Breaking News

काशी के मंदिरों की तर्ज पर बनी है टेंट सिटी, गूंजेगी बनारस घराने का संगीत

• गंगा के उसपार भी दिखेगा काशी का प्रतिबिंब

• टेंट सिटी में पांच एलिमेंट का रखा गया है विशेष ध्यान

• सूर्योदय से सूर्यास्त तक संगीत के विविध कार्यक्रमों का होगा आयोजन

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ काशी के पर्यटन को नया मुकाम देने जा रहे हैं। 13 जनवरी उत्तर प्रदेश के पर्यटन उद्योग में नया अध्याय दर्ज होने जा रह है। तम्बुओं के शहर का लोकार्पण होने से गंगा उस पार काशी के प्रतिबिम्ब दिखेगा। टेंट की आकृति काशी के मंदिरों के शिखर की तरह दिखेगी।

यहाँ बनारस घराने के गीत संगीत की गंगा बहेगी। वहीं बनारसी खान पान भी परोसा जाएगा। बनारस के उत्पाद ख़ास हैंडीक्राफ्ट भी टेंट सिटी में देखने को मिलेगा। काशी को महसूस करने के लिए टेंट सिटी में पांच एलिमेंट का ख़ास ध्यान रखा गया है।

लाइव राग से होगी सुबह की शुरुआत

तंबुओं का शहर धर्म, अध्यात्म और संस्कृति के संगम के रूप में दिखेगा। सूर्य उदय के साथ घंटो घड़ियालों की आवाज के साथ ही गंगा आरती होगी और सुबह की शुरुआत लाइव राग के साथ होगी। साथ ही सभी प्रकार के गीत संगीत का कार्यक्रम होगा। बनारस घराने के लगभग सभी वाद्य यंत्रों की मधुर धुन पर्यटन सुन सकेंगे। जिसमे ख़ास तौर पर शहनाई, सारंगी, सितार, संतूर, तबला और जुगलबंदी भी यहां सुनने को मिलेगी।

वाराणसी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष अभिषेक गोयल ने बताया टेंट सिटी का काम अंतिम चरण में है। कंपनियों फाइनल टच दे रही हैं। 13 जनवरी को प्रस्तावित उद्घटान तक काम पूरा कर लिया जाएगा। टेंट सिटी में पर्यटकों के सहूलियत, सुविधा और सुरक्षा का ख़ास ध्यान रखा गया है।

मन मस्तिष्क को सुकून पहुंचाएगी गंगा की कल कल ध्वनि

लल्लू जी एंड संस की और से बसाई जा रही इस निराली टेंट सिटी के आर्किटेक्ट नीरज उपाध्याय ने बताया कि तंबुओं के इस शहर को मंदिरों के शिखर का आकार दिया गया है। काशी के प्रतिबिम्ब को इसमें उतारने की कोशिश की गई है। टेंट सिटी का माहौल ऐसा रखा गया है जिसे आपकी पांचो इन्द्रियाँ महसूस कर सकेंगी। टेंट से निकलते ही सूर्य उदय, माँ गंगा और अर्धचन्द्राकार घाटों का नज़ारा और गंगा आरती के दर्शन होंगे, वहीं कानों को सकून देने वाल राग आधारित सभी प्रकार की संगीत का आयोजन होगा।

कल कल बहती गंगा की ध्वनि भी मन-मस्तिष्क को सुकून पहुंचाएगी, घंट घड़ियालों की आवाज भी सुनने को मिलेगी। टेंट सिटी में चन्दन, गुलाब लैवेंडर की सुगंध फैलेगी। स्वाद के लिए मलइयो, ठंडई, चाट बनारसी पान और बनारस का ख़ास पान-पान परोसा जाएगा। प्राकृतिक चीजों से बनी टेंट की फील व लग्जरी होटल की सभी सुविधा से युक्त है।

उत्तर प्रदेश के पर्यटन उद्योग को मिलेगा नया आयाम

तंबुओं के शहर में इनडोर और आउटडोर जैसे स्नूकर, कैरम, बैडमिंटन वॉलीबॉल आदि की भी सुविधा होगी। यहां योग, स्पा, कैमल और हॉर्स राइडिंग भी किया जा सकेगा। उत्तर प्रदेश के जीआई और ओडीओपी उत्पादों समेत अन्य हेंडीक्राफ्ट उत्पादों को भी एक नया बाजार मिलेगा। टेंट सिटी उत्तर प्रदेश के पर्यटन उद्योग को नया आयाम देगा। जिससे स्थानीय लोगों को बड़े तादात में रोजगार मिलेगा।

रिपोर्ट-संजय गुप्ता 

About Samar Saleel

Check Also

राज्य पेयजल एवं स्वच्छता मिशन की झांकी ने जीता दूसरा पुरस्कार

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें • गणतंत्र दिवस परेड में पहली बार हुआ ...