Breaking News

महंगाई, UPI और जनधन को लेकर क्‍या बोले PM नरेंद्र मोदी, पढ़ें इंटरव्‍यू की 10 बड़ी बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने moneycontrol.com को द‍िए इंटरव्‍यू के दौरान महंगाई, रसोई गैस, यूपीआई, जनधन और आतंकवाद समेत कई सवालों के जवाब द‍िए हैं. पीएम मोदी ने कहा क‍ि प्रतिकूल परिस्थितियों और वैश्विक गतिशीलता के बावजूद भारत की मुद्रास्फीति 2022 में वैश्विक औसत दर से दो प्रतिशत अंक कम थी.

पढ़ें इंटरव्‍यू की 10 बड़ी बातें

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा क‍ि मुद्रास्फीति एक प्रमुख मुद्दा है जिसका दुनिया सामना कर रही है. उन्‍होंने कहा क‍ि पहले महामारी और फिर युद्ध ने वैश्विक मुद्रास्फीति की गतिशीलता को बदल दिया है. इसके चलते व‍िकस‍ित देशों और उभरती अर्थव्यवस्थाओं दोनों को उच्च मुद्रास्फीति (हाई इन्फ्लेशन ) का सामना करना पड़ रहा है. यह एक वैश्विक मुद्दा है जिसमें निकट सहयोग की आवश्यकता है. उन्‍होंने कहा क‍ि हमारी G20 की अध्यक्षता के दौरान, G20 वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंक गवर्नरों की एक बैठक हुई थी. इस फोरम ने माना है कि यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि मुद्रास्फीति से निपटने के लिए प्रत्येक देश द्वारा अपनाई गई नीतियों का अन्य देशों पर नकारात्मक प्रभाव न पड़े. इसके अलावा, यह समझ है कि सेंट्रल बैंकों द्वारा नीतिगत रुख का समय पर और स्पष्ट संचार महत्वपूर्ण है. पीएम मोदी ने इंटरव्‍यू के दौरान कहा क‍ि जहां तक भारत का सवाल है, हमने मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए कई कदम उठाए हैं. प्रतिकूल परिस्थितियों और वैश्विक गतिशीलता के बावजूद, भारत की मुद्रास्फीति 2022 में वैश्विक औसत मुद्रास्फीति दर से दो प्रतिशत अंक कम थी. फिर भी, हम इस पर आराम नहीं कर रहे हैं और लोगों के जीवन को सरल बनाने के लिए जन-समर्थक निर्णय लेना जारी रख रहे हैं. पीएम मोदी ने उदाहरण देते हुए बताया क‍ि हाल ही में उनकी सरकार ने रक्षा बंधन पर सभी उपभोक्ताओं के लिए एलपीजी की कीमतें कम कीं. पीएम मोदी ने कहा क‍ि दुन‍ियाभर में भारत अपने टेक टैलेंट (तकनीकी प्रतिभा) के लिए जाना जाता था. आज, यह अपनी तकनीकी प्रतिभा और तकनीकी कौशल दोनों के लिए जाना जाता है. खासकर डिजिटल पब्‍ल‍िक इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर (सार्वजनिक बुनियादी ढांचे) में है. जैसा कि आपने बताया, पिछले 9 वर्षों में शुरू की गई कई पहल और फोरम का अर्थव्यवस्था पर कई गुना प्रभाव पड़ रहा है. हालांकि, भारत की टेक क्रांति का न केवल आर्थिक प्रभाव पड़ा है, बल्कि गहरा सामाजिक प्रभाव भी पड़ा है. उन्‍होंने कहा क‍ि जिस ह्यूमन सेंट्र‍िक (मानव-केंद्रित) मॉडल के बारे में पहले हम बात कर रहे थे, वह प्रौद्योगिकी का उपयोग करने के तरीके में स्पष्ट रूप से दिखाई देता है. हमारे लिए, प्रौद्योगिकी लोगों को सशक्त बनाने, वंचितों तक पहुंचने और विकास और कल्याण को अंतिम मील तक ले जाने का एक साधन है. पीएम मोदी ने कहा क‍ि आज जनधन-आधार-मोबाइल (JAM) त्रिमूर्ति के कारण, यहां तक कि सबसे गरीब और सबसे कमजोर लोग भी सशक्त महसूस कर रहे हैं क्योंकि कोई भी उनके अधिकारों को छीन नहीं सकता है. महामारी के दौरान जिस तरह तकनीक ने हमें करोड़ों लोगों तक सहायता पहुंचाने में मदद की, उसे हमेशा याद रखा जाएगा. उन्‍होंने कहा क‍ि आज, जब विदेशी प्रतिनिधि भारत आते हैं, तो वे सड़क विक्रेताओं को ग्राहकों से यूपीआई के माध्यम से क्यूआर कोड के माध्यम से भुगतान करने के लिए कहते हुए देखकर आश्चर्यचकित रह जाते