, बुलंदशहर, अम्बेडकरनगर, संभल के राजस्व गांवों में सर्वाधिक महिलाओं का प्रशिक्षण कार्यक्रम पूरा कर लिया गया है। ये महिलाएं पानी का नमूना एकत्र कर रही हैं। नमूनों जांच के लिए जल संस्थान भेजे जा रहे हैं।

ग्रामीण इलाकों में पीने के पानी की पर्याप्त आपूर्ति के साथ ही बेहतर स्वास्थ्य और रोजगार की दिशा में भी जल जीवन मिशन के तहत काम हो रहा है। विभागीय अधिकारी और कर्मचारी अथक परिश्रम कर रहे हैं। इसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। भविष्य में यह तस्वीर और बेहतर होगी। मोदी जी की मंशा के अनुरूप गांव, किसान और महिलाओं की स्थिति तेजी से बदल रही है।

About reporter

Check Also

आगरा में निकली केंद्रीय मंत्री बघेल की भव्य तिरंगा यात्रा

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें आगरा। आज आगरा व्यापार मंडल द्वारा आयोजित तिरंगा ...