Breaking News

Ghosi bypoll के लिए मतदान शुरू, भाजपा-सपा में कांटे का मुकाबला…

उत्तर प्रदेश के मऊ में घोसी विधानसभा सीट के लिए मतदान शुरू हो गया है। यहां सीधा मुकाबला भाजपा और समाजवादी पार्टी के बीच है। सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

उपचुनाव के लिए सुबह सात बजे ही पोलिंग बूथ के बाहर वोटर्स की लंबी लाइन लग गई। इस सीट पर भाजपा के दारा सिंह चौहान का सपा के सुधाकर सिंह से कांटे का मुकाबला है। दारा सिंह की कड़ी परीक्षा है, क्योंकि वह सपा की विधायकी से इस्तीफा देकर भाजपा में आए हैं। इसके बाद भाजपा ने उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया है।

मंगलवार को सुबह 7 बजे से 455 बूथों पर मतदान शुरू हुआ। इस दौरान कोपागंज, मझवारा, घोसी, कसारा, इंदारा जैसे बूथों पर मतदाता अपने मतदान के लिए पहुंचे। इस दौरान पुरूष मतदाताओ की भीड़ ज्यादा रही। जिलाधिकारी अरुण कुमार ने मतदान से जुड़ी शिकायत और सुझाव के लिए नंबर जारी किए हैं। मतदान प्रक्रिया को पारदर्शी ढंग से पूरा कराने के लिए मतदान केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। विधानसभा क्षेत्र घोसी में उप निर्वाचन के लिए 239 मतदान केंद्रों पर 455 बूथ बनाया गया है ।

प्रशासन ने पूरे निर्वाचन क्षेत्र को 2 जोन एवं 27 सेक्टर में विभाजित किया है। दो जोनल एवं 27 सेक्टर मजिस्ट्रेट तैनात किए गए हैं। निर्वाचन को संपन्न कराने के लिए 591 कंट्रोल यूनिट, 591 बैलेट यूनिट तथा 630 वीवी पैट हैं, इनमें से 455 ईवीएम एवं वीवी पैट समस्त बूथों पर प्रेषित किए गए है। प्रत्येक जोनल एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट के पास दो-दो ईवीएम एवं वीवी पैट मशीन का सेट भी रहेगा। मतदान को सकुशल संपन्न कराने के लिए 2002 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। प्रत्येक पोलिंग पार्टी में चार कर्मी चुनाव कार्य को संपन्न कराएंगे।

सपा और भाजपा ने इस सीट पर अपनी ताकत झोंक दी। अखिलेश की सभा के साथ ही शिवपाल 10 दिन से घोसी में डेरा डाले हैं। वहीं, सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी जनसभा की। उनकी कैबिनेट के ज्यादातर मंत्रियों ने यहां प्रचार किया। निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि घोसी विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। इसके लिए 239 मतदान केंद्रों पर 455 बूथ बनाए गए हैं। 239 मतदान केंद्रों के 455 बूथों पर मतदान कराने के लिए सोमवार को पोलिंग पार्टियां रवाना हुईं, जो बूथों पर पहुंच गईं। सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक मतदान होगा।

About News Desk (P)

Check Also

अयोध्या: दंड, छत्र व पादुका लेकर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में नहीं जा पाएंगे संत

रामलला की प्राण प्रतिष्ठा 20 से 24 जनवरी के बीच होगी। हालांकि प्राण प्रतिष्ठा का ...