Al Qaeda के अल जवाहिरी को मारने में पकिस्तान ने दिया अमेरिका का साथ, दोनों देशों के बीच हुई थी ये ख़ास डील

अमेरिका ने  अल कायदा के चीफ अल जवाहिरी को ड्रोन हमले में ढेर कर दिया. अल जवाहिरी अफगानिस्तान के काबुल में छिपा था.अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडेन ने ट्वीट करके अल जवाह‍िरी की मौत की पुष्टि कर दी है।

 पाकिस्तानी सेना के चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा ने अमेरिका से एक मदद की गुहार लगाई गई थी।खुफिया मामलों के जानकारों का मानना है कि उसी मदद के भरोसे के बदले अमेरिका को पाकिस्तानी सेना और आईएसआई ने काबुल में रह रहे अल-जवाहिरी के न सिर्फ ठिकाने का पता दिया, बल्कि काबुल से लेकर वाशिंगटन तक इस मामले जानकारियां साझा करता रहा।

 राष्‍ट्रपति जो बाइडेन ने अपने ट्वीट में कहा, शनिवार को मेरे निर्देश पर अमेरिका ने अफगानिस्‍तान, काबुल में कामयाब हवाई हमला किया, जिसमें अल कायदा का अमीर अयमान अल जवाहिरी मारा गया। इंसाफ हो गया। अल जवाहिरी पर अमेरिका में हुए कई हमलों का आरोप था

साल 2001 में 11 सितंबर को अमेरिका पर हुए हवाई हमलों में जवाहिरी ने अहम भूमिका न‍िभाई थी। इन हमलों में अमेरिका के चार नागरिक विमानों को हाइजैक करके उन्‍हें न्‍यू यॉर्क के वर्ल्‍ड ट्रेड सेंटर के ट्विन टावर, वॉशिंगटन के पास रक्षा मंत्रालय पेंटागन और पेंसिलवेनिया में टकराया गया था। इन हमलों में करीब 3 हजार लोग मारे गए थे।

CIA ने  जवाहिरी पर हमले को अंजाम दिया. बताया जा रहा है कि ये हमला शनिवार सुबह स्थानीय समयानुसार करीब 6 बजे हुआ. उस दौरान जवाहिरी अपनी बालकनी पर ही था.बताया जा रहा है कि अमेरिका ने इस हमले के लिए पाकिस्तानी एयरस्पेस का इस्तेमाल किया.

About News Room lko

Check Also

“झूठे वादे करके जीत हासिल करने के बजाय मैं हारना पसंद करूँगा”, चुनावी वादों पर बोले ऋषि सुनक

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें ब्रिटेन के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ऋषि सुनक ...