Breaking News

यूपी में भाजपा के नाथ बने रहेंगे योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा की रणनीति पर सर्वसम्मति बन गयी है और इस रणनीति के तहत जातीय समीकरणों को संतुलित करने के लिए राज्य मंत्रिमंडल में जल्द ही विस्तार किया जा सकता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भेंट की। लगभग सवा घंटे की इस बैठक के बाद वह भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा के निवास पर पहुंचे जहां दोनों के बीच दो घंटे से अधिक समय तक बैठक चली। राजनीतिक बैठकों के बाद मुख्यमंत्री ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिल कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली। गौरतलब है राष्ट्रपति की हाल ही में हृदय की सर्जरी हुई थी।

योगी आदित्यनाथ गुरुवार को दोपहर बाद राजधानी पहुंचे थे और उनकी गृहमंत्री अमित शाह के साथ भी करीब डेढ़ घंटे तक बैठक हुई थी। बैठक में गृह मंत्री ने योगी आदित्यनाथ को सबको साथ लेकर चलने की सलाह दी थी। सूत्रों की माने तो अगले साल की शुरुआत में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों की तैयारियों के सिलसिले में राज्य में पार्टी संगठन एवं राज्य सरकार के बीच तालमेल तथा आगामी मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व के साथ उनकी चर्चा हुई है। यह महसूस किया गया कि पार्टी की छवि को निखारने एवं कार्यकर्ताओं के बीच विश्वास एवं उत्साह भरने की जरूरत है। जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री के साथ हुई बैठक में राज्य में कोविड-19 महामारी की स्थिति और टीकाकरण अभियान की भी समीक्षा की गयी।

फ़िलहाल कयास यही हैं कि मुख्यमंत्री एवं संगठन को लेकर असंतोष की स्थिति करीब करीब सुलझ गयी है तथा विधानसभा चुनावों को लेकर रणनीति तय होने के साथ ही राज्य में आगामी मंत्रिमंडल विस्तार का मार्ग भी प्रशस्त हो गया है। इन मुलाकातों में यह बात साफ हो गयी है कि अगला विधानसभा चुनाव योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा। लेकिन आगामी मंत्रिमंडल विस्तार में जातीय समीकरणों को दुरुस्त भी किया जाएगा।

इस कवायद में योगी सरकार से कुछ मंत्रियों की विदाई भी हो सकती है तथा छह से दस नये चेहरों को जगह मिलने की संभावना है जो उत्साह से काम करके परिणाम दे सकें। इस बीच ऐसी रिपोर्ट भी है कि कांग्रेस से हाल ही में आये ब्राह्मण नेता जितिन प्रसाद तथा पूर्व नौकरशाह एके शर्मा को मंत्रिमंडल में अहम दायित्व दिया जा सकता है।

उत्तर प्रदेश सरकार के तीन मंत्री बीते दिनों कोविड की दूसरी लहर में बलि चढ़ गये हैं। राज्य के बाढ़ नियंत्रण और राजस्व राज्य मंत्री तथा मुज़फ़्फ़रनगर के चरथावल विधानसभा क्षेत्र से विधायक विजय कश्यप, सालोन से विधायक दल बहादुर कोरी, नवाबगंज के विधायक केसर सिंह गंगवार, औरैया से विधायक रमेश दिवाकर और पश्चिमी लखनऊ से सुरेश कुमार श्रीवास्तव का कोरोना से निधन हुआ है। गत वर्ष कोरोना की पहली लहर में दो मंत्रियों चेतन चौहान और कमल रानी वरुण की मृत्यु हुई थी।

बहरहाल, पार्टी संगठन में शीर्ष स्तर बदलाव की भी संभावना बहुत कम है। योगी आदित्यनाथ स्वयं प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह को बदले जाने के पक्ष में नहीं है। इससे पहले ऐसी खबरे आ रही थीं कि उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को प्रदेश अध्यक्ष बना कर अन्य पिछड़ा वर्ग के छिटकते वोटों को साधने की कोशिश की जाएगी। उधर अपना दल की नेता एवं सांसद अनुप्रिया पटेल को उनकी पार्टी सहित भाजपा में लाने की कवायद भी चल रही है। ऐसी संभावना है कि सुश्री पटेल को केन्द्रीय मंत्रिमंडल में स्थान देकर उन्हें पार्टी समेत भाजपा में शामिल कर लिए जाये। इससे पहले वो मोदी सरकार में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री रह चुकी हैं।

About Samar Saleel

Check Also

महिला कर्मचारी से हुई अभद्रता को लेकर कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें सतांव/रायबरेली। बुधवार की शाम सतांव ब्लाक कार्यालय परिसर ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *