Breaking News

आखिरकार जापान ने चंद्रमा के लिए चंद्र लैंडर व एक्स-रे मिशन लॉन्च किया

खराब मौसम के कारण पिछले महीने तीन बार विलंबित होने के बाद जापान ने आखिरकार अपना चंद्रमा लैंडर और एक्स-रे मिशन लॉन्च कर दिया। मिशन के सफल होने पर, रूस, अमेरिका, चीन और भारत के बाद जापान चंद्रमा पर सफलतापूर्वक सॉफ्ट-लैंडिंग करने वाला पांचवां देश बन जाएगा।जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी (जेएएक्‍सए) के अनुसार, एसएलआईएम (चंद्रमा की जांच के लिए स्मार्ट लैंडर) और एक्स-रे इमेजिंग और स्पेक्ट्रोस्कोपी मिशन (एक्‍सआरआईएसएम) ने दक्षिणी जापान के तनेगाशिमा स्पेस सेंटर से एक घरेलू एच-2ए रॉकेट पर उड़ान भरी।

जेएक्सए के अध्यक्ष हिरोशी यामाकावा ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “एसएलआईएम का बड़ा उद्देश्य उच्च-सटीकता लैंडिंग को साबित करना है, जहां हम कर सकते हैं वहां लैंडिंग’ के बजाय चंद्रमा की सतह पर ‘जहां हम चाहते हैं, वहां लैंडिंग’ हासिल करना है।”जेएएक्‍सए के एसएलआईएम का लक्ष्य छोटे पैमाने पर एक हल्के जांच प्रणाली को प्राप्त करना और भविष्य की चंद्र जांच के लिए आवश्यक पिनपॉइंट लैंडिंग तकनीक का उपयोग करना है, जबकि एक्‍सआरआईएसएम वैज्ञानिकों को सितारों और आकाशगंगाओं में प्लाज्मा का निरीक्षण करने में मदद करेगा।

एसएलआईएम, जिसे जापानी में “मून स्नाइपर” भी कहा जाता है, के 3 से 4 महीने बाद चंद्र कक्षा में पहुंचने की उम्मीद है। सफल होने पर, अंतरिक्ष यान 300 मीटर चौड़े शिओली क्रेटर की ढलान पर उतरेगा।एक्‍सआरआईएसएम, एनएएसए और जेएएक्‍सए के बीच एक सहयोग और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ईएसए) के सहयोग से, आकाशगंगाओं को घेरने वाले गर्म गैस के बादलों और ब्लैक होल से होने वाले विस्फोटों जैसी चरम घटनाओं द्वारा जारी एक्स-रे का निरीक्षण करेगा।

एक्सआरआईएसएम के लिए ईएसए परियोजना वैज्ञानिक माटेओ गुएनाज़ी ने एक बयान में कहा, “एक्स-रे खगोल विज्ञान हमें ब्रह्मांड में सबसे ऊर्जावान घटनाओं का अध्ययन करने में सक्षम बनाता है। यह आधुनिक खगोल भौतिकी में महत्वपूर्ण सवालों के जवाब देने की कुंजी है: ब्रह्मांड में सबसे बड़ी संरचनाएं कैसे विकसित होती हैं, जिस पदार्थ से हम अंततः बने हैं, वह ब्रह्मांड के माध्यम से कैसे वितरित किया गया था, और आकाशगंगाओं को उनके केंद्रों में विशाल ब्लैक होल द्वारा कैसे आकार दिया गया है। यह प्रक्षेपण ऐसे समय में हुआ है, जब दो सप्ताह पहले भारत अपने चंद्रयान-3 मिशन के साथ चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने वाला पहला देश बना था। लगभग उसी समय, रूस का लूना-25 लैंडर चंद्रमा के निकट आते समय दुर्घटनाग्रस्त हो गया।जापान पहले भी दो चंद्र लैंडिंग प्रयासों में विफल रहा है।

About News Desk (P)

Check Also

मुसलमानों से माफी मांगेगी श्रीलंका सरकार, कोरोना महामारी के दौरान शव दफनाने की नहीं दी थी अनुमति

श्रीलंका सरकार ने मंगलवार को कहा कि वह कोरोना महामारी के दौरान अंतिम संस्कार की ...