Breaking News

Feroze Gandhi : बहुत कम लोग जानते हैं ये बाते…

रायबरेली। गांधी परिवार से ताल्लुक रखने वाले Feroze Gandhi फिरोज गांधी के नाम राजनीतिक गलियारे में हर कोई जानता है लेकिन यह बात काफी कम लोग जानते है कि सोनिया गांधी की रायबरेली सीट पर वह पहले सांसद थे। उनके जन्म तिथि के अवसर पर जानते हैं उन्से जुड़ी रोचक बातें…

Feroze Gandhi का जन्म 12 सितंबर, 1912 को

फिरोज गांधी Feroze Gandhi का जन्म 12 सितंबर, 1912 को हुआ था। सरकार की आधिकारिक वेबसाइट एफजीआर्ईइटी डॉट एसी डॉट इन के मुताबिक फिरोज गांधी के पिता की मृत्यु के बाद इनकी पर्ढ़ाइ इनके ननिहाल इलाहाबाद में र्हुइ थी। फिरोज गांधी ने 1930 में भारतीय राजनीति में कदम रखा था।
इसके कुछ समय बाद ही भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सक्रिय सदस्य बन गए थे। फिरोज गांधी भारत छोड़ो आंदोलन के एक प्रमुख और सक्रिय सदस्यों में एक थे। इस दौरान इन्हें ब्रिटिश सरकार ने कई बार गिरफ्तार कर जेल भी भेजा था। फिरोज बेबाक अंदाज और निडरता के लिए जाने जाते थे।
फिरोज गांधी एक प्रतिष्ठित पत्रकार होने के साथ ही दिल्ली और लखनऊ से प्रकाशित “द नेशनल हेराल्ड“ के प्रबंध निदेशक थे। इसके अलावा वह लखनऊ से प्रकाशित पेपर के उर्दू और हिंदी संस्करण के मामलों को भी देखते थे।

इंदिरा नेहरू से विवाह हुआ

वह 1952 में रायबरेली से संसद सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए थे। इसके बाद दूसरी बार 1957 में फिर से निर्वाचित हुए थे। फिरोज गांधी का 1942 में स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की बेटी इंदिरा नेहरू से विवाह हुआ था। फिरोज गांधी ने अपने निर्वाचन क्षेत्र रायबरेली को शिक्षा के माध्यम से रायबरेली को बदलने का फैसला लिया था।

Loading...

हार्टअटैक की वजह से

रायबरेली के विकास के लिए एक डिग्री कॉलेज और दूसरे संस्थानों की स्थापना कर्राइ थी। फिरोज गांधी ने 8 सितंबर, 1960 को हार्टअटैक की वजह से दुनिया को अलविदा कह दिया। इनके निधन बड़ी संख्या में लोग दुखी हुए थे। हालांकि इनके निधन के बाद इंदिरा ने रायबरेली को अपनाया था।
इंदिरा ने अपने पति फिरोज गांधी के अधूरे सपनों को पूरा करने की जिम्मेदारी बखूबी उर्ठाइ। इंदिरा ने रायबरेली में 1976 में फिरोज गांधी पॉलिटेक्निक की स्थापना कर्राइ। बता दें आज भी रायबरेली में गांधी परिवार कब्जा है। फिरोज के बाद उनकी बहू सोनिया गांधी भी वहां सांसद का चुनाव जीत चुकी हैं।

रत्नेश मिश्रा
रत्नेश मिश्रा

 

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

तकनीकी कारणों से 85 मिनट लेट रही तेजस एक्सप्रेस, यात्रियों को बदले में मिला इतने रूपए का मुआवज़ा

पश्चिम रेलवे पर तकनीकी कारणों से बुधवार को दहिसर और भाईंदर के बीच ओवरहेड वायर ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *