Breaking News

विश्वविद्यालयों की बेस्ट प्रैक्टिस व नवाचार पर राज्यपाल का बल

राज्यपाल ने विश्वविद्यालय के शोध विषयों में भी नवीनता लाने पर ज़ोर दिया। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा अनेक जनकल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही हैं। ऐसी योजनाओं से उत्पन्न सामाजिक बदलावों को शोध का विषय बनाकर केन्द्र से अच्छी ग्रान्ट भी प्राप्त की जा सकती है।

लखनऊ। राज्यपाल आनन्दी बेन विश्वविद्यालयों को नैक तैयारियों के संबन्ध में दिशा निर्देश देती रही है। इसके दृष्टिगत उन्होंने विश्वविद्यालय द्वारा बेस्ट प्रैक्टिस के तहत गांवों तक जाकर किए गए विविध कार्यों तथा स्वास्थ्य की देखभाल की प्रगति का पुनरावलोकन का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि यदि विद्यार्थी किसी उत्पाद का निर्माण करते हैं तो उसे बिक्री कराकर विद्यार्थियों को उसका लाभ प्रदान किया जाये।

विश्वविद्यालयों की बेस्ट प्रैक्टिस व नवाचार पर राज्यपाल का बल

विश्वविद्यालय के कार्यों में विद्यार्थियों की सहभागिता बढ़ाने के प्रयास करने चाहिए। उनकी अतिरिक्त गतिविधियों में गांवों का इतिहास तैयार कराना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति को पोषित करने वाले लोक साहित्य के संकलन पर जोर दिया। भारत में बच्चों को सुलाने के लिए माँएं लोरी गाती थीं, विवाह समारोहों के विविध आयोजनों और शुभ मुहूर्तों पर महिलाएं विविध प्रकार के मंगल गीत गाती थीं। यह सब आधुनिक समाज में विलुप्त होते जा रहे रहे हैं। ऐसे गीतों को विश्वविद्यालय अपने स्तर से संकलित कराने का कार्य करा सकते हैं।

राज्यपाल ने विश्वविद्यालय के शोध विषयों में भी नवीनता लाने पर ज़ोर दिया। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा अनेक जनकल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही हैं। ऐसी योजनाओं से उत्पन्न सामाजिक बदलावों को शोध का विषय बनाकर केन्द्र से अच्छी ग्रान्ट भी प्राप्त की जा सकती है। आनंदीबेन पटेल ने राजभवन स्थित प्रज्ञा कक्ष में ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती भाषा विश्वविद्यालय, लखनऊ के नैक मूल्यांकन हेतु तैयारियों की समीक्षा की। प्रस्तुतीकरण के दौरान राज्यपाल जी ने अनेक बिन्दुओं पर सुधार के लिए आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि तैयारियों को बेहतर करने के लिए समितियां बनाकर कार्य किया जाये। मूल्यांकन के लिए नैक संबधी मानकों के अनुरूप सभी बिन्दुओं पर जिम्मेदारियों का विभाजन करते हुए व्यवस्था बनाई जाए।

ज्ञात हो कि नैक द्वारा विश्वविद्यालयों के स्तर का मूल्यांकन 75 प्रतिशत डेटा आधारित तथा 25 प्रतिशत विजिट आधारित होता है। इसके लिए सम्पूर्ण मूल्यांकन की सात श्रेणियों निर्धारित हैं। इस विश्वविद्यालय द्वारा नैक मूल्यांकन के लिए पहली बार प्रयास हेतु तैयारियां की जा रही है। राज्यपाल ने कुछ दिन पहले लखनऊ में आयोजित दो दिवसीय नैक मंथन कार्यशाला में विशेषज्ञों द्वारा दिए गए प्रशिक्षण के अनुरूप कमियों को दूर करते हुए तैयारी को बेहतर करने का निर्देश दिया। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय भाषाओं के साथ साथ भारत की क्षेत्रीय भाषाओं के पाठ्यक्रमों को बेहतर करने,पाठ्यक्रमों को रोजगारपरक बनाने कि दिशा में सार्थक प्रयास करने, पुराने छात्रों को संस्थान से जोड़कर प्रगति मेें उनके योगदान पर भी विचार व्यक्त किये।

About reporter

Check Also

चिंता का सबब बनता गिरता हुआ रुपया

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा दरों में 50 आधार ...