Breaking News

अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल : ‘समाभव’ का आग़ाज़ संत गाडगे सभागार में हुआ आयोजित

लखनऊ। अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल ‘समाभव’ का आग़ाज़ संत गाडगे सभागार में किया गया, इस फेस्टिवल में स्टडी हॉल फाउंडेशन स्कूल के छात्रों ने भाग लिया। इस 2 दिवसीय फिल्म फेस्टिवल के जरिए महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने हेतु उनके अधिकारो पर आधारित फिल्मों का प्रदर्शन किया जा रहा है और इस बात पर ध्यान केंद्रित करता है कि पुरुष इसमें कैसे अपना योगदान दे सकते हैं और कैसे करना चाहिए। पहली फिल्म ‘नटखट’ इस मुद्दे पर एक संवाद के लिए एक टोन विषय वाली थी। लघु फिल्म ने एक सुरक्षित स्थान के निर्माण की आधारशिला रखी जो विचारों के सहज आदान-प्रदान को सक्षम करती है।

अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल : ‘समाभव’ का आग़ाज़ संत गाडगे सभागार में हुआ आयोजित

मावा की स्थापना हरीश सदानी ने की है। मावा को सुर्खियों में लाने और इस संगठन को बढ़ावा देने के लिए समर्थन जुटाने के लिए, उन्होंने मैदा, अनटींग द नॉट और माई मदर्स गर्लफ्रेंड जैसी लघु फिल्मों को क्यूरेट किया है, जिन्हें रीलन लिमिटेड द्वारा लंदन में प्रस्तुत स्क्रीन पर एस.ए.एच.एम कार्यक्रम में प्रदर्शित किया गया था। यह दो दिवसीय कार्यक्रम आधिकारिक दक्षिण एशियाई विरासत माह के एक भाग के रूप में (एस.ओ.एस) विश्वविद्यालय में आयोजित किया गया था। ‘मावा’ (मेन अगेंस्ट वॉयलेंस एंड एब्यूज) भारत का ऐसा संगठन है जिसमें 18 से 25 साल के संवेदनशील युवा शामिल हैं, जो महिलाओं के खिलाफ लिंग आधारित हिंसा को रोकने के लिए कॉलेज और विश्वविद्यालयों के साथ मिलकर युवा पीढ़ी को लिंग और समानता के मामलों जागरूक कर रहे हैं।

मावा टीम के दिशा निर्देशन में दिए जाने वाले प्रशिक्षण के बाद, युवा इंटरैक्टिव कार्यशालाओं, वार्षिक सांस्कृतिक पत्रिकाओं, नुक्कड़ नाटक, फिल्म-स्क्रीनिंग, लोक मीडिया, दीवार समाचार पत्रों, विशेष अभियानों जैसे आउट-ऑफ-द-बॉक्स तरीकों का उपयोग करते हैं और सोशल मीडिया के जरिए हजारों लोगों को उनके अधिकरों और अन्य लैगिक विषयों के बारे में महिलाओं और युवाओं जागरूक के लिए पिछले 8 वर्षों से निरन्तर प्रयासरत है। इस कार्यक्रम को पिछले 2 वर्षों में महाराष्ट्र राज्य के 9 जिलों और 3 नए राज्यों में बढ़ाया गया है, स्थानीय सहयोग और विश्वविद्यालयों एवं समाज के प्रतिष्ठित नागरिकों के साथ मिलकर इस भागीदारी को बढ़ावा दिया गया है।

समभाव लैंगिक विविधता पर दो दिवसीय एक अनूठा अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह है, जो पूरे भारत में प्रदर्शित करता है। अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह के तीन संस्करणों ने पूरे भारत के 28 शहरों और 12 जिलों में 8000 से अधिक विश्वविद्यालय और कॉलेज के युवाओं, सिविल सोसायटी मे रहने के सदस्यों को सीधे जोड़ता है। अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से हजारों अन्य युवा प्रतिभागी शामिल हुए हैं। इस नॉन-टिक फिल्म फेस्टिवल में प्रदर्शित फिल्में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय लघु, फीचर और डॉक्यूमेंट्री फिल्में हैं, जिनमें लैंगिक विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला को शामिल किया गया है, जिसमें महिलाओं के खिलाफ लिंग आधारित भेदभाव से लेकर एलजीबीटी क्यूआईए मामलों और लिंगों की परस्परता को चुनौती देने वाली विषाक्त मर्दानगी शामिल है। सभी स्थानों पर स्क्रीनिंग के बाद लिंग अधिकार कार्यकर्ताओं, शिक्षाविदों और फिल्म निर्माताओं द्वारा सुगम चर्चा का आयोजन किया गया। चर्चा के दौरान छात्रों को फिल्म पर अपने विचार साझा करने के लिए कहा गया। बच्चे पात्रों से संबंधित हो सकते हैं और समाज में समावेशिता के गहरे अर्थ को समझ सकते हैं। वे अपने स्वयं के जीवन पर भी विचार कर सकते हैं और सोच सकते हैं कि वे इस तरह के आख्यानों से कैसे प्रभावित हो रहे हैं या प्रभावित हो रहे हैं।

युवा महिलाओं के लिए स्टडी हॉल फाउंडेशन द्वारा संचालित एक स्कूल प्रेरणा स्कूल के बच्चंे इस फेस्टिवल में शामिल हुए उनकी नारीवादी सोच को मजबूत करने हेतु उनके लिए पहले से ही एक महत्वपूर्ण नारीवादी शिक्षाशास्त्र से गुजर रहे हैं। यह उनके लिए भी एक विचारोत्तेजक फिल्म थी। वे सामाजिक व्यवस्था को समझने में सक्षम थे और कैसे पात्र चुनौतियों का सामना कर रहे थे। इसके अलावा ऐसी फिल्में दिखाई गईं जो ट्रांसजेंडर वास्तविकताओं को उजागर करती हैं। युवा दर्शक बहुत परिपक्व, जिज्ञासु, संवेदनशील और खुले विचारों वाले थे। फिल्में इतनी शक्तिशाली थीं कि गणमान्य व्यक्तियों के साथ-साथ कमरे में अन्य वयस्कों के दिमाग पर भी प्रभाव डालती थीं।

यह फिल्म की ताकत है कि एक घंटे तक फिल्म देखने और उस पर चर्चा करने से दर्शक के वास्तविकता को देखने का नजरिया बदल सकता है। फिल्म समारोह की एक और उल्लेखनीय सुंदरता यह है कि इसमें बहु-आयु वर्ग द्वारा भाग लिया गया और इसकी सराहना की गयी इससे यह स्पष्ट होता है कि जीवन के सभी चरणों के लोग सीख लेकर उसे अपने जीवन में उतार कर नए विकल्पों के जागरूक हो रहे हैं। इस उत्सव के माध्यम से सभी वर्गों के लोगों को एक मंच पर लाकर उन्हें एक समान महत्व देते हुए लोगों को जागरूक करना और हिंसा को समझकर उसके खिलाफ आवाज़ उठाना है।

About reporter

Check Also

गन्ना किसानों के लिए रालोद के प्रदेश अध्यक्ष का छलका दर्द, कहा‌ – मिल मालिक दबाये बैठे हैं किसानों का हज़ारों करोड़ रूपया

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें Published by- @MrAnshulGaurav Thursday, August 11, 2022 लखनऊ। ...