Breaking News

विदेश मंत्रालय की विभिन्न पहलों ने दुनिया भर में बढ़ाई भारत की प्रतिष्ठा

विदेश मंत्रालय को हाल ही में आजादी का अमृत महोत्सव (एकेएएम) अवधि के दौरान शीर्ष प्रदर्शन करने वाले मंत्रालय के तौर पर ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। यह उपलब्धि मंत्रालय द्वारा भारत और विदेशों में अपने मिशनों के माध्यम से की गई विविध गतिविधियों से प्राप्त हुई है।

👉राष्ट्रीय प्रेस दिवस पर संगोष्ठी में वरिष्ठ पत्रकार मनोज मिश्र ने पत्रकारिता की गिरती साख पर जताई चिंता

ये गतिविधियां मुख्य रूप से मिशन-संबंधित प्रयासों में भारतीय प्रवासियों की बढ़ती भागीदारी, वैश्विक भागीदारों के साथ सांस्कृतिक संबंधों को बढ़ावा देने पर केंद्रित थीं। अमृत महोत्सव मनाने के लिए विदेश मंत्रालय की एक महत्वपूर्ण पहल वैश्विक स्तर पर योग को लोकप्रिय बनाने पर केंद्रित रही।

इसमें महामारी से दुनिया के जल्द उबरने को ध्यान में रखते हुए, व्यक्तिगत और ऑनलाइन दोनों तरह से आयोजित योग कार्यशालाएं और प्रशिक्षण सत्र शामिल थे। इस दौरान योग के लाभों के बारे में विस्तार से बताने के लिए विशेष वार्ता आयोजित की गई। भारतीय मिशनों ने दुनिया भर में स्वस्थ जीवनशैली को बढ़ावा देने में योग के महत्व और शक्ति को प्रदर्शित करने के लिए अनुभवी योग प्रशिक्षकों के साथ सहयोग किया।

विदेश मंत्रालय की विभिन्न पहलों ने दुनिया भर में बढ़ाई भारत की प्रतिष्ठा

इसके अलावा 79 देशों और विभिन्न संयुक्त राष्ट्र संगठनों के सहयोग से विदेश मंत्रालय और उसके मिशनों के नेतृत्व में भारत ने पिछले साल ‘गार्जियन योग रिंग’ अभ्यास का आयोजन किया। इस अभ्यास का उद्देश्य राष्ट्रीय सीमाओं से परे योग की एकजुट करने वाली शक्ति को चित्रित करना था।

अमृत महोत्सव के दौरान विदेश मंत्रालय ने देश के युवाओं के साथ भारतीय विदेश नीति में महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि साझा करने के लिए 75 प्रतिष्ठित और उत्कृष्ट संस्थानों के साथ भागीदारी की। विदेश नीति लेक्चर सीरीज में दूरदराज के शहरों सहित सभी राज्यों के छात्रों को शामिल किया गया, उन्हें अंतरराष्ट्रीय संबंधों के बारे में बताया गया और उन्हें भारतीय विदेश सेवाओं में करियर बनाने के लिए प्रेरित किया गया। ये लेक्चर सेवानिवृत्त राजदूतों द्वारा दिये गये थे।

👉देशहित में लिए केंद्र के कड़े फैसले की मुरीद हुई शेहला रशीद, कहा- कश्मीर गाजा नहीं, सरकार ने बेहतर समाधान खोजा

विदेशों में भारतीय मिशनों द्वारा भारतीय प्रवासियों को भी वृक्षारोपण, खेल प्रतियोगिताओं, कला एवं शिल्प प्रतियोगिताओं और साइकिल रैलियों सहित सामुदायिक कार्यक्रमों के माध्यम से सक्रिय रूप से शामिल किया गया। ऐसी गतिविधियां प्रत्येक मिशन के समर्पित एकेएएम सप्ताह के दौरान विशेष रूप से प्रमुख थीं, जहां विभिन्न मिशनों ने व्यक्तिगत रूप से अमृत महोत्सव मनाया।

विदेश मंत्रालय के अमृत महोत्सव उत्सव का एक प्रतिष्ठित आकर्षण दुनिया भर के ऐतिहासिक स्मारकों को भारतीय तिरंगे के साथ रोशन करना था। सिडनी ओपेरा हाउस, बुर्ज खलीफा और एम्पायर स्टेट बिल्डिंग जैसी प्रसिद्ध इमारतें भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में तिरंगे रंग में जगमगा उठीं, जिसमें विदेश मंत्रालय का भरपूर सहयोग रहा।

👉यूपी परिवहन की बसों में लगाया जायेगा एंटीस्लीप डिवाइस: दयाशंकर सिंह

संक्षेप में कहा जाए तो आजादी का अमृत महोत्सव के दौरान विदेश मंत्रालय की विभिन्न पहलों ने दुनिया भर में भारत की वैश्विक प्रतिष्ठा बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है, जिसकी बदौलत एकेएएम अवधि के दौरान सबसे अच्छा प्रदर्शन करने पर विदेश मंत्रालय को पुरस्कृत किया गया है।

रिपोर्ट-शाश्वत तिवारी

About Samar Saleel

Check Also

जब पार्थिव शरीर देख पत्नी ने पूछा-कुछ किया भी या ऐसे ही मर गए, फिर शैन्यकर्मियों ने सुनाई वीर गाथा

आगरा:  पूरा देश कारगिल विजय दिवस के अवसर पर युद्ध में बलिदानी जवानों को याद ...