Breaking News

काम की बात: आज से ही अपना लें ये घरेलू नुस्खे, कुछ नहीं कर पाएगा कोरोना

केरोना एक बार फिर बढ़ रहा है। यहां सब से बड़ी तकलीफ यह है कि ठंडी में शर्दी-खांसी-बुखार की समस्या रहती ही है। जिसकी वजह से लोग कोरोना को इग्नोर कर रहे हैं और जिससे कफ तथा शर्दी में वायरस को शरीर के अंदर तेजी से फैलने का माहौल मिलता है। सब से पहले बाॅडी की इम्युनिटी पर अटैक होता है। ऐसे में अगर रोगप्रतिरोधक क्षमता घटती है तो यह मैकेनिज्म बिगाड़ता है। इसलिए इम्युनिटी को पहले से ही स्ट्रांग रखना जरूरी है। इसलिए रोजाना की खुराक में कुछ नेचुरल हर्ब्स को शामिल करना जरूरी हो गया है। इसके बारे में आप क्या करें कि उपाय कारगर रहे।

जिम्मेदार नागरिक होने के लिए चरित्र शिक्षा की जरूरत

0 क्या है कोरोना का नया वैरियंट
इस समय चीन में कोरोना का जो नया वायरस देखने को मिल रहा है, उसका नाम बीएफ.7 है। इसे सब से तेजी से फैलने वाला वैरियंट माना जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो बीएफ.7 से संक्रमित एक व्यक्ति 18 लोगों में संक्रमण फैला सकता है। बीएफ.7 एमिक्रोन का सब वैरियंट है। इसे कोरोना का चौथी पीढ़ी कहा जा सकता है। इसने कुछ अधिक ही कहर बरपाया है। इसका संक्रमण देश में सीमित है, परंतु धीरे-धीरे बढ़ सकता है।

0 किन चीजों के खाने से बचा जा सकता है कोरोना से
कोरोना से बचने के लिए ऐसे फूड डायट में शामिल करें, जो रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं और कफ-शर्दी होने से रोकें। सीजनल बीमारी से बचने पर कोरोना जल्दी हावी नहीं हो पाएगा। इम्युनिटी स्ट्रांग होने पर कोरोना से तेजी से रिकवरी हो सकेगी। मास्क यूज करें और हैंड सेनेटाइजर की आदत डालें। ऐसा करने से वायरस का लोड कम होगा और कोरोना के संक्रमण में आने पर भी वायरस का लोड घटेगा। जल्दी ही संक्रमण से राहत भी मिलेगी। तो जानिए क्या करने से लाभ होगा।

  • मुलैठी और शहद का सेवन दिन में एक बार करें। एक चम्मच शहद और एक चौथाई चम्मच मुलैठी का चूर्ण ले कर अंगुली से धीरे-धीरे चाटें। इससे रेस्परेट्री यानी सांस का इन्फेक्शन नहीं होगा।
  • हल्दी वाला दूध पिएं। रात को खाने के दो घंटे बाद एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर पीने से रोगप्रतिरोधक क्षमता मजबूत होगी।
  • तुलसी-अदरक-कालीमिर्च-गुड़ की चाय दिन में एक बार पीने से डाइजेशन और इम्युनिटी अच्छी रहेगी।
  • अगर गले में खरांश का अनुभव हो तो समझ जाएं कि किसी शर्दी-जुकाम-बुखार वाले का संक्रमण लगा है, इसलिए उपर्युक्त नुस्खे आजमाएं।
    गले में खरांश हो तो रात को ब्रश कर के सोएं। सोते समय मुंह में दांतों के बीच लौंग दबा कर रखें। इससे संक्रमण नहीं बढ़ेगा।
                स्नेहा सिंह

About Samar Saleel

Check Also

घर की रसोई में इन छोटी-छोटी बीमारियों का इलाज, आज से ही शुरू करें सेवन

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें सर्दियों में कई अनचाही मौसमी बीमारियों हो जाती ...