Breaking News

क्या अब अमेरिका में होगा पाकिस्तान-श्रीलंका जैसा हाल ? इस वजह से बढ़ी राष्ट्रपति जो बाइडन की चिंता

अमेरिका में महंगाई बेकाबू होती दिख रही है। तमाम अनुमानों को झुठलाते हुए मुद्रास्फीति दर मई में 8.6 फीसदी तक पहुंच गई। अमेरिकी महंगाई दर चार दशक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई थी। इससे फेडरल रिजर्व पर ब्याज दर बढ़ाने का दबाव बढ़ गया है।

निवेशकों की बिक्री बढ़ेगी और भारतीय बाजार में और गिरावट आएगी।अमेरिका में मई महीने के मुद्रास्फीति के आंकड़े, अमेरिकी मुद्रास्फीति के आंकड़े) सामने आए हैं। अमेरिकी श्रम विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक मई महीने में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक यानी खुदरा महंगाई (खुदरा महंगाई) 4 दशक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई. मई में सीपीआई सालाना आधार पर 8.6 फीसदी था। इसमें मासिक आधार पर एक प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है।

महंगाई के नए आंकड़े सामने आने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा- ‘अमेरिका के लोग चिंतित हैं और मैं इस बात को समझता हूं। उनके चिंतित होने का ठोस कारण है। (रूसी राष्ट्रपति व्लादीमीर) पुतिन टैक्स का जैसा असर खाद्य पदार्थों और गैस पर हुआ है, वैसा हमने इसके पहले कभी नहीं देखा।’

अमेरिका पिछले कुछ महीनों से लगातार उच्च मुद्रास्फीति (उच्च मुद्रास्फीति दर) की स्थिति से जूझ रहा है। भोजन और अन्य आवश्यक वस्तुओं की बढ़ती कीमतों ने एक अमेरिकी परिवार के लिए जीवित रहना बहुत मुश्किल बना दिया है। इससे सबसे ज्यादा नुकसान अश्वेत समुदाय और निम्न आय वर्ग के लोगों को हो रहा है।

About News Room lko

Check Also

South Africa के एक नाइट क्लब में हुई 17 लोगों की मौत, मामले की छानबीन में लगी पुलिस

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें दक्षिण अफ्रीका से रविवार को बड़ी घटना सामने ...