हैं. इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि दुनिया में होने वाले वास्तविक समय के डिजिटल लेनदेन का लगभग आधा हिस्सा भारत में होता है! यहां तक कि अन्य देश भी यूपीआई के साथ जुड़ने के इच्छुक हैं, यहां तक कि भारतीयों के पास भारत के बाहर भी यूपीआई के माध्यम से भुगतान करने का विकल्प है! आज लाखों छोटे उद्यमियों को सरकारी ई-मार्केटप्लेस के माध्यम से सार्वजनिक खरीद का हिस्सा बनने में समान अवसर मिलने का लाभ मिल रहा है. पीएम मोदी ने कहा क‍ि महामारी के दौरान, COWIN टेक प्‍लेटफार्म की मदद से हमने 200 करोड़ से अधिक लोगों तक वैक्सीन मुफ्त खुराक पहुंचाई. हमने प्लेटफार्म को पूरी दुनिया के उपयोग के लिए ओपन-सोर्स भी बनाया है. पीएम मोदी ने कहा क‍ि जब महामारी आई, तो सबको यह जिज्ञासा थी कि भारत कैसा प्रदर्शन करेगा. हमने स्पष्ट और समन्वित दृष्टिकोण के साथ महामारी से लड़ाई लड़ी. हमने गरीबों और कमजोर लोगों की जरूरतों का ख्याल रखा. हमारे डिजिटल सार्वजनिक बुनियादी ढांचे ने हमें कल्याणकारी सहायता के साथ सीधे उन तक पहुंचने में मदद की. दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन अभियान ने 200 करोड़ खुराकें मुफ्त प्रदान कीं. हमने 150 से अधिक देशों को टीके और दवाएं भी भेजीं. यह माना गया कि प्रगति की हमारी मानव-केंद्रित दृष्टि ने महामारी से पहले, महामारी के दौरान और उसके बाद काम किया था. साथ ही, हमारी अर्थव्यवस्था लंबे समय तक एक ग्‍लोबल ब्राइट स्‍पॉट थी और तब भी बनी रही जब दुनिया संघर्ष के बहुआयामी प्रभाव का सामना कर रही थी. पीएम मोदी ने कहा क‍ि इसके अलावा, चाहे वह क्रिप्टो हो या साइबर आतंकवाद, तकनीक से संबंधित मुद्दों पर वैश्विक सहयोग के लिए भारत के आह्वान को विश्वसनीय माना जाता है, क्योंकि हम एक ऐसा राष्ट्र हैं जिसके पास सार्वजनिक क्षेत्र में नवाचार और प्रौद्योगिकी को अपनाने का गहरा अनुभव है. उन्‍होंने कहा है क‍ि आतंकवाद से लेकर काले धन तक, आपूर्ति श्रृंखला लचीलेपन से लेकर जलवायु-सचेत विकास तक, हमने पिछले कुछ वर्षों में उभरती चर्चाओं और कार्यों में महत्वपूर्ण योगदान दिया है. जी20 में उठाए जाने के बाद इन मुद्दों पर वैश्विक सहयोग में भी सराहनीय विकास हुआ है. बेशक, सुधार की गुंजाइश हमेशा रहती है, जैसे ग्लोबल साउथ की अधिक भागीदारी और अफ्रीका की बड़ी भूमिका आदि. ये वे क्षेत्र हैं जिन पर भारत अपनी G20 अध्यक्षता के दौरान काम कर रहा है. पीएम मोदी ने कहा क‍ि हमारी G20 अध्यक्षता के अंत तक, सभी 28 राज्यों और 8 केंद्र शासित प्रदेशों के 60 शहरों में 220 से अधिक बैठकें हो चुकी हैं. लगभग 125 देशों के 1 लाख से अधिक प्रतिभागियों ने भारत का दौरा किया है. हमारे देश में 1.5 करोड़ से अधिक लोग इन कार्यक्रमों में शामिल हुए हैं या इनके विभिन्न पहलुओं से अवगत हुए हैं. इस पैमाने की बैठकें आयोजित करना और विदेशी प्रतिनिधियों की मेजबानी करना एक ऐसा प्रयास है जो इंफ्रास्ट्रक्चर, लॉजिस्टिक्स, क्म्युनिकेशन स्किल, हॉस्पिटैलिटी और सांस्कृतिक गतिविधियों के मामले में महान क्षमता निर्माण की मांग करता है. जी20 प्रेसीडेंसी का हमारा लोकतंत्रीकरण देश भर के विभिन्न शहरों के लोगों, विशेषकर युवाओं की क्षमता निर्माण में हमारा निवेश है. इसके अलावा, यह जनभागीदारी के हमारे आदर्श वाक्य का एक और उदाहरण है- हमारा मानना ​​है कि किसी भी पहल की सफलता में लोगों की भागीदारी सबसे महत्वपूर्ण कारक है. पीएम मोदी से जब पूछा गया क‍ि आप 72 वर्ष के हैं, लेकिन आपकी ऊर्जा का स्तर बहुत ज्‍यादा है और ऐसी क्‍या चीज है जो आपको सक्रिय रखती है? तो उन्‍होंने कहा क‍ि दुनिया भर में ऐसे कई लोग हैं जो किसी मिशन