Breaking News

अयोध्या धाम की वैश्विक पहचान

डॉ. दिलीप अग्निहोत्री

अयोध्या धाम की प्रतिष्ठा पूरी दुनिया है। अनेक देशों के लोगों की यहां के प्रति आस्था है। इसे विश्व स्तरीय तीर्थाटन नगरी के रूप में विकसित करने की पूरी संभावना रही है। लेकिन इसके प्रति स्वतन्त्रता के बाद से ध्यान नहीं दिया गया। योगी आदित्यनाथ कहते भी है कि पिछली सरकारें अयोध्या जी का नाम लेने से घबड़ाती थी। उन्हें लगता था कि ऐसा करने से उनकी सेक्युलर छवि धूमिल हो जाएगी।। ऐसे में अयोध्या का विकास संभव ही नहीं था। योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री बनते ही इस धारणा को बदल दिया। उन्होंने दिखा दिया कि अयोध्या में विकास से वास्तविक सेक्युलर छवि मजबूत होती है। यह कार्य सबका साथ सबका विकास के अनुरूप है।इसके अलावा तीर्थाटन व पर्यटन विकास से सरकार व समाज दोनों को लाभ होता है।

सांस्कृतिक स्वरूप

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अयोध्या के विकास से यह धाम वैश्विक पहचान स्थापित करते हुए अपने मौलिक, धार्मिक,ऐतिहासिक, सांस्कृतिक व आध्यात्मिक स्वरूप के साथ उभरेगा। उन्होंने अयोध्या के विकास कार्यों व परियोजनाओं में और तेजी लाए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि हर स्तर पर त्वरित निर्णय लेकर सभी योजनाओं को निर्धारित समय-सीमा में पूरा किया जाए। उन्होंने अल्प,मध्यम और दीर्घ विकास परियोजनाओं की जानकारी प्राप्त की और उन्हें निर्धारित टाइमलाइन में पूर्ण करने के निर्देश दिए। कहा कि पूरे विश्व में भगवान श्रीराम की नगरी के रूप में जाना जाता है। इसकी विरासत और संस्कृति को अक्षुण्ण रखते हुए आधुनिक सुविधाओं के साथ विकसित किया जाए। यहां के भवनों और निर्माण कार्यों में भारतीय परम्परा, विरासत और संस्कृति की झलक मिले। वास्तु शैली उत्कृष्ट व जीवन्त हो।

अन्तर्विभागीय समन्वय

किसी स्थान के समग्र विकास हेतु अन्तर्विभागीय समन्वय अपरिहार्य होता है।।योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या नगरी के विकास से सम्बन्धित सभी विभागों को समन्वय के आधार पर तेजी से कार्यवाही किए जाने के निर्देश दिए हैं। कहा कि अयोध्या की विकास परियोजनाओं के सम्बन्ध में भूमि अधिग्रहण के मामलों को संवाद के आधार पर शीघ्र निस्तारित किया जाए। साधुसंतों और श्रद्धालुओं सहित अन्य सभी पक्षों से विचारविमर्श कर इसे वैदिक नगरी के रूप में विकसित किया जाए।

विजन डॉक्यूमेण्ट

मुख्यमंत्री ने अयोध्या के विजन डॉक्यूमेण्ट प्रस्तुतीकरण का अवलोकन किया। इस अवसर पर अयोध्या के जिलाधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े हुए थे। मुख्यमंत्री ने विजन डॉक्यूमेण्ट के सम्बन्ध में सुझाव व आवश्यक दिशा।निर्देश देते संशोधन के साथ प्रस्तुत किए जाने की बात कही। अयोध्या रिंग रोड अलाइनमेण्ट के सम्बन्ध में भी कार्यवाही किए जाने के निर्देश दिए। साथ ही इण्टीग्रेटेड टैªफिक मैनेजमेण्ट सिस्टम तथा स्मार्ट सिटी के कार्यों में भी तेजी लाए जाने की बात कही। उन्होंने पंचकोसी, चौदह कोसी और चौरासी कोसी परिक्रमा मार्गों को श्रद्धालुओं व पर्यटकों की सुविधाओं के दृष्टिगत उत्कृष्ट रूप से विकसित किए जाने के निर्देश दिए। अच्छे होटलों और धर्मशालाओं के निर्माण को बढ़ावा दिया जाए। अतिथि गृहों,विश्रामालय सहित अन्य संस्थाओं के लिए आवश्यक भूमि की व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं। अयोध्या को सोलर सिटी तथा क्लीन व ग्रीन सिटी के रूप में विकसित किया जाना है। इसके दृष्टिगत सभी कार्य सुनिश्चित किए जाएं। रेलवे व बस स्टेशन सहित अन्य स्थलों पर आवश्यकता के अनुरूप मल्टी लेवल पार्किंग के निर्माण कार्य किए जाएं।

About Aditya Jaiswal

Check Also

भाजपा विधायक, रालोद के पूर्व विधायक समेत कई को एक-एक महीने की सजा, जुर्माना भी लगा

बागपत:  बागपत में आचार संहिता उल्लंघन के मामले में अपर सिविल जज, सीनियर डिवीजन भगत ...