अमेरिका की 11 दिवसीय यात्रा पर विदेश मंत्री, संयुक्त राष्ट्र महासभा के 77वें अधिवेशन में लेंगे भाग

विदेश मंत्री एस जयशंकर संयुक्त राष्ट्र महासभा के उच्च स्तरीय सत्र के लिए 11 दिवसीय यात्रा पर न्यूयोर्क पहुंच गए हैं। इस यात्रा पर वह द्विपक्षीय एवं बहुपक्षीय बैठकों समेत 50 से अधिक आधिकारिक कार्यक्रमों में भाग लेंगे। साथ ही एसo जयशंकर जो बाइडन प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों से बातचीत करेंगे। विदेश मंत्रालय ने कहा कि एस जयशंकर जी-4 समूह की एक मंत्रिस्तरीय बैठक की भी मेजबानी करेंगे, जिसमें भारत के अलावा ब्राजील, जापान और जर्मनी शामिल हैं।

‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत विशेष कार्यक्रम: विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि अपनी यात्रा के दौरान एस जयशंकर संयुक्त राष्ट्र महासभा के 77वें सत्र में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे। संयुक्त राष्ट्र महासभा के 77वें सत्र का विषय ‘निर्णायक क्षण और आपस में जुड़ी चुनौतियों का परिवर्तनकारी समाधान है। आजादी का अमृत महोत्सव मनाने और इसे प्रदर्शित करने के लिए विदेश मंत्री 24 सितंबर को एक विशेष कार्यक्रम ‘इंडिया @ 75: शोकेसिंग इंडिया यूएन पार्टनरशिप इन एक्शन’ को भी संबोधित करेंगे।

संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कम्बोज ने रविवार को ट्वीट किया संयुक्त राष्ट्र महासभा के 77वें सत्र में भाग लेने के लिए यहां आए हमारे विदेश मंत्री डॉo एसo जयशंकर का स्वागत करके खुशी हुई। वह इस सप्ताह के दौरान कई द्विपक्षीय एवं बहुपक्षीय बैठकों में भाग लेंगे या उनकी सह-अध्यक्षता करेंगे।

विदेश मंत्री का त्रिपक्षीय बैठकों का भी कार्यक्रम: विदेश मंत्रालय ने कहा कि विदेश मंत्री एसo जयशंकर क्वाड, आईबीएसए और ब्रिक्स की बहुपक्षीय बैठकों के साथ-साथ भारत-फ्रांस-ऑस्ट्रेलिया, भारत-फ्रांस-यूएई और भारत-इंडोनेशिया-ऑस्ट्रेलिया जैसी त्रिपक्षीय बैठकों में भी भाग लेंगे। वो जी-20 और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों के साथ द्विपक्षीय बैठकें करेंगे। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन, अमेरिकी प्रशासन के वरिष्ठ सदस्यों और अमेरिकी व्यापार जगत के दिग्गजों के साथ चर्चा का कार्यक्रम है। साथ ही साथ वो भारतीय प्रवासियों के साथ भी बातचीत करेंगे।

रिपोर्ट: शाश्वत तिवारी

About Samar Saleel

Check Also

जगदंबे का सप्तम स्वरूप

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें नवदुर्गा के सभी स्वरूपों की क्रमशः आराधना आध्यात्मिक ...