Breaking News

फ्लड लाइट की रोशनी से जगमगाया उत्तर रेलवे का चारबाग स्टेडियम

• अब रात में दूधिया रौशनी में खेले जा सकेंगे मैच

लखनऊ। उत्तर रेलवे, लखनऊ मंडल के चारबाग रेलवे स्टेशन के निकट स्थित उत्तर रेलवे स्टेडियम में अब फ्लड लाइट (Floodlight) की दूधिया रौशनी में रात्रिकालीन मैचों और टूर्नामेंटों को आयोजित किया जा सकेगा।

👉मंडल रेल प्रबंधक ने किया अयोध्या एवं अयोध्या कैंट स्टेशनों का निरीक्षण

इस जगमगाती फ्लड लाइट का लोकार्पण आज 29 मई को उत्तर रेलवे के मुख्यालय, बडौदा हाउस, नई दिल्ली से आये मुख्य अतिथि, प्रमुख मुख्य अभियंता एवं अध्यक्ष, उत्तर रेलवे खेलकूद संघ, नई दिल्ली, सतीश कुमार पाण्डेय द्वारा किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि, मंडल रेल प्रबंधक, महिला कल्याण संगठन, उत्तर रेलवे, लखनऊ की अध्यक्षा, नीतू सपरा व अन्य अधिकारियों द्वारा स्टेडियम परिसर में पौधारोपण भी किया गया।

फ्लड लाइट की रोशनी से जगमगाया चारबाग स्टेडियम

वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक रेखा शर्मा ने बताया कि 1.07 करोड़ रुपये की लागत से इन फ्लड लाइटों को लगाने का कार्य किया गया है। रेलवे स्टेडियमों का आधुनिकीकरण करने की दिशा में तत्पर रहते हुए कार्य को संपन्न किया गया है। इससे रेलवे के खिलाड़ियों को बेहतर सुविधाएं मिल सकेंगी तथा खेलकूद की गतिविधियों का नवीनीकरण करते हुए अब स्टेडियम में रात्रिकाल में भी मैचों और टूर्नामेंटों को सफलतापूर्वक आयोजित किया जा सकेगा।

फ्लड लाइट की रोशनी से जगमगाया चारबाग स्टेडियम

इस व्यवस्था के तहत स्टेडियम में कुल चार फ्लड लाइट के पोल लगाए गए हैं तथा प्रत्येक फ्लड लाइट की ऊंचाई करीब 115 फीट है। इन चारों खम्भों पर कुल 180 लाइटों को लगाया गया है। लोकार्पण के इस सुअवसर पर जगमगाती रौशनी में फुटबॉल के एक रात्रिकालीन मैत्री मैच का आयोजन भी किया गया, जोकि मुख्यालय एवं डीआरएम इलेवेन के मध्य खेला गया।

फ्लड लाइट की रोशनी से जगमगाया चारबाग स्टेडियम

इस अवसर पर मंडल रेल प्रबंधक, सुरेश कुमार सपरा, मंडल के अपर मंडल रेल प्रबंधकों, वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक एवं मंडलीय खेलकूद अधिकारी, केके अरोरा सहित मंडल के अन्य अधिकारीगण, महिला कल्याण संगठन, उत्तर रेलवे, लखनऊ के पदाधिकारी, मंडलीय खिलाड़ी एवं अन्य कर्मचारी उपस्थित रहे।

रिपोर्ट-दया शंकर चौधरी

About Samar Saleel

Check Also

घटा सरयू का जलस्तर, खतरे के निशान से तीन सेमी नीचे पहुंचा पानी, नाव से स्कूल जाना शुरू हुए बच्चे

सरयू खतरे के निशान से तीन सेमी नीचे पहुंच गई है। जलस्तर तो घट रहा ...