अनलॉक में जिम्मेदारी!


रिपोर्ट-डॉ. दिलीप अग्निहोत्री प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अनलॉक में अधिक से सावधानी पर जोर दे रहे है। दोनों ही लोग कई बार इसके लिए अपील भी कर चुके है। नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक के पहले राष्ट्र को संबोधित किया। उन्होंने अनलॉक में भी सभी दिशा निर्देशों के पालन को अपरिहार्य बनाया। इधर लखनऊ में योगी आदित्यनाथ ने आपदा राहत प्रबंधन के साथ साथ दिशा निर्देशों का पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए। कुछ दिन पहले भी उन्होंने कहा था कि अनलॉक का मतलब स्वतंत्रता नहीं है।

उनके कहने काअर्थ था कि कोरोना बचाव के दिशा निर्देशों के पालन की बंदिश भी रहेगी। नरेंद्र मोदी ने बैठक से पहले कहा कि देश अब धीरे धीरे खुल रहा है और जिंदगी वापस पटरी पर लौट रही है। फिर भी कोरोना को बढ़ने से रोकना हम सबकी जिम्मेदारी है। उसका बढ़ना जितना रोक पाएंगे, उतना ही हमारी अर्थव्यवस्था खुलेगी,और आगे बढ़ेगी। इसी के साथ लोगों का जीवन भी कोरोना से सुरक्षित रहेगा। यही आज की सबसे बड़ी आवश्यकता है। सरकारों के साथ साथ समाज को भी इसमें अपने दायित्व का निर्वाह करना होगा। मोदी ने देशवासियों से कहा कि हमारे यहां जो छोटी फैक्ट्रियां हैं उन्हें गाइडेंस की,हैंड होल्डिंग की बड़ी जरूरत है। नरेंद्र मोदी देश के सभी मुख्यमंत्रियों के साथ विचार मंथन कर रहे है।

Loading...

ऑनलाइन बैठक के पहले दनरेंद्र मोदी की 21 राज्यों के मुख्यमंत्रियों, उपराज्यपालों और प्रशासकों के विचार विमर्श हुआ। इधर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्च स्तरीय बैठक में अनलाॅक व्यवस्था की की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत प्रदेश के एनसीआर क्षेत्र में विशेष सतर्कता की आवश्यकता है। दिल्ली से बड़े पैमाने पर होने वाले आवागमन को देखते हुए संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जाएं। उस इलाके के सभी जनपदों के कोविड चिकित्सालयों में बेड की संख्या दोगुनी की जाएगी। इन जनपदों में आवश्यकतानुसार अतिरिक्त मानव संसाधन की व्यवस्था आउटसोर्सिंग के माध्यम से करते हुए ट्रेनिंग के पश्चात इनकी सेवाएं प्राप्त की जा सकेंगी।

इन जनपदों के नोडल अधिकारियों से संवाद बनाकर उनसे प्राप्त फीडबैक के क्रम में आवश्यक प्रबन्ध सुनिश्चित किए जाएगी। संक्रमण को प्रत्येक दशा में रोका जाना है। प्रदेश के कोविड अस्पतालों में एक लाख से अधिक बेड उपलब्ध है। सभी जनपदों में उपलब्ध वेंटीलेटरों को कार्यशील रखने तथा निगरानी समितियो की सक्रियता कायम रखी जायेगी। आदित्यनाथ ने जिलाधिकारियों को अनिवार्य रूप से भ्रमण कर अस्पतालों द्वारा उपलब्ध कराई जा रही सेवाओं का निरीक्षण करते रहने के निर्देश दिए हैं। जनपदों में नोडल अधिकारी के तौर पर नामित स्वास्थ्य विभाग के अपर निदेशक तथा संयुक्त निदेशक स्तर के वरिष्ठ चिकित्सकगण चिकित्सालयों की व्यवस्था को बेहतर बनाए रखने के लिए निरन्तर प्रभावी प्रयास करते रहेंगे।

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का आगाज शनिवार से, सरकार ने जारी की गाइडलाइन

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें भारत में 16 जनवरी से दुनिया के सबसे ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *