Breaking News

एआरपी पवन सिंह को मिला परिंदा प्रणय सम्मान, पिछले 2 वर्षों से गौरैया संरक्षण अभियान की चला रहे हैं मुहिम

• गौरैया बचाने के लिये लोगों को करते हैं घोंसला वितरित और पक्षियों के लिये दाना-पानी की व्यवस्था

बिधूना/औरैया। विगत 2 वर्षों से गौरैया बचाने के अभियान में प्राण पण से जुटे एआरपी पवन सिंह को वृंदावन में आज एक भव्य समारोह में एमएलसी डॉ आकाश अग्रवाल ने परिंदा प्रणय सम्मान देकर सम्मानित किया और उनके इस नेक कार्य की सराहना की।

ज्ञातव्य हो कि रसूलाबाद के एआरपी पवन सिंह गौरैया पक्षी के संरक्षण के अभियान में पिछले 2 वर्षों से जुटे हुये हैं और लोगों को घर-घर जाकर गौरैया संरक्षण की सीख दे रहे हैं। इसके तहत वे लोगों के घरों में पहुंचकर जहां गौरैया के संरक्षण के लिए घोंसला वितरित करते हैं वहीं उनके दाना – पानी की भी व्यवस्था करवाते हैं।

परिंदा प्रणय सम्मान

उनके इसी अभियान से प्रभावित होकर पक्षियों के लिए दाना पानी एवं आशियाना मुहिम के प्रदेश संचालक हरिओम सिंह ने पूरे प्रदेश के सभी पक्षी प्रेमियों को जनपद मथुरा के वृंदावन शहर में स्काई विंग्स कैफे में जनपद कानपुर देहात के ब्लॉक रसूलाबाद के एआरपी पवन सिंह को गौरैया बचाने के अभियान में महत्वपूर्ण सहयोग देने पर सम्मानित किया।

👉2024 के लोकसभा चुनाव में बाबा का बुलडोज़र बीजेपी के लिए प्रशस्त करेगा दिल्ली का रास्ता

इस अवसर पर रसूलाबाद के एआरपी पवन सिंह ने कहा कि पक्षियों की सेवा किसी आराधना से कम नहीं है। गौरैया हमारे पर्यावरण की प्रहरी है। अगर गौरैया ना बची तो यह पर्यावरण भी नहीं बचेगा? एआरपी पवन सिंह ने कहा कि पक्षियों के संरक्षण के लिये अब समाज को उठकर खड़े हो जाना चाहिए नहीं तो हम गोरिया जैसी पक्षियों को सिर्फ किताबों में ही देख पायेंगे।

परिंदा प्रणय सम्मान

एआरपी पवन सिंह ने समस्त शिक्षक समुदाय से भी आवाहन किया कि वह भी गौरैया संरक्षण के लिए आगे आये और सबसे पहले अपने घरों में गौरैया के घोंसले और उनके दाना – पानी की व्यवस्था करें, साथ ही अन्य शिक्षक साथियों व समाज के लोगों को भी इस अभियान से जोड़ें, ताकि यह मुहिम जन आंदोलन का रूप ले सके।

रिपोर्ट – संदीप राठौर चुनमुन

About Samar Saleel

Check Also

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त को किया सम्मानित

लखनऊ। लखनऊ स्थित किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय द्वारा विश्व रक्तदान दिवस के अवसर पर आज ...