Breaking News

केन्द्र और प्रदेश की वर्तमान सरकारें कई मोर्चों पर किसान और मजदूर विरोधी हुई सिद्ध: डाॅ. मसूद

लखनऊ। राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष डाॅ. मसूद अहमद ने कहा कि केन्द्र और प्रदेश की वर्तमान सरकारें कई मोर्चो पर किसान और मजदूर विरोधी सिद्ध हुयी हैं जबकि दोनों ही सरकारें किसानों को स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने के साथ-साथ आय दुगुनी करने जैसे प्रलोभन लगातार देती चली आ रही है। यही कारण है कि अनेकों बार विभिन्न प्रदेशों के किसानों ने वर्तमान सरकारों के प्रति आक्रोश व्यक्त करते हुये धरना प्रदर्शन भी किया और लाठियों तथा आंसू गैस की प्रताड़ना भी सहन की है।

डाॅ. अहमद ने कहा कि प्रदेश सरकार आज भी गन्ना किसानों का न ही पूर्ण भुगतान कर सकी है और न ही सभी चीनी मिले सुचारू रूप से चालू की गयी हैं। छाता शुगर मिल इसका ज्वलंत उदाहरण है। जहां के किसान पूर्व मंत्री ठाकुर तेजपाल सिंह के नेतृत्व में लगातार धरना प्रदर्शन का आयोजन कर रहे हैं। धान क्रय केन्द्रों का भी बुरा हाल है, जहां पर किसानों की अनदेखी और बिचैलियों का सम्मान किया जा रहा है। प्रदशों का किसान एक ओर बढे हुये विद्युत मूल्य का भार सहन करने के लिए मजबूर हैं तो दूसरी ओर सरकारी कर्जो की जबरन वसूली से त्रस्त होकर आत्महत्याएं भी कर रहे हैं, परन्तु दोनों ही सरकारें आंख बंद किये हुये बैठी हैं।

रालोद प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि वह दिन दूर नहीं है जब प्रदेश का किसान राष्ट्रीय लोकदल के नेताओं चौ.अजित सिंह और जयंत चौधरी के नेतृत्व में अपने हक की लडाई लड़ने के लिए सडकों पर उतरेगा। इन सरकारों ने किसानों और मजदूरों का शोषण करने में सभी सीमाएं लांघ दी है। प्रदेश के हजारों कल कारखाने बंद पड़े हैं परन्तु सरकार मजदूरों के समक्ष निवेषकों के आने और उद्योग धन्धें विकसित करने का लाॅलीपाप दिखाकर अपने कर्तव्य की इतिश्री समझ रही है।

About Samar Saleel

Check Also

पानी सैम्पल जांच में उत्तर प्रदेश देश में पहले स्थान पर

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें नमामि गंगे और ग्रामीण जलापूर्ति विभाग की घर-घर ...