Breaking News

वाल्मीकि समाज के “उत्थान व शिक्षा का महत्व” पर संगोष्ठी

सीतापुर। राष्ट्रीय वाल्मीकि क्रांतिकारी मोर्चा उप्र द्वारा “वाल्मीकि समाज के उत्थान व शिक्षा का महत्व” पर संगोष्ठी का आयोजन वाल्मीकि मंदिर सिविल लाइंस में किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री डॉ लालजी प्रसाद निर्मल व विशिष्ठ अतिथि भारत तिब्बत सहयोग मंच के जिलाध्यक्ष प्रभात अग्निहोत्री रहे। दोनो अतिथियों ने महर्षि वाल्मीकि के श्री चरणों में पुष्पांजलि अर्पित कर संगोष्ठि का शुभारंभ किया।

राज्यमंत्री निर्मल ने सभी दलित समाज को एकजुट होकर समाज व राष्ट्रहीत में कार्य करने के लिए प्रेरित किया। प्रभात ने त्रिकालदर्शी मुनिनाथा वाल्मीकि के जीवन चरित्र पर प्रकाश डालते हुए कहा की महर्षि द्वारा रचित रामायण में सबकुछ समाहित है आज राष्ट्र की अमूल्य निधि रामायण का एक-एक अक्षर अमरता का सूचक और महापाप का नाशक है।

वाल्मीकि कृत रामायण को ज्ञान-विज्ञान, भाषा ज्ञान, ललित कला, ज्योतिष शास्त्र, आयुर्वेद, इतिहास और राजनीति का केंद्र बिंदु माना जाता है। यह महाकाव्य जीवन के सत्य और कर्तव्य से परिचित कराता है। प्रभात ने वाल्मीकि समाज की महिलाओं को शिक्षा का महत्व समझाया कि महिलाओं का शिक्षित होना अति आवश्यक है। मंत्री ने भारतीय जनता पार्टी द्वारा चलाई जा रही जनहित की योजनाओं के विषय में विस्तृत रूप से समाज के लोगो के साथ चर्चा की।

राष्ट्रीय वाल्मीकि क्रांतिकारी मोर्चा और सफाई कर्मचारी मोर्चा के पदाधिकारियों ने संविदा सफाई कर्मियों को नियमित करने संबंधी मुख्यमंत्री संबोधित ज्ञापन राज्यमंत्री को सौंपा। कार्यक्रम के समापन के बाद संगठन द्वारा आयोजित भंडारे में प्रसाद वितरित किया। कार्यक्रम का आयोजन शिव कुमार वाल्मीकि प्रदेश मंत्री, अजय कुमार जिलाध्यक्ष, नागेंद्र व उनकी पूरी टीम द्वारा किया गया। इस मौके पर आजाद हिन्द भगत संगठन के जिलाध्यक्ष वैभव व नगर अध्यक्ष द्वितीय ऋषभ, अनुराग, शरद, दीपक, सूरज, सचिन बीजेपी ओबीसी मोर्चा के जिला मंत्री शानू जैसवाल आदि लोग उपस्थित रहे।

About Samar Saleel

Check Also

विधिक सहायता केंद्र व जिला विधिक प्राधिकरण के संयुक्त तत्वाधान में कार्यक्रम आयोजित, अनुच्छेद 14 से 32 के मौलिक अधिकारों की दी जानकारी

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लखनऊ विश्वविद्यालय, विधि संकाय की प्रतिष्ठित संस्था विधिक ...