Breaking News

लोक आस्था एवं सूर्य उपासना का महापर्व पर्व छठ पूजा, नगरीय क्षेत्र के साथ ग्रामीणांचल में भी अस्ताचलगामी सूर्य को दिया गया अर्घ्य

• सरयू के घाटों पर उमड़ी भीड़, परिवार की सुख शांति की किया कामना।

अयोध्या। लोक आस्था एवं सूर्य उपासना का पर्व छठ पूजा पर अस्ताचलगामी सूर्य को व्रती महिलाओं ने अर्घ्य दिया।रामनगरी में सरयू तट पर आस्था का जनसैलाब उमड़ा। देवी गीतों की गूंज थी छठी मैया के जयकारें के साथ भगवान सूर्य की आराधना की गई। कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से लेकर सप्तमी तक महापर्व मनाया जाता है। अर्घ्य देने के दौरान परिवार के सुख शांति की कामना की गई।

लोक आस्था एवं सूर्य उपासना का महापर्व पर्व छठ पूजा, नगरीय क्षेत्र के साथ ग्रामीणांचल में भी अस्ताचलगामी सूर्य को दिया गया अर्घ्य

रविवार को अस्त होते सूर्य को अर्घ्य देने के दौरान रामनगरी के घाटों के परिवेश में आस्था व भक्ति के मिश्रित रंग दिखाई दिये।शहर में भी छठ पूजा पर सूर्य को अस्ताचलगामी अर्घ्य व्रती महिलाओं ने दिया।

👉 पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की गई

राम नगरी में गुप्तार घाट, राम पैढी, नया घाट, के अलावा सरयू घाटों कुंडों पर महिलाओं की भारी भीड़ उमड़ी। सरयू नदी में खड़े होकर सभी सूर्य को अर्घ्य दिया। पर्व के दौरान बांस से निर्मित सूप, गुड़ चावल व गेंहू से निर्मित प्रसाद व फलों के बीच देवी गीतों को गाती महिलाओं में भारतीय लोकपरम्पराएं दिखाई दी।

लोक आस्था एवं सूर्य उपासना का महापर्व पर्व छठ पूजा, नगरीय क्षेत्र के साथ ग्रामीणांचल में भी अस्ताचलगामी सूर्य को दिया गया अर्घ्य

सूर्यास्त के समय व्रती महिलाओं ने पानी व दूध के मिश्रण से अर्घ्य दिया। सूप में फल, ठेकुआ, गन्ना, नारियल, चावल के लड्डू, मूल, कंदमूल रखकर पूजा की। महिलाओं के साथ परिवार के सदस्य पर भी घाटों पर भी मौजूद रहे। दर्शन नगर में सूर्य कुंड में व्रती महिलाओं ने सूर्य को अर्घ्य दिया।

👉केंद्रीय संरक्षित स्मारक जनरल वली कोठी में मनाया गया विश्व विरासत सप्ताह

लोक आस्था एवं सूर्य उपासना का महापर्व पर्व छठ पूजा, नगरीय क्षेत्र के साथ ग्रामीणांचल में भी अस्ताचलगामी सूर्य को दी गयी अर्घ्य

इसके अलावा सोहावल, मिल्की पुर, बीकापुर, पूराबाजार, मया बाजार, नगर पंचायत गोसाईगंज सहित अनेक बाजारों के अलावा ग्रामीण विकास क्षेत्रों में तालाबों, पोखरों सरोवरों के तट पर अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य व्रती महिलाओं ने परम्परा के अनुसार दिया।

इस पर्व का यह तीसरा दिन था। 36 घंटे निर्जला रहने वाली व्रती कल सूर्योदय के समय अर्घ्य देंगी। उसी के बाद इस व्रत का पारण होगा। पुलिस प्रशासन व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त रखने में प्रयासरत रहा।

रिपोर्ट-जय प्रकाश सिंह

About Samar Saleel

Check Also

पर्यावरण संरक्षा जागरूकता के लिए बस्ती स्टेशन पर रेल कर्मियों ने बोर्ड एवं बैनर के माध्यम से यात्रियों को किया जागरूक

लखनऊ। पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मण्डल में मिशन लाइफ के तहत पर्यावरण को अनुकूल करने हेतु ...