Breaking News

फिंगर-4 पर भारतीय सैनिकों का कब्जा, एलएसी पर तैनात की जा रही होवित्जर तोप

मॉस्को में भारत और चीन के विदेश मंत्रियों के बीच हुई बैठक के बाद भी चीन के रुख में परिवर्तन दिखाई नहीं दे रहा है. एक ओर तो चीन भारत से बातचीत कर रहा है, वहीं दूसरी ओर उसकी सेना पेंगोंग इलाके में अपनी ताकत बढ़ा रही है.

एलएसी पर चीन की हरकतों को देखते हुए भारतीय सेना ने अब 155 मिमी की होवित्जर तोप की तैनाती करने की तैयारी शुरू कर दी है. बोफोर्स तोप तैनात करना भारतीय सेना का बड़ा कदम माना जा रहा है. ये निर्णय ऐसे वक्त में लिया गया है, जब चीन घुसपैठ की अपनी कोशिशों से बाज नहीं आ रहा.

एलएसी पर इन दिनों करीब 40 हजार भारतीय जवान तैनात हैं. वायुसेना भी मुस्तैद है और अब होवित्जर तोप भी सरहद पर भेजे जा रहे हैं. चीन ने छोटी से छोटी गलती भी की तो उसे बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ेगा.

Loading...

भारतीय जवानों की अब फिंगर 4 तक पहुंच हो गई है. सामरिक रूप से बेहद अहम ऊंचाई वाले इलाकों पर जवानों का दबदबा हो चुका है. तनाव के बीच एलएसी पर हालात बदल गए हैं. हिन्दुस्तान के जवानों ने पूवीज़् लद्दाख के अलग-अलग इलाकों में अपनी पकड़ मजबूत की है. माउंटेन वारफेयर के उस्ताद माने जाने वाले जवान चीन को सबक सीखाने के लिए तैयार हैं.

पेंगोंग लेक के उत्तरी और दक्षिणी इलाकों में चीन की बेचैनी बढ़ी है. चीन भले ही अपने जवान, गाडय़िां और हथियार तैनात कर चुका है, लेकिन इन इलाकों में ऊंचाइयों पर भारत की पकड़ मजबूत होने से उसके पसीने छूट रहे हैं. भारतीय जवान ऊंचाइयों पर मौजूद हैं और वो चीनी सेना की हरकत पर हर वक्त नजर रख रहे हैं.

इस बीच चीन को रास्ते पर लाने के लिए अब हिन्दुस्तान इंटीग्रेटेड रेस्पॉस की रणनीति अपना रहा है. मतलब चीन जिस भाषा में समझे, उसी भाषा में उसे समझाने की पहल होगी. इन्हीं कोशिशों के तहत विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने गुरुवार की रात चीनी विदेश मंत्री वांग यी से मुलाकात की. मॉस्को में करीब 2 घंटे तक दोनों की बातचीत चली.

Loading...

About Aditya Jaiswal

Check Also

कोवैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल को योगी सरकार ने दी मंजूरी, लखनऊ और गोरखपुर में होगा परीक्षण

उत्तर प्रदेश सरकार ने बुधवार को कोरोना वायरस की वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ के तीसरे चरण के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *