Breaking News

विश्व जनसंख्या दिवस : विकास के लिए जनसंख्या दर को कम करना जरुरी

सन 1987 में विश्व की जनसंख्या 5 अरब को पार गई तभी से सारी दुनिया में जनसंख्या रोकने के लिए जागरुकता की शुरुआत के क्रम में 1987 से हर वर्ष 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाते आ रहे हैं। इसका मुख्य उदेश्य बढ़ती जनसंख्या से उत्पन्न खतरों के प्रति आमजन के बीच में जागरुकता फैलाना है ताकि जनसंख्या निय़ंत्रण में आसानी हो। आज सारी दुनिया की 90% आबादी इसके 10% भाग में निवास करती है।विश्व की आबादी कही 11-50/वर्ग कि.मी. है तो कही 200 वर्ग कि.मी.है।जनसंख्या वृद्धि के कई कारण है जो जनसंख्या वृद्धि को प्रभावित करते हैं।उनमें भौगोलिक,आर्थिक एवं सामाजिक तथा सांस्कृतिक कारक प्रमुख है।भोगोलिक कारकों में मुख्य रुप से मीठे एवं सुलभ जल की उलब्धता, समतल एवं सपाट भूआकृति, अनुकुल जलवायु ,फसल युक्त उपजाऊ मिट्टी आदी प्रमुख है।

आर्थिक कारकों में खनिज तत्व की उपलब्धता के कारण औद्योगिकरण तथा इसके फलस्वरुप शहरीकरण क्योंकि आधुनिक युग में स्वास्थ्य, शिक्षा, परिवहन, बिजली तथा पानी आदी की समुचित उपलब्धता के कारण औद्योगिक कल-कारखाने में काम करने के लिए कर्मचारियो की जरुरत को कारण यहा की आबादी सघन होते जा रही है। इसके अलावे भी सामाजिक एवं सांस्कृतिक परिवेश उतरदायी है। उक्त कारकों के अलावे जनसंख्या वृद्दि दर भी आज काफी है। पृथ्वी पर जनसंख्या आज 700 करोड़ से भी ज्यादा है। इस आकार तक जनसंख्या को पहूँचने में शताब्दियां लगी है।आरंभिक कालों में विश्व की जनसंख्या धीरे-धीरे बढ़ी। यानी 1 अरब तक पहुँचने में 2,00,000 साल लगे वही 1 अरब से 7 अरब पहुँतने में मात्र 200 साल लगे।

आज जनसंख्या रोकने के लिए सबको शिक्षा होनी चाहिये जिससे इसे कम करने में मदद मिलेगी शिक्षा के साथ-साथ जागरुकता की सख्त जरुरत है ताकि देश उनन्ति के मार्ग पर तेजी से आगे बढ़ सके। वर्ष 2021 में असम सरकार इस ओर सख्त पहल की है और आज उप्र सरकार भी आज जनसंख्या स्थिरिकरण के लिए अनेक घोषनायें करने वाली है।

विगत कुछ सौ बर्षों के दौरान ही जनसंख्या आश्चर्य दर से बढ़ी है। पहली शताब्दी में जनसंख्या 30 करोड़ से कम थी। 16वी.एवं 17वी शताब्दी में औद्योगिक क्रांति के बाद तीब्र गति से जनसंख्या की वृद्दि हुई और सन 1750 तक 55 करोड़ हो गई। सन 1804 में 1 अरब,1927 में 2 अरब ,1960 में 3 अरब,1974 में 4 अरब तथा 1087 में 5 अरब हो गई और 7.78 अरब से ज्यादा हो गई है। । विगत 500वर्षों में प्रारंभिक एक करोड़ की जनसंख्या होने में 10 लाख से भी अधिक वर्ष लगे परन्तु 5 अरब से 6 अरब होने में 1987 से12 अक्टूबर 1999 तक मात्र 12 साल लगे। इसी तरह 31 अक्टूबर 2011 को 7 अरब हो गई। आज विश्व की जनसंख्या मार्च 2019 तक 7 अरब 53 करोड के आस पास थी। परन्तु 10 जुलाई 2021 को संध्या 5 बजे तक विश्व की जनसंख्या 7,87,83,51,776 थी।

भारत आज 120 (139) करोड़ से अधिक आबादी के साथ चीन (1अरब 45करोड़) के बाद दूसरे नंबर पर है अगर इसी रफ्तार से भारत की जनसंख्या बढ़ती रही तो वह दिन दूर नहीं जब भारत 2025 में चीन को पीछा छोड़कर आबादी के मामलों में सारी दुनिया में नंबर वन हो जायेगा। चिंता की बात है कि जहां 1951 में हिंदूओं की प्रतिशत संख्या लगभग 85 थी जो 2011 में 80 प्रतिशत के आस पास रह गई जबकि 1951 में मुस्लिमों की आबादी लगभग 10 प्रतिशत थी तो 2011 में लगभग 15 प्रतिशत हो गई। जबकि भूमि के मामले में भारत विश्व का 2.5% है और आबादी लगभग 17-18 % है।

इस जनसंख्या विस्फोट से समाजिक ढ़ाचा परिवहन, शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली , पानी आदी की मात्रा सीमित है जो समस्या बनेगी। इससे प्राकृतिक संसाधनों पर दबाव बढ़ेगा और अनेक समस्याय़े खड़ी हो जायेगी। जिससे देश में सामाजिक ढाचा छिन्न-भिन्न (असहज) होने की संभावना बढ़ेगी। अतः आज जनसंख्या रोकने के लिए सबको शिक्षा होनी चाहिये जिससे इसे कम करने में मदद मिलेगी शिक्षा के साथ-साथ जागरुकता की सख्त जरुरत है ताकि देश उनन्ति के मार्ग पर तेजी से आगे बढ़ सके। वर्ष 2021 में असम सरकार इस ओर सख्त पहल की है और आज उ.प्र. सरकार भी आज जनसंख्या स्थिरिकरण के लिए अनेक घोषनायें करने वाली है।

लाल बिहारी लाल

About Samar Saleel

Check Also

महाप्रबंधक ने केन्द्रीय चिकित्सालय बरेका का निरीक्षण किया

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें वाराणसी। रेलइंजन कारख़ाना महाप्रबंधक बनारस, अंजली गोयल ने ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *