Breaking News

अछल्दा में भाकियू की पंचायत में किसानों की समस्याओं पर हुई चर्चा, किसानों व समाजसेवियों को किया गया सम्मानित

बिधूना। तहसील के विकास खंड अछल्दा के ग्राम नगला कले में भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक की जिला स्तरीय पंचायत का आयोजन हुआ। जिसमें किसानों की खाद बीज आदि विभिन्न समस्याओं पर चर्चा किए जाने के साथ समस्याओं के निराकरण न‌ होने पर आर-पार की लड़ाई लड़ने की भी हुंकार भरी गयी। इसके अलावा किसानों व समाजसेवियों को सम्मानित भी किया गया।

भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक की किसान पंचायत को संबोधित करते हुए संगठन के जिलाध्यक्ष अनिल यादव ने कहा कि ट्रैक्टर ट्रॉली किसानों के कृषि समेत विभिन्न समस्याओं के निराकरण का प्रमुख साधन है। इसके बावजूद सरकार ने ट्रैक्टर ट्राली पर प्रतिबंध लगाकर किसानों की मुसीबतें बढ़ा दी हैं। सरकार द्वारा कटीले तारों पर रोक लगाने से किसानों की फसलें आवारा जानवरों से नहीं बच सकेंगी।

उन्होंने कहा कि इस समय किसानों को खाद बीज की बड़े पैमाने पर जरूरत है। किंतु खाद की भीषण किल्लत से किसान जूझ रहे हैं। किसानों को #डीएपी के साथ मनमाने रुपए वसूल कर नैनो नामक रसायन दिया जा रहा है, जो किसानों की फसलों के लिए लाभकारी साबित नहीं हो रही है। इसके अलावा किसानों को फसल का वाजिब मूल्य भी नहीं मिल रहा है।

जिलाध्यक्ष यादव ने कहा कि सरकार से ज्यादा अधिकारी भ्रष्टाचार कर रहे हैं और यह अधिकारी किसानों के साथ सबसे अधिक दिक्कतें पैदा कर उनका अपमान भी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय किसान यूनियन (#भाकियू) अराजनैतिक किसानों के हितों के लिए आर-पार की लड़ाई लड़ने को पूरी ताकत से तत्पर है। किसानों की भी जिम्मेदारी है कि वह एकजुट होकर यूनियन के साथ खड़े होकर बाजिब हक की लड़ाई में सहयोग करें।

इस मौके पर अशोक कुमार, संजीव कुमार, अजब सिंह, दलेल सिंह, विजय पाल सिंह, रक्षपाल सिंह व रामरतन समेत लगभग एक दर्जन किसानों को संगठन की सदस्यता दिलाई गई। किसान यूनियन के नेताओं द्वारा कई किसानों व समाजसेवियों के योगदान की सराहना करते हुए उन्हें पगड़ी पहनाकर एवं शाल ओढ़ाकर सम्मानित भी किया गया।

इस अवसर पर भाकियू के अनुसूचित जाति जनजाति मोर्चा के जिलाध्यक्ष अमरीश दिवाकर, तहसील अध्यक्ष औसान सिंह, अध्यक्ष ब्लाक अछल्दा सोनू यादव, प्रधान श्याम सिंह, ब्लॉक अध्यक्ष गीता, जिला उपाध्यक्ष अखिलेश कुमारी, विश्वनाथ आचार्य, नितिन त्रिपाठी, श्यामू दुबे आदि कई प्रमुख किसान नेताओं ने भी किसान समस्याओं के लिए संघर्ष करने की हुंकार भरी।

रिपोर्ट – संदीप राठौर चुनमुन/राहुल तिवारी

About Samar Saleel

Check Also

परिवार से दूर रहकर काम-धंधे के साथ बीमारी को मात देना कठिन पर असम्भव नहीं- बलिराम कुमार खैरवार

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें • प्रवासी कामगार बलिराम की मानो बात- लक्षण ...