यूपी विधानसभा में इस वजह से मिलेगा अब आधा गिलास पानी

जल ही जीवन है, इसे बचाना हमारा कर्तव्य है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश की विधानसभा ने भी स्टाफ और अतिथियों को केवल आधा गिलास पानी देने का निर्देश जारी किया है। विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित के निर्देश पर प्रमुख सचिव प्रदीप दुबे ने सचिवालय में आधा गिलास पानी देने का आदेश जारी किया।

सचिवालय प्रशासन ने इसे तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया है। इसके तहत अब किसी भी अधिकारी, कर्मचारी या अतिथि को पानी का पूरा भरा गिलास नहीं दिया जाएगा। अगर किसी को जरूरत है तो दोबारा मांग सकता है। दोबारा मांगने पर उन्हें और पानी मिलेगा।

ये आदेश इसलिए दिया गया है क्योंकि पानी पीने के बाद अक्सर आधा गिलास छोड़ दिया जाता है और इससे बचा हुआ पानी व्यर्थ होता है। इसिलए अब विधानसभा परिसर के सभी कार्यालयों में पहले आधा गिलास पानी दिया जाएगा। जरूरत पड़ने और मांगे जाने पर ही और पानी देने का आदेश दिया गया है।

इससे पहले किंग जर्ज मेडिकल कॉलेज (केजीएमयू) में भी आधा गिलास पानी की मुहिम को लागू किया गया था। आधा गिलास पानी की मुहिम बड़े संस्थानों, होटलों, रेस्टोरेंट, व कई स्कूल-कॉलेजों ने अपना ली है।

साल 2018 में नीति आयोग ने कहा था कि भारत ‘इतिहास के सबसे भयावह जल संकट’ से जूझ रहा है। 60 करोड़ लोगों को हर रोज पानी की किल्लत से जूझना पड़ रहा है। करीब 2 लाख लोग हर साल साफ पेयजल न मिलने से मर रहे हैं। देश के 75 फीसदी मकानों में पानी की सप्लाई नहीं है।

About Aditya Jaiswal

Check Also

बोरे में मिला नवजात का शव

लखनऊ। राजधानी में वजीरगंज थाना क्षेत्र स्थित क्वीन मेरी अस्पताल के पास बुधवार की रात ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *