Breaking News

कैलिफ़ोर्निया में तेज़ हवाएं बारिश और हिमपात, 62 लोगों की मौत

अमेरिका में बर्फीले तूफान का कहर जारी है। अब तक 60 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। स्थिति बिगड़ने के बाद राष्ट्रपति जो बाइडेन ने न्यूयॉर्क में इमरजेंसी की घोषणा की है।

बर्फीले तूफान के कारण कई फ्लाइट्स को भी रद्द किया गया है, जबकि कुछ इलाकों में ड्राइविंग पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुछ इलाकों में बर्फ की मोटी चादर के बीच कारों से लोगों की लाशें भी मिल रही है। मौसम विभाग के विशेषज्ञों की मानें तो ये बर्फीला तूफान आर्कटिक डीप फ्रीज (Arctic Deep Freeze) की वजह से आया है।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, देश के विभिन्न हिस्सों में कुल 62 लोगों के मारे जाने की सूचना मिली है, जिसमें बफेलो इलाका सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। यहां 43 इंच बर्फबारी हुई है, जिससे लोगों का जनजीवन पूरी तरह प्रभावित हुआ है। मध्य फ्लोरिडा में भी तापमान 27 डिग्री (शून्य से 2.7 सेल्सियस) कम हो गया है।

बफ़ेलो में कारों, घरों और स्नोबैंक में लोग मृत पाए गए हैं। कहा जा रहा है कि बर्फ हटाने के दौरान कुछ लोगों की मौत हो गई, जबकि कुछ अन्य की मौत तब हुई जब आपातकालीन कर्मचारी समय पर चिकित्सा संकट का जवाब नहीं दे सके। बर्फ के साफ होने या पिघलने के कारण और शव मिलने की उम्मीद है।

कहा जा रहा है कि बर्फीले तूफान की वजह से कुछ लोग कई दिनों से कार में फंसे रहे जिससे उनकी मौत हो गई। वहीं, कई शहरों में एयरपोर्ट को भी बंद कर दिया गया है। कई फ्लाइट्स कैंसिल कर दी गईं हैं। मंगलवार की देर रात 4,000 से अधिक घरों और व्यवसायों में अभी भी बिजली नहीं थी।

सड़कों पर बर्फ होने के चलते मंगलवार को बफ़ेलो में ड्राइविंग पर प्रतिबंध लगा दिया गया। एरी काउंटी के कार्यकारी मार्क पोलोनकार्ज़ ने कहा कि बफ़ेलो शहर के प्रवेश द्वारों और प्रमुख चौराहों पर पुलिस को तैनात किया जाएगा। एक अधिकारी के मुताबिक, पश्चिमी न्यूयॉर्क में बर्फीले तूफान के कारण करीब 30 लोगों की मौत हुई है।

कैलिफोर्निया में कम तापमान के साथ तेज हवाएं, बारिश और बर्फबारी देखी गई। राष्ट्रीय मौसम सेवा ने कहा कि तूफान के राज्य के उत्तरी हिस्से में आने और दक्षिण में फैलने के कारण सड़कों पर पानी भरने और पेड़ों के गिरने की कई खबरें थीं।

सिएरा नेवादा के लिए शीतकालीन तूफान की चेतावनी जारी की गई, जहां मोटर चालकों को सलाह दी गई कि यात्रा खतरनाक हो सकती है। मौसम कार्यालय ने कहा कि रेनो, नेवादा के कुछ सिएरा रिजटॉप्स पर 120 मील प्रति घंटे (193 किलोमीटर प्रति घंटे) की रफ्तार से तेज हवाएं चली।

About News Room lko

Check Also

भारतवंशी लड़की की मौत के मामले में परिवार ने पुलिस पर लगाए कुप्रबंधन के आरोप, कहा- हम चुप नहीं बैठेंगे

ब्रिटेन में हुई भारतीय मूल की एक नाबालिग लड़की की हत्या के मामले में नई-नई ...