Breaking News

96 वर्ष की आयु में अपनी मां महारानी एलिजाबेथ के निधन के बाद शाही गद्दी संभालेंगे किंग चार्ल्स

महारानी के निधन पर दुनिया भर से लोगों ने शोक व्यक्त किया है। लंदन में जनता ने बकिंघम पैलेस के बाहर फूल बिछाएं और शहर भर में शोक संदेश के होर्डिंग लगाए गए।ब्रिटेन के राजा के रूप में नियुक्त होने के बाद अब किंग चार्ल्स III को कोई रॉयल अधिकार मिलेंगे.

बिना पासपोर्ट किसी भी देश की यात्रा कर सकेंगे और बिना लाइसेंस के गाड़ी भी चला सकेंगे. शाही परिवार के अन्य सदस्य पासपोर्ट के साथ ट्रैवल करते हैं.

उन्हें पासपोर्ट की जरूरत इसलिए नहीं होगी, क्योंकि ये डॉक्यूमेंट उनके ही नाम पर ही जारी होगा. अगर आसान भाषा में समझें, तो किसी भी देश के प्रमुख के नाम पर पासपोर्ट को जारी किया जाता है.

समाचार पत्रों ने पहले पन्ने पर रानी को श्रद्धांजलि अर्पित की।  हजारों लोग रानी के महल के बाहर जमा हो गए थे। ये खबर मिलने के बाद झंडा आधा झुका हुआ था।.कई लोगों ने उनकी मृत्यु पर सदमे की भावना का वर्णन किया जिसे अधिकांश ब्रितानियों ने कभी जाना है। यह हम सभी के लिए एक दुखद दिन है

73 वर्षीय व्यक्ति ने एक बयान में कहा, हम एक पोषित संप्रभु और एक बहुत प्यारी मां के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हैं। जन्म के साथ ही देश की राजगद्दी के उत्तराधिकारी चार्ल्स ने ब्रिटिश राजशाही के मॉर्डनाइजेशन में जरूरी भूमिका निभाई है. चार्ल्स पहले ऐसे शाही उत्तराधिकारी हैं जिनकी शिक्षा घर में नहीं हुई है,

About News Room lko

Check Also

दुबई में तीन साल में बनकर तैयार हुआ भव्य हिंदू मंदिर, 2020 में हुआ था शिलान्यास आज होगा उद्धाटन

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें दुबई में बने नए हिंदू मंदिर का आज ...