राज्यपाल के हाथों सम्मान पत्र पाकर गौरवान्वित महसूस कर गदगद हुए अजेय कोरोना वारियर्स

वाराणसी। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मंगलवार को हाउस सभागार में कोरोना वारियर्स के अभिनंदन समारोह में स्वयं अपने हाथों सम्मानित किया और उन्हें समाज के लिए प्रेरणा स्रोत बताया। कोरोना वैश्विक महामारी क्या भारत में बड़ी सक्रियता से कंट्रोल हुआ, फलस्वरूप कम मृत्यु हुई। इसमें हमारे कोरोना वारियर्स का बड़ा योगदान है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की 140 करोड़ जनता को स्वयं जागरूकता हेतु मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग रखने, हाथ धोने, लॉकडाउन में घर में रहने, बच्चों व बुजुर्गों को विशेष सावधानी बरतने आदि की समय-समय पर बताया।


राज्यपाल ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक टेस्टिंग हुई। संक्रमितों का तत्काल इलाज हुआ, जिसका उत्तर प्रदेश को फायदा हुआ। जनसंख्या के दृष्टिगत उत्तर प्रदेश में मृत्यु काफी कम हुई। यह सबके सक्रियता से हुआ। इसके लिए उन्होंने हर कोरोना वारियर्स का अभिनंदन व धन्यवाद किया। पीपीटी की पहनकर काम करना डॉक्टर, नर्स के लिये बड़ा कठिन कार्य है। गर्मी के दिनों में यह और भी कठिन होता है, उनके इस साहस, लगन व सेवा के उत्कृष्ट कार्य के लिए शब्द भी कम पड़ते हैं।

उन्होंने बड़े हृदयस्पर्शी शब्दों से सभागार को वारियर्स के प्रति भाव विभोर कर दिया, जब कहा कि चिकित्सक और नर्स ड्यूटी के बाद घर जाते थे तो उन्हें पत्नी-बच्चे एक कमरे में खाना रखकर दरवाजे के छोटे झरोखे से देख कर पापा-पापा कहते और अपना ख्याल रखने की बात कहते थे। यह अविस्मरणीय व प्रेरणादायक है। सफाई का कार्य सामान्य दिन में भी कठिन होता है। कोरोना कॉल में यह और कठिन रहा। प्रवासियों का ट्रेनों, बसों से, व्यक्तिगत वाहन से आना और उनको कोरोन्टाइन कराना, खाना देना, घर भेजना, टेस्टिंग कराना बड़ा कार्य रहा।


उत्तर प्रदेश सरकार ने समय से सक्रियता से टेस्टिंग और चिकित्सा कार्य किया। स्वयं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपदों में जाकर व्यवस्थाएं देखी। इससे अच्छा कंट्रोल हुआ। अब कोरोना के केस घट रहे हैं। रिकवरी रेट बढ़ रहा है। मृत्यु दर कम हो रहा है। कोरोना की शुरुआत में टेस्टिंग लैब, चिकित्सा सुविधा समुचित नहीं थी। उत्तर प्रदेश में बड़ी तत्परता से टेस्टिंग लैब बने, टेस्टिंग मशीने बड़ी, वेंटीलेटर बड़े, अस्पतालों में आइसोलेटेड वार्ड और बेड बने। हर जिला पूरी व्यवस्था युक्त हुआ और इसका अच्छा परिणाम सामने आया।

Loading...


आनंदीबेन ने कहा कि भारत की पूरे देश में चर्चा होती है कि यहां कैसे काम हुआ। कितना अच्छा डिसीप्लिन है। आपदा को अवसर में बदलकर देश ने अपने को विश्व में साबित किया है। कोरोना वारियर्स का सम्मान अच्छा व प्रेरणादायक है। उन्होंने कोरोना वारियर्स से मिलकर उन्हें सम्मानित करने में अपनी खुशी जाहिर की। ऐसे कार्यक्रम उदाहरण व समाज के लिए प्रेरणा स्रोत होते हैं। उन्होंने कहा कि अभी सर्दी आ रही है, इसमें अन्य लोग भी होते हैं। कोरोना का खतरा अभी खत्म नहीं हुआ है, इसलिए समुचित सावधानी बरती जाए।


अभिनंदन समारोह राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने विभिन्न विभागों यथा-सफाई कर्मी, यातायात पुलिस, सिविल पुलिस, जलकल, राजस्व, विकास, खाद्य सुरक्षा, स्वास्थ्य विभाग के कोरोना वारियर्स को सम्मानित किया। कार्यक्रम से पूर्व नगर आयुक्त गौरांग राठी ने जनपद में कोरोना कॉल में हुए कार्यों का प्रेजेंटेशन प्रस्तुत किया। जनपद में 20000 फ्रंटलाइन कोरोना वारियर्स ने चुनौतियों के दिनों में असंभव दिखने वाले कार्य किए। विभिन्न सरकारी योजनाओं में पात्र लाभार्थियों को 197 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद सुलभ कराई गई। 1.31 लाख श्रमिकों को रोजगार दिया गया। 36.66 लाख राशन किट वितरण हुए। 15.10 लाख फूड पैकेट जरूरतमंदों में सरकारी एवं गैर सरकारी व्यवस्था से वितरित कराए गए। अंत में एसएसपी अमित पाठक ने धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, अधिकारी डॉक्टर वी.बी.सिंह सहित कोरोना वारियर्स आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

रिपोर्ट-जमील अख्तर

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

कांग्रेस कार्यालय में मना प्रथम राष्ट्रपति का जन्मदिन

रायबरेली। जिला व शहर कांग्रेस कमेटी ने भारत के प्रथम राष्ट्रपति व भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *