Breaking News

बुजुर्ग महिला और उसके 250-300 आवारा कुत्तों को MCD ने किया बेघर

दिल्ली (Delhi) में इस वक्त कड़ाके की सर्दी (Cold Wave) पड़ रही है। दिन में भी घरों से निकलने पर लोग कांप रहे हैं। जबकि रातों में और भी बुरा हाल है। इसी बीच लगभग 250-300 आवारा कुत्तों (Dogs) की देखभाल करने वाली एक वृद्ध महिला ने आरोप लगाया कि दिल्ली नगर निगम (MCD) ने उसकी झुग्गी, दुकान और कुत्तों के लिए बनाए अस्थायी आश्रय को तोड़ दिया।

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 80 वर्षीय प्रतिमा देवी कई वर्षों से दिल्ली के साकेत इलाके में रहकर आवारा कुत्तों की देखभाल कर रही हैं। समाचार एजेंसी एएनआई ने प्रतिमा देवी के हवाले से बताया कि एमसीडी वालों ने मेरी झुग्गी और दुकान को ध्वस्त कर दिया। महिला ने कहा कि उन्होंने मेरा सामान छीन लिया और मेरे कुत्तों को भी पीटा।

बुजुर्ग महिला ने बताया कि मेरे पास कम से कम 250-300 कुत्ते हैं। मैं अब अपने कुत्तों के साथ पेड़ के नीचे बैठी हूं।वह जब तक जिंदा हैं, तब तक कुत्तों का ख्याल रखेंगी। उन्होंने बताया कि सुबह से कुत्तों को कुछ नहीं खिलाया।

वर्ष 1984 में आई थी दिल्ली

मैं 1984 में दिल्ली आई थी। तभी से कुत्तों की देखभाल कर रही हूं। अब मैं 80 साल का हूं। मैं कहीं आने-जाने या फिर काम करने की स्थिति में नहीं हूं। मैं यहीं रहना चाहती हूं। जब तक सांसें हैं तब तक मैं इन कुत्तों की देखभाल करना चाहती हूं।

महिला का आरोप है कि इससे पहले वर्ष 2017 में भी एमसीडी ने कुत्तों के लिए बनाए अस्थायी आश्रय को तोड़ दिया दिया था। उस वक्त भी महिला ने नगर निगम के अधिकारियों के साथ बैठक की थी।

कुत्तों को लेकर यहां बनी डॉग पॉलिसी

बता दें कि गुरुग्राम, नोएडा और गाजियाबाद जैसे शहरों में पिछले कुछ महीनों में आवारा और पालतू कुत्तों द्वारा लोगों पर हमलों की घटनाएं तेजी से बढ़ने लगी थीं। नोएडा और गाजियाबाद में कई घटनाएं हाइराइज सोसायटी की लिफ्ट तक में हुईं। लिफ्ट में कुत्ते द्वारा लोगों और बच्चों पर हमलों के वीडियो भी सामने आए।

दिल्ली नगर निगम ने भी जारी की थी एडवाइजरी

इन्हीं घटनाओं को देखते हुए नोएडा और गाजियाबाद में पालतू और आवारा कुत्तों के लिए डॉग पॉलिसी बनाई गई। पालतू कुत्ते के रजिस्ट्रेशन के अलावा कई सख्त नियम बनाए गए। ऐसे मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) ने भी पालतू पशुओं का पंजीकृत करने के लिए कहा है। साथ ही चेतावनी दी है कि नियमों का पालन न करने पर कार्रवाई की जा सकती है।

About News Room lko

Check Also

नेग्लेक्टेड ट्रॉपिकल डिजीज डे: उपेक्षित नहीं प्राथमिकता वाली बीमारी मानने से पाएंगे पार

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें आओ संकल्प लें  “10 फरवरी से शुरू हो ...