Breaking News

रक्षामंत्री के प्रतिनिधियों ने किया विकास कार्यों का निरीक्षण

लखनऊ। जमुना झील पर शुरू होने वाले पुनः निर्माण कार्यों का रक्षा मंत्री के सांसद प्रतिनिधि दिवाकर त्रिपाठी और डॉ राधवेन्द्र शुक्ला ने निरिक्षण किया। इस दौरान लविप्र के उपाध्यक्ष इन्द्रमणि त्रिपाठी, विकास प्रधिकरण के अन्य अधिकारी भी उपस्थित रहे।

इनमें नजूल अधिकारी अरविन्द त्रिपाठी, केपी. गुप्ता सहायक अभियन्ता जितेन्द सिंह अवर अभियंता, आशीष मौर्या, उदय, दीपक जयसवाल भी शामिल थे। डॉ राघवेन्द्र शुक्ला ने बताया कि उक्त जमुनाझील का कार्य मुख्यमंत्री की अमृत सरोवर योजना से शीघ्र शुरू किया जाएगा। जिसे रंधावा ब्रोसन्स इण्टर प्राइजेस लि०द्वारा किया जाएगा।

पार्क का बकाया विधुत बिल का भुगतान किया जा चुका है, नये बिधुत कनेक्शन के लिए आवेदन किया जा चुका हैं। अधिशासी अभियंता ने कहा है की सोमवार को नया विधुत कनेक्शन हो जाएगा। उपाध्यक्ष ने फोन द्वारा रंधावा बोसन्स के एमडी से बात की। उन्होंने बताया विधुत कनेक्शन होने के बाद शीघ्र अति शीघ्र हमारी फर्म द्वारा बबल बॉयलर विधि से झील की सफाई का कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

वीसी ने कहा झील के आस-पास खाली पड़ी जमीनों को भी जोड़कर पार्को का निमार्ण करेगें। आस-पास के लोगों ने बताया कि बाबा नाम के व्यक्ति ने झील को पाटकर कई बीघे में फर्जी सत्संग भवन गौशाला रिक्शा कालोनी कई पक्के भवन का निर्माण कर चुका है। सूचना प्राप्त होते ही लविप्रा के वीसी दल बल के साथ कब्जे वाले स्थान पर पहुँचे और मानचित्र निकलवा कर मौके का मुआयना किया, जिसमें उन्होंने पाया गया कि लोगों द्वारा की गयी कब्जों की शिकायत बिल्कुल सही है।

इसके बाद वीसी ने अपने मताहतों को उक्त कब्जेदार के ऊपर मुकदमा दर्जकरा कर कार्यवाही के आदेश दिए। इस मौके पर सांसद प्रतिनिधि डा. राघवेन्द्र शुक्ला ने झील बचाओ अभियान की प्रशंसा की और कहा अब अभियान के संरक्षक गनेश कनौजिया और संयोजक अभय गौरव बाजपेई की मेहनत रंग लाने जा रही है।

निरीक्षण के समय झील बचाओ अभियान के सदस्य उमाशंकर सिंह, जितेन्द्र गाँधी, रोहित शर्मा, अमित वर्मा, रमाकान्त, संजूश्रीवास्तव, सचिन जयसवाल, हनी कनौजिया, मूलचन्द वर्मा, पप्पू गुप्ता मौजूद रहे। इसके उपरान्त सांसद प्रतिनिधियों समेत लविप्रा वीसी ने ऐशबाग भारत धर्म काँटा के बगल से जाने वाले मार्ग का निरीक्षण किया। उक्त मार्ग ऐशबाग के स्लाटर हाउस पर जाकर बन्द हो जाता है।

इस मार्ग को जमुनाझील के बगल से होते हुए करेहटा काली मन्दिर से जोडने का प्रस्ताव दिया गया था। इसके बाद मिलरोड पर बनने वाले सामुदायिक केन्द्र की भूमि का निरीक्षण किया इनमें से कई योजनाओं की शुरूआत शीघ्र हो सकती है ल, जिससे ऐशबाग व आस-पास के लोगों को लाभ मिल सकेगा।

About Samar Saleel

Check Also

बिजली उपभोक्ताओं को झटका, प्रदेश में 15 से 30 फीसदी तक महंगी हो सकती है घरेलू बिजली

प्रदेश के विद्युत वितरण निगमों की ओर से विद्युत नियामक आयोग में बृहस्पतिवार को वार्षिक ...