Breaking News

ऐतिहासिक चित्रों का वैचारिक आधार

डॉ. दिलीप अग्निहोत्री

गणतंत्र दिवस भारत की संप्रभुता,शौर्य और प्रजातंत्र के प्रति निष्ठा का प्रतीक है। इस दिन हमारा संविधान लागू हुआ था। संविधान सभा का विधिवत गठन नौ दिसंबर उन्नीस सौ छियालीस में हुआ था। दो वर्ष, ग्यारह महीने और अट्ठारह दिन में संविधान का निर्माण हुआ। मूल संविधान में अनेक चित्र थे। इनका निर्माण नन्दलाल बोस ने किया था। यह सभी चित्र हमारे गौरवशाली अतीत की झलक देने वाले थे। गणतंत्र दिवस पर इनकी भी चर्चा होनी चाहिए।

उन्नीस सौ उनतीस में कांग्रेस का अधिवेशन लाहौर में जवाहरलाल नेहरू की अध्यक्षता में हुआ था। इसमें छब्बीस जनवरी को स्वतंत्रता दिवस मनाने का निर्णय लिया गया था। तबसे प्रत्येक वर्ष छ्ब्बीस जनवरी को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता था।

आजादी के बाद संविधान छब्बीस नवम्बर उन्नीस सौ उनचास में बनकर तैयार हो गया था। छब्बीस जनवरी तारीख इतिहास में पहले से दर्ज थी, अतः इसी तारीख को संविधान लागू करने का निर्णय लिया गया। स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त हो चुका था, इसलिए संविधान छब्बीस जनवरी उन्नीस सौ पचास को लागू किया गया।यह दिन हमारा गणतंत्र दिवस बन गया।

तीन सौ आठ सदस्यों ने चौबीस जनवरी उन्नीस सौ पचास को संविधान की दो हस्तलिखित कॉपियों पर हस्ताक्षर किए थे। मूल संविधान के चित्रो की जानकारी दिलचस्प है। मूल संविधान में प्रत्येक अध्याय के प्रारंभ में दिए गए चित्रों की जानकारी भी नई पीढ़ी को होनी चाहिए। प्रारंभ में अशोक की लाट का चित्र है। प्रस्तावना को सुनहरे बार्डर से घेरा गया है, जिसमें मोहनजोदड़ो के घोड़ा, शेर, हाथी और बैल के चित्र बने हैं। भारतीय संस्कृति के प्रतीक कमल का भी चित्र है। अगले भाग में मोहन जोदड़ो की सील है। इसके बाद वैदिक काल की झलक है। इसमें ऋषि आश्रम में बैठे गुरु-शिष्य और यज्ञशाला है। मूल अधिकार वाले भाग के प्रारंभ में त्रेतायुग है। इसमें भगवान राम रावण को हराकर सीताजी को लंका से वापस ले कर आ रहे हैं। राम धनुष-बाण लेकर आगे बैठे हुए हैं और उनके पीछे लक्ष्मण और हनुमान हैं। नीति निर्देशक तत्वों के प्रारंभ में श्रीकृष्ण भगवान का गीता उपदेश वाला चित्र है। भारतीय संघ के पांचवें भाग में गौतम बुद्ध की जीवन-यात्रा से जुड़ा एक दृश्य है।

संघ और उनका राज्य क्षेत्र एक में भगवान महावीर को समाधि की मुद्रा में दिखाया गया है। आठवें भाग में गुप्तकाल से जुड़ी एक कलाकृति है। दसवें भाग में गुप्तकालीन नालंदा विश्वविद्यालय की मोहर दिखाई गई है। ग्यारहवें भागमें मध्यकालीन इतिहास की झलक है। उड़ीसा की मूर्तिकला को दिखाते हुए एक चित्र को इस भाग में जगह दी गई है और बारहवें भाग में नटराज की मूर्ति बनाई गई है। तेरहवें भाग में महाबलिपुरम मंदिर है। शेषनाग के साथ अन्य देवी देवताओं के चित्र हैं।

Loading...

भागीरथी तपस्या और गंगा अवतरण को भी इसी चित्र में दर्शाया गया है। चौदहवें भाग में मुगल स्थापत्य कला है। बादशाह अकबर और उनके दरबारी बैठे हुए हैं। पीछे चंवर डुलाती हुई महिलाएं हैं। पन्द्रहवें भाग में गुरु गोविंद सिंह और शिवाजी को दिखाया गया है।सोलहवाँ भाग से ब्रिटिश काल शुरू होता है। टीपू सुल्तान और महारानी लक्ष्मीबाई को ब्रिटिश सरकार से लड़ते हुए दिखाया गया है। सत्रहवें भाग में गांधी जी की दांडी यात्रा को दिखाया गया है। अगले भाग में महात्मा गांधी की नोआखली यात्रा से जुड़ा चित्र है।

गांधी जी के साथ दीनबंधु एंड्रयूज भी हैं। एक हिंदू महिला गांधी जी को तिलक लगा रही है और कुछ मुस्लिम पुरुष हाथ जोड़कर खड़े हैं। उन्नीसवें भाग में नेताजी सुभाष चंद्र बोस आजाद हिंद फौज का सैल्यूट ले रहे हैं। बीसवें भाग में हिमालय के उत्तंग शिखरों को दिखाया गया है।

इक्कीसवें भाग में रेगिस्तान के बीच ऊटों काफिला है। बाइसवें भाग में समुद्र है, विशालकाय पानी का जहाज है। संविधान की प्रस्तावना प्रारंभ ‘हम भारत के लोग..’ से होती है। इसका मतलब है कि हम सब महत्वपूर्ण हैं। नागरिक होना गर्व की बात है। सब राष्ट्रीय हित में कार्य करेंगे तो देश मजबूत होगा। इसी प्रकार हमको मूल अधिकारों की भी जानकारी होनी चाहिए। संविधान ने छह मूल अधिकार प्रदान किये हैं जो इस प्रकार हैं- समता का अधिकार, स्वतंत्रता का अधिकार शोषण के विरुद्ध अधिकार, धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार, संस्कृति एवं शिक्षा का अधिकार और संवैधानिक उपचारों का अधिकार।

बयालीसवें संविधान संशोधन से मूल कर्तव्य जोड़े गए। इसमें कहा गया कि प्रत्येक नागरिक का कर्त्तव्य होगा कि वह- संविधान का पालन करे और उसके आदर्शों राष्ट्र ध्वज और राष्ट्र्गान का आदर करे। स्वतंत्रता के लिए हमारे राष्ट्रीय आन्दोलन को प्रेरित करने वाले उच्च आदर्शो को हृदय में संजोए रखे व उनका पालन करें। भारत की प्रभुता एकता व अखंडता की रक्षा करें और उसे अक्षुण्ण बनाये रखें। देश की रक्षा करें और आवाहन किए जाने पर राष्ट्र की सेवा करे। ऐसे ही और भी की कर्तव्य निश्चित किए गए। गणतंत्र दिवस पर इन सभी बातों से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए।

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

केजरीवाल सरकार का फरमान: 6 महीने के भीतर सभी सरकारी विभाग में होगा इलेक्ट्रिक वाहनों का उपयोग

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें दिल्ली सरकार के सभी विभागों में अब सिर्फ ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *