Breaking News

गृह मंत्री अमित शाह ने अस्पताल जाकर जाना हिंसा में घायल पुलिसवालों का हाल

कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले करीब दो महीने से चल रहे किसानों का आंदोलन गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली में हिंसा के बाद अब कमजोर पड़ता दिख रहा है. दिल्ली हिंसा को देखते हुए दिल्ली-नोएडा रोड पर स्थित चिल्ला बॉर्डर पर धरना दे रहे भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने बुधवार से अपना धरना वापस ले लिया. अब चिल्ला बॉर्डर के माध्यम से दिल्ली-नोएडा मार्ग 57 दिनों के बाद यातायात के लिए फिर से खुल गया.

वहीं, दिल्ली-गाजियाबाद रोड पर भी यातायात बहाल हो गई है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह घायल पुलिसवालों को देखने अस्पताल पहुचे हैं. इधर, दिल्ली हिंसा को लेकर पुलिस ने 25 से अधिक एफआईआर दर्ज की हैं और 93 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है. एक्टर दीप सिद्धू और लक्खा का भी नाम एफआईआर में दर्ज है.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह दिल्ली हिंसा में घायल पुलिस कर्मियों का हाल जानने सिविल लाइन्स स्थित अस्पताल पहुंचे हैं. ये सभी पुलिस कर्मी ट्रैक्टर परेड के दौरान 26 जनवरी को हुई हिंसा में घायल हुए थे. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सिविल लाइंस स्थित सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर में घायल पुलिस कर्मियों से मुलाकात की.

Loading...

गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों ने आरोप लगाया कि प्रशासन ने देर रात उनकी बिजली काट दी. किसानों को रात भर यह डर सताता रहा कि पुलिस देर रात पुलिस कार्रवाई कर सकती है. हालांकि, पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर मौजूद रहे. आंदोलन स्थल पर राकेश टिकैत ने कहा कि इस बाबत वह प्रशासन से बात करेंगे. उन्होंने कहा कि यह वैचारिक क्रांति है, यह खत्म नहीं होगी. चिल्ला बॉर्डर पर बीकेयू (भानू) के विरोध प्रदर्शन वापस लेने के ऐलान के बाद ही टेंट हटाए जाने लगे.

नए कृषि कानूनों को लेकर करीब दो माह से दिल्ली-नोएडा रोड पर स्थित चिल्ला बॉर्डर पर धरना दे रहे भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने बुधवार से अपना धरना वापस ले लिया. दिल्ली में मंगलवार को ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसक घटना और राष्ट्र ध्वज के अपमान से आहत होकर भानु गुट ने धरना वापस लिया है. वहीं लोक शक्ति दल ने अपना विरोध-प्रदर्शन जारी रखने की बात कही है. नोएडा यातायात पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि बीकेयू (भानु) के विरोध वापस लेने के साथ ही चिल्ला बॉर्डर के माध्यम से दिल्ली-नोएडा मार्ग 57 दिनों के बाद यातायात के लिए फिर से खुल गया.

भारतीय किसान यूनियन (भानू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानु प्रताप सिंह ने चिल्ला बॉर्डर पर एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि कल ट्रैक्टर परेड के दौरान जिस तरह से दिल्ली में पुलिस के जवानों के ऊपर हिंसक हमला हुआ तथा कानून व्यवस्था की जमकर धज्जियां उड़ाई गई, इससे वे काफी आहत हैं. गौरतलब है कि भारतीय किसान यूनियन (भानू) नये कृषि कानूनों के विरोध में चिल्ला बॉर्डर पर धरना दे रहा था. इस धरने की वजह से नोएडा से दिल्ली जाने वाला रास्ता करीब 57 दिनों से बंद था.

Loading...

About Aditya Jaiswal

Check Also

OTT, डिजिटल मीडिया और सोशल मीडिया के लिए सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस, बेहद सख्त हुए नियम

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें सरकार ने गुरुवार को सोशल मीडिया के लिए ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *