Breaking News

Red Ants : जाने क्या असर डालतीं हैं आपके जीवन पर

कहा जाता है कि चीटियां हमारे जीवन पर बहुत गहरा असर डालती हैं। मूलतः दो तरह की चींटियां पायी जाती हैं जिनमें काली चींटी को शुभ, जबकि Red Ants लाल चींटी को आध्यात्मिक दृष्टि से जीवन पर अशुभ आने का संकेत माना जाता रहा है।

Red Ants की संख्या बढ़ने से कर्ज…

लाल चिंटियों के बारे में कहा जाता है कि घर में उसकी संख्‍या बढ़ने से कर्ज भी बढ़ता जाता है और यह किसी संकट की सूचना भी होती है। ऐसे में लोग चींटियों को मारने मरने का उपाय करते हैं जिससे हजारों चींटियों की हत्या करने दोष लगता है। इसका मतलब यह कि एक समस्या से छुटकारा मिला तो दूसरे में फंसे। साथ ही लाल चींटियों के चक्कर में काली भी मारी जाती है। ऐसे में क्या करें?

लाल चींटियों को कैसे भगाएं 

1) लाल चींटियों को भागने के लिए नींबू का प्रयोग करें। इसके लिए नींबू के कुछ छिलके निकालकर उसके टूकड़े टूकड़े करके उन्हें लाल चींटियों वाले स्थान पर रख दें। कुछ ही समय में वे चींटियां वहां से भाग जाएगी।
2) लाल चींटियों को भागने के लिए आप तेजपत्ता के टूकड़े भी डाल सकते हैं। इसी तरह लौंग या कालीमिर्च का उपयोग भी कर सकते हैं।

Loading...

कर्ज से मुक्ति का क्या है समाधान

क़र्ज़ से मुक्ति के समाधान आप हमेशा तलाशते रहते होंगे। ऐसे में बता दें कि दोनों ही तरह की चींटियों को आटा डालने से कर्ज से मु‍क्ति मिलती है। चींटियों को शकर मिला आटा डालते रहने से व्यक्ति हर तरह के बंधन से मुक्त हो जाता है। हजारों चींटियों को प्रतिदिन भोजन देने से वे चींटियां उक्त व्यक्ति को पहचानकर उसके प्रति अच्छे भाव रखने लगती हैं और ऐसा माना जाता है की चींटियां उस व्यक्ति को दुआ देतीं हैं। ऐसे में इतनी बड़ी संख्या में चींटियों की दुआ का असर आपको हर संकट से बचा सकता है।

क्या आप जानतें हैं कि लाल चींटियां शुभ भी होतीं हैं
  • लाल चींटियों की कतार मुंह में अंडे दबाए निकलते देखना शुभ है। इससे सारा दिन शुभ और सुखद बना रहता है।
  • शास्त्रों के अनुसार जो चींटी को आटा देते हैं और छोटी-छोटी चिड़ियों को चावल देते हैं, वे वैकुंठ जाते हैं।
  • कर्ज से परेशान लोग चींटियों को शक्कर और आटा डालें। ऐसा करने पर कर्ज की समाप्ति जल्दी हो जाती है।
Loading...

About Samar Saleel

Check Also

जल को जादुई या चमत्कारी क्यों माना जाता है, जानिये यहाँ

ज्योतिष के अनुसार व प्रकृति के मुताबिक हम जल यानि पानी के बिना जीवित नहीं रह सकते ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *