पोषण सप्ताह के तहत पोस्टर व निबन्ध प्रतियोगिता आयोजित

कानपुर नगर। भविष्य की पीढ़ी का समुचितविकास भी सही पोषण पर आधारित है। संतुलित भोजन व स्वास्थ्य संबंधित सुविधाओं के बल पर ही बच्चों के बेहतर भविष्य की उम्मीद की जा सकती है। यह बातें राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत चल रहे पोषण सप्ताह में राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के जिला समन्वयक अजीत सिंह ने कहीं।

शहर के बाबा भोले विद्या मंदिर, ज्योरा में आयोजित पोस्टर व निबन्ध प्रतियोगिता के दौरान उन्होंने कहा कि सम्पूर्णस्वास्थ्य ही सहीजीवन है। स्वस्थ रहने के लिए बेहतर संतुलित आहार आवश्यक है। शारीरिक जरूरतोंके लिए आवश्यक छह पोषक तत्वों- प्रोटीन, विटामिन, कार्बाेहाइड्रेट, वसा, पानी और खनिज को ध्यान में रखते हुए एक स्वस्थ एवं पोषण युक्त डाइट चार्ट बनाएं। आहार में वह सभी पोषक तत्व शामिल करें जो शरीर में पोषण स्तर बनाए रखते हैं। घर में माता-पिता से इसमें सहयोग लें। उन्होंने कहा कि अच्छे स्वास्थ्य और मानसिक विकास के लिए संतुलित भोजन मूल आधार है। जरूरी नहीं है कि खर्चीला खाद्य पदार्थ ही पौष्टिक हो, सस्ते दामों में भी हम पौष्टिक आहार ले सकते हैं।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी और राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डॉ. एसके सिंह का कहना है कि किशोरावस्था 10 से 19 वर्ष की आयु का अंतराल है। इस दौरान किशोर किशोरियों में शारीरिक व मानसिक विकास और परिवर्तन तेजी से होते हैं। इन परिवर्तनों को समझ पाने में किशोर व किशोरी स्वयं को भ्रम की स्थिति में पाते हैं। इससे उनका स्वास्थ्य एवं वृद्धि प्रभावित होती है। इसमें समुचित विकास के लिए पोषण एक महत्वपूर्ण कारक है। इसलिए पोषण पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

प्रधानाचार्य ने कहा कि देश के विकास के लिए यह अत्यंत आवश्यक है कि लोग अपने खाने की थाली और संतुलित आहार को लेकर जागरुक हों और अच्छा पोषण प्राप्त करें।
संतुलित आहार विषय पर पोस्टर व निबंध प्रतियोगिता में छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया। विजेताओं को सभी को पुरस्कृत किया गया। इस मौके पर 130 छात्र-छात्राएं उपस्थित रहीं।

रिपोर्ट – शिव प्रताप सिंह सेंगर 

About Samar Saleel

Check Also

नाबालिगों के जायदाद पर हक तल्फी पर उतरी संरक्षिका, बच्चों ने मांगा न्याय

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें अपनी दादी व अधियारियों पर नाबालिग बच्चों ने ...