के लिए अपनी ऊर्जा, समय और संसाधनों का पूरा उपयोग करते हैं. ऐसा नहीं है कि मैं इस मामले में अकेला या असाधारण हूं. राजनीति में प्रवेश करने से पहले कई दशकों तक, मैं समाज के साथ जमीनी स्तर पर, लोगों के बीच सक्रिय रूप से काम कर रहा था. इस अनुभव का एक फायदा यह हुआ कि मैं ऐसे कई प्रेरणादायक लोगों से मिला, जिन्होंने खुद को पूरी तरह से एक उद्देश्य के लिए समर्पित कर दिया. दूसरा पहलू महत्वाकांक्षा और मिशन के बीच का अंतर है. जब कोई महत्वाकांक्षा के कारण काम करता है, तो उसके सामने आने वाला कोई भी उतार-चढ़ाव उसे परेशान कर सकता है. क्योंकि महत्वाकांक्षा पद, शक्ति, सुख-सुविधाओं आदि के प्रति लगाव से आती है. लेकिन जब कोई किसी मिशन के लिए काम करता है तो उसे व्यक्तिगत लाभ कुछ नहीं होता, इसलिए उतार-चढ़ाव का उन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ सकता. किसी मिशन के प्रति समर्पित होना अनंत आशावाद और ऊर्जा का एक निरंतर स्रोत है. इसके अलावा, मिशन की भावना के साथ-साथ अनावश्यक मामलों से अलगाव की भावना भी आती है जो ऊर्जा को पूरी तरह से महत्वपूर्ण चीजों पर केंद्रित करने में मदद करती है. मेरा मिशन अपने देश और अपने लोगों के विकास के लिए काम करना है. इससे मुझे बहुत ऊर्जा मिलती है, खासकर इसलिए क्योंकि हमें अभी लंबा रास्ता तय करना है. पीएम मोदी ने कहा क‍ि भारत पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया और यह वास्तव में महत्वपूर्ण है, लेकिन जिस तरह से हमारे देश ने यह किया, मुझे लगता है, वह उतना ही महत्वपूर्ण है. यह एक उपलब्धि है क्योंकि वहां एक ऐसी सरकार है जिस पर लोगों को भरोसा है और बदले में सरकार को भी लोगों की क्षमताओं पर भरोसा है. उन्‍होंने कहा क‍ि यह हमारे लिए सौभाग्य और सम्मान की बात है कि लोगों ने हम पर अभूतपूर्व भरोसा किया है. उन्होंने हमें सिर्फ एक बार नहीं, बल्कि दो बार बहुमत का जनादेश दिया. पहला जनादेश वादों को लेकर था. दूसरा, इससे भी बड़ा जनादेश, प्रदर्शन और देश के लिए हमारी भविष्य की योजना दोनों के बारे में था. इस राजनीतिक स्थिरता के कारण, हर दूसरे क्षेत्र में गहरे संरचनात्मक सुधार देखने को मिल सकते हैं. अर्थव्यवस्था, शिक्षा, सामाजिक सशक्तिकरण, कल्याण वितरण, बुनियादी ढांचा- मैं उन क्षेत्रों का उल्लेख करना जारी रख सकता हूं, जिनमें सुधार हुए हैं. पीएम मोदी ने आगे कहा क‍ि भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश साल-दर-साल रिकॉर्ड तोड़ रहा है, सेवाओं और वस्तुओं दोनों में निर्यात रिकॉर्ड टूट रहा है, मेक इन इंडिया ने सभी क्षेत्रों में बड़ी सफलता हासिल की है, स्टार्टअप और मोबाइल विनिर्माण ने चमत्कार किया है. बुनियादी ढांचे का निर्माण हुआ है ऐसी गति से हो रहा है जो पहले कभी नहीं देखा गया और इन सभी से हमारे युवाओं के लिए बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर बढ़ रहे हैं. विकास का लाभ अंतिम छोर तक पहुंचाया जा रहा है. एक व्यापक सामाजिक सुरक्षा जाल हमारे गरीबों की रक्षा करता है जबकि सरकार गरीबी के खिलाफ उनकी लड़ाई में हर कदम पर उनकी सहायता कर रही है. केवल 5 वर्षों में हमारे 13.5 करोड़ से अधिक लोगों के बहुआयामी गरीबी से बाहर आने के साथ, एक महत्वाकांक्षी नव-मध्यम वर्ग आकार ले रहा है और समाज का यह वर्ग विकास को और भी आगे बढ़ाने के लिए तैयार है.

About News Desk (P)

Check Also

‘सब राजनीतिक ड्रामा..’ एमयूडीए में कथित घोटाले को लेकर BJP के धरने पर भड़के डिप्टी CM डीके शिवकुमार

कर्नाटक: कर्नाटक में मैसुरु शहरी विकास प्राधिकरण (एमयूडीए) द्वारा भूखंड आवंटित करने में कथित फर्जीवाड़े के ...