Breaking News

भाषा और चिकित्सा शिक्षा की खराब गुणवत्ता से भारतीय छात्र परेशान

जब से COVID-19 महामारी शुरू हुई है, विदेश मंत्रालय (MEA) ने यह सुनिश्चित किया है कि विदेशों में रह रहे प्रवासी भारतीयों की सभी चिंताओं को सबसे समग्र तरीके से संबोधित किया जाए। विदेश मंत्रालय ने मुख्य रूप से विदेशों में पढ़ रहे भारतीय छात्रों से संबंधित किसी भी मुद्दे को हल करने का प्रयास सबसे पहले किया है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए भारत के विदेश मंत्री डॉ० एस० जयशंकर ने 25 मार्च को चीन के विदेश मंत्री वांग यी से मुलाकात की थी ताकि चीन से भारतीय छात्रों की वापसी सुगम हो सके।

चीन के केवल 16% भारतीय मेडिकल छात्रों ने भारत में चिकित्सा का अभ्यास करने के लिए उत्तीर्ण की परीक्षा।

बीजिंग में भारतीय दूतावास ने 8 सितंबर को चीनी मेडिकल स्कूलों में पढ़ाई से संबंधित एक विस्तृत सलाह जारी की, क्यूंकि बीजिंग में भारतीय दूतावास को संभावित भारतीय छात्रों के प्रवेश के संबंध में कई प्रश्न प्राप्त हो रहे थे जो चीन में अपनी पढ़ाई पूरी करना चाहते थे।

एडवाइजरी में भारतीय दूतावास ने नेशनल बोर्ड ऑफ एग्जामिनेशन द्वारा किए गए एक अध्ययन के बारे में आंकड़े साझा किये, जिसमें बताया गया है कि 2015 से 2021 तक चीन में चिकित्सा का अध्ययन करने वाले केवल 16% भारतीय छात्रों ने चिकित्सा का अभ्यास करने के लिए विदेशी चिकित्सा स्नातक परीक्षा (FMGE) उत्तीर्ण की। यह काफी कम सफलता दर है, जो चीन में चिकित्सा शिक्षा की खराब गुणवत्ता को प्रदर्शित करता है।

चीन में शिक्षा की गुणवत्ता के अलावा, जिसके कारण बहुत कम छात्र डॉक्टर बने हैं, अन्य प्रमुख मुद्दे भी मौजूद हैं। उनमें से एक भाषा बाधा है। पाठ्यक्रम अंग्रेजी में होने के बावजूद, चीन में अध्ययन करने वाले पिछले भारतीय छात्रों ने बताया कि उन्हें प्रोफेसरों को समझने में समस्याओं का सामना करना पड़ा था। महामारी की शुरुआत के बाद से एक और प्रमुख मुद्दा चीन की ‘डायनेमिक जीरो कोविड पॉलिसी’ रहा है, जो आवाजाही पर सख्त प्रतिबंध लगाता है और पढ़ाई को प्रभावित कर सकता है, साथ ही यह नीति लगातार बदलती रहती है, छात्रों को घर से दूर, कई बार भ्रमित करती है।

चीन ने पहले भी वीजा प्रतिबंध लगाया था जिससे 23,000 भारतीय छात्र फंसे हुए थे, जो चीनी विश्वविद्यालयों में नामांकित थे। विदेश मंत्री जयशंकर के प्रयासों से, अपने चीनी समकक्ष के साथ लगातार बातचीत करने के बाद, हाल ही में भारतीय छात्रों के वापस लौटने और अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए प्रतिबंध हटा दिया गया था।

रिपोर्ट: शाश्वत तिवारी

About Samar Saleel

Check Also

जनरल बिपिन रावत के निधन के बाद रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान संभालेंगे देश के नए CDS का पदभार

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें जनरल बिपिन रावत  के देहांत के बाद नए ...