Breaking News

आने वाले 6 वर्ष भारत की इकोनॉमी के लिए ऐसे बनेंगे बेमिसाल

जहां एक ओर हिंदुस्तान सरकार ( Indian govt ) को गिरती इकोनॉमी के लिए आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है. वहीं नववर्ष से पहले एक आर्थिक एजेंसी की रिपोर्ट ने Indian Govtचेहरे पर खुशी दिला दी है. एजेंसी के अनुसार आने वाले 6 वर्ष देश की इकोनॉमी के बेमिसाल होने वाले हैं. यह बात ब्रिटिश एजेंसी ( CEBR ) की रिपोर्ट में सामने आई है. रिपोर्ट में बोला गया है कि हिंदुस्तान 2026 में जर्मनी को पछाड़कर संसार की चौथी सबसे बड़ी इकोनॉमी बन सकता है. वहीं 2034 तक तीसरी सबसे बड़ी इकोनॉमी पर भी काबिज होने कि सम्भावना है. खास बात तो ये है कि देश के पीएम नरेंद्र मोदी ( पीएम Narendra Modi ) ने 2024 तक देश को 5 ट्रिलियन की इकोनॉमी ( ) बनाने का लक्ष्य रखा है, जबकि रिपोर्ट में ऐसा संभव 2026 में होने की आसार जताई है. आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि मौजूदा समय देश की इकोनॉमी 4.5 प्रतिशत की गति से रेंग रही है.

चार से तीन में पहुंचने में लगेगा समय
वर्ल्ड इकनॉमिक लीग टेबल 2020 शीर्षक से सामने आई रिपोर्ट के अनुसार मौजूदा समय में हिंदुस्तान संसार की 5वीं सबसे बड़ी इकोनॉमी है, यह पोजिशन हिंदुस्तान ने फ्रांस व ब्रिटेन को पछाड़कर हासिल की है. सीईबीआर की मानें तो तीसरी पोजिशन को हासिल करने के लिए अगले 15 वर्षों तक जापान, जर्मनी व हिंदुस्तान के कढ़ा प्रयत्न देखने को मिल सकता है. रिपोर्ट में 2024 तक प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के 5 ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी बनाने लक्ष्य के बारे में जिक्र किया गया है. जिसे 2026 तक हासिल कर सकता है. वहीं रिपोर्ट में यह भी बोला गया है कि देश की इकोनॉमी पर छाए काले बादलों की वजह से लक्ष्य पर पहुंचने पर सवाल खड़े हो रहे हैं.

मंदी की वजह से आ गया है दबाव
2019 में आर्थिक मंदी की वजह से गति सुस्त है, जिसकी वजह से अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए दबाव बढ़ गया है. सीईबीआर के सीनियर इकोनॉमिस्ट पाबलो शाह के अनुसार हिंदुस्तान को संसार की सबसे तेजी से बढऩे वाली अर्थव्यवस्था का तमगा प्राप्त था, लेकिन 2019-20 की सितंबर तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 4.5 प्रतिशत रही, जो 6 वर्ष में न्यूनतम है. जिसके लिए निवेश व उपभोग में कमी को जिम्मेदार बताया जा रहा है.

About News Room lko

Check Also

जियो ने नॉर्थ ईस्ट सर्कल के सभी छह राज्यों में एकसाथ ट्रू 5जी लॉन्च किया

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें नई दिल्ली। उत्तर पूर्व में चीनी सीमा पर रिलायंस ...