राम सेतु: अमेर‍िका ने किया बड़ा खुलासा!

भारत और श्रीलंका के बीच बनाये गये राम सेतु के निर्माण के लिए अब अमेरिका ने एक नया खुलासा किया है। इस अद्भुत न‍िर्माण को लेकर अमेरि‍का के वैज्ञान‍िकों ने एक बड़ा ऐलान क‍िया है। खास बात यह है क‍ि उसके इस ऐलान से भारतीयों का भरोसा और दावा पहले से ज्‍यादा मजबूत हो गया है। अमेर‍िका के भूगर्भ वैज्ञानिकों और आर्कियोलाजिस्ट की टीम ने कहा है क‍ि भारत और श्रीलंका के बीच बनाया गया राम सेतु मिथक नहीं है। इस सेतु का न‍िर्माण प्रकृति‍ ने नहीं बल्कि मानव द्वारा क‍िया गया है। अमेर‍िका के वैज्ञानिकों ने इसके सबूत भी द‍िए हैं। एक साइंस चैनल ने इस पर एक ऑन अर्थ एनसिएंट लैंड एंड ब्रिज नाम से शानदार डॉक्यूमेंट्री भी बनाई है।
अमेर‍िका के वैज्ञानिकों ने इसका सबूत देकर बड़ी संख्‍या में भारतीयों के भरोसे को और पक्‍का कर द‍िया है। रा‍म सेतु को लेकर लोगों के बीच हमेशा से ही यही मान्‍यता रही है क‍ि इसका न‍िर्माण भगवान श्रीराम के निर्देशन में हुआ था। यह कोरल चट्टानों और रीफ से बनाया गया था। जिसके निर्माण के बारे में वाल्मीकि रामायण में मिलता है।
राम सेतु व एडम्स ब्रिज
यह पुल श्रीलंका के मन्नार द्वीप से लेकर भारत के रामेश्वरम तक की चट्टानों की एक चेन है। रामसेतु व एडम्स ब्रिज का काफी पुराना संबंध है। इन दोनों के बीच लगभग 48 से 50 किलोमीटर का रास्‍ता है। समुद्र में पड़ी इन चट्टानों की गहराई लगभग 3 फुट से लेकर 25 फुट से ज्यादा है। ये चट्टाने काफी उथल पुथल वाली हैं। चट्टानों की इस चेन को ही रामसेतु व एडम्स ब्रिज के नाम से जाना जाता है।
राम सेतु की जरूरत
दरअसल श्रीलंका में जब राम जी ने सीता जी को लंका से वापस लाने की योजना बनाई तो उस समय रामेश्वरम से समुद्र पार कर लंका जाना कठ‍िन था। ऐसे में सुग्रीव की वानर सेना मदद के ल‍िए आगे आई और पुल का न‍िर्माण शुरू हुआ। नल और नील पत्थर पर श्री राम लिखते जा रहे थे और बाकी वानर उन्‍हें समुद्र में डाल रहे थे। इस पुल के न‍िर्माण के बाद राम जी श्रीलंका गए थे।
रामसेतु की मान्यताएं
राम सेतु की प्राचीनता को लेकर वि‍भि‍न्‍न मान्‍यताएं हैं। रामायण के अनुसार यह 3500 साल पुराना है तो कुछ लोग इसे आज से 7000 वर्ष पुराना बताते हैं। वहीं कुछ लोगों का कहना है क‍ि यह 17 लाख वर्ष से भी ज्‍यादा पुराना है। हालांक‍ि कालीदास की रघुवंश में, स्कंद पुराण, विष्णु पुराण, अग्नि पुराण और ब्रह्म पुराण में राम सेतु का उल्‍लेख है।

About Samar Saleel

Check Also

भीषण संकट से जूझ रहा ‘पृथ्वी का फेफड़ा’ कहा जाने वाला प्रसिद्ध वर्षावन, फ्रांस के राष्ट्रपति ने प्रकट किया दुःख

 पूरी संसार में प्रसिद्ध अमेजन के घने वर्षा वन भीषण संकट से जूझ रहे हैं। इस वक्‍त . अमेज़ॅन वर्षावन में एक-दो ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *