Tag Archives: अजय कुमार

लखनऊ की नई पहचान बनी ‘लइया-चना’

लखनऊ। पूरी दूनिया में लखनऊ जैसा कोई दूसरा शहर नहीं है। अवध की शाम के कहने ही क्या हैं। मुगलकालीन इमारतें इसको चार चांद लगाती है। बात इससे आगे की कि जाए तो लखनऊ महज गुंबद-ओ-मीनार नहीं, सिर्फ एक शहर नहीं कूच-ओ-बाजार नहीं। ‘लखनऊ’ यहां रहने वाले हर शख्स की कहानी ...

Read More »

यूपी-बिहार बॉर्डर पर शराब माफियाओं की सरगर्मी तेज

विधान सभा चुनाव बिहार में हो रहे हैं लेकिन सक्रियता उत्तर प्रदेश में बढी हुई है। शराब तस्करों और अवैध हथियार के सौदागरों के अचानक ‘अच्छे दिन आ गए’ हैं। बिहार में शराब और हथियार दोनों की ही मांग तेज हुई तो यूपी के शराब माफिया मौके का फायदा उठाने ...

Read More »

बसपा के दांव से भाजपा-कांग्रेस-सपा में बढ़ी हलचल

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव हों या फिर कांग्रेस के राहुल गांधी -प्रियंका वाड्रा तीनों को ही बसपा सुप्रीमों मायावती की राजनैतिक शैली रास नहीं आती है। कांग्रेस एवं समाजवादी पार्टी हमेशा से भारतीय जनता पार्टी की धुर विरोधी रहीं हैं और यह दल (सपा-कांग्रेस) चाहते हैं कि उनकी ...

Read More »

महंगाई के चलते त्योहारों की खुशियों को लगा ग्रहण

महंगाई डायन फिर से आ गई है। त्योहारी सीजन में खाने-पीने की चीजों के दामों में बेतहाशा वृद्धि हो रही है। एक तो कोरोना के चलते बड़ी संख्या में लोगों का रोजगार छिन गया है तो दूसरी तरफ बढ़ती मंहगाई ने आम जनता की कमर तोड़ दी है। मंहगाई से ...

Read More »

दलित सियासत में हर दांव आजमाती योगी सरकार

उत्तर प्रदेश की सियासत में इस समय दलितों को लेकर जबर्रदस्त गोलबंदी चल रही है। सभी दलों के नेता, दलितों को अपने पाले में खींचने के लिए एड़ी-चोटी का जोड़ लगाए हुए हैं। खासकर कांग्रेस और यूपी में पैर पसारने की कोशिश में लगी ‘आम आदमी पार्टी’ दलितों को लेकर ...

Read More »

न्यायपालिका नेताओं के विवादित बयानों का स्वतः ले संज्ञान

न्यायपालिका से आमजन को काफी उम्मीद रहती है। एक आम आदमी के लिए जब इंसाफ के सभी दरवाजें बंद हो जाते हैं तब अदालत उसके लिए ‘आखिरी रास्ता’ साबित होता है। कई बार तो जब कोई पीड़ित इंसाफ के लिए अदालत की चैखट तक पहुंचने में असहाय-मजबूर नजर आता है ...

Read More »

दीपावली की आहट के साथ, बाजार में खुशियों के ‘पटाखे’

अबकी बार होली की खुशियां भले कोरोना की भेंट चढ़ गई थीं, लेकिन लगता है करीब आठ महीने के बाद अंधेरे में उजाले की प्रतीक दीपावली नई खुशियां लेकर आएगी। पिछले आठ महीनों के बाद अब कोरोना का प्रभाव कुछ हलका होता दिख रहा है। दीपावली की आहट होते ही ...

Read More »

देश के बडे़ दलित नेताओं में गिने जाते थे पासवान

रामविलास पासवान के रूप में भारतीय राजनीति का और बड़ा दलित सितारा ‘बुझ’ गया। बिहार में पिछले आधे दशक से बाबू जगजीवन राम के बाद यदि कोई दलित चेहरा चमकता रहा, वो रामविलास पासवान ही थे। संयोग देखिए जिस लोकनायक जयप्रकाश नारायण को रामविलास पासवान अपना आदर्श मानते थे, उन्ही ...

Read More »

बिजली कर्मियों की हड़ताल से यूपी बदहाल

लखनऊ। निजीकरण के विरोध में करीब 15 लाख बिजली कर्मियों की अनिश्चित कालीन हड़ताल ने योगी सरकार को हिला कर रख दिया है। इन कर्मचारियों में जूनियर इंजीनियर, उप-विभागीय अधिकारी, कार्यकारी इंजीनियर और अधीक्षण अभियंता शामिल हैं। बिजली कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि अगर पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के ...

Read More »

किसानों के लिए जो कल सही था,आज वो गलत कैसे!

कांग्रेस फिर ‘सड़क’ पर है। किसानों के नाम पर कांग्रेसी जगह-जगह उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रर्दशन का स्वरूप ठीक वैसे ही है जैसा उसने भूमि अधिग्रहण बिल, कश्मीर से धारा 370 हटाने, एक बार में तीन तलाक, सर्जिकल स्ट्राइक, रफेल विमान खरीद, नागरिकता संशोधन बिल(सीएए),अयोध्या विवाद आदि के समय ...

Read More »