Breaking News

सुपारी किलर रोहित सांडू सहित दो बदमाश पुलिस मुठभेड़ में ढेर

लखनऊ। मुजफ्फरनगर से बड़ी खबर है। पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ में दो बदमाश ढेर हो गए हैं। एक बदमाश पर एक लाख तो दूसरे पर 50 हजार का इनाम था। मुठभेड़ में एक दरोगा और सिपाही भी घायल हुए हैं। जानकारी के अनुसार, पुलिस और बदमाशों में मंडी इलाके में बिलासपुर गांव के मुठभेड़ हुई। पुलिस ने सुपारी किलर रोहित और इनामी बदमाश राकेश यादव को मार गिराया है।

रोहित सांडू पर एक लाख का इनाम

मंसूपुर थाना इलाके के जोहरा निवासी रोहित सांडू पर एक लाख का इनाम था। जबकि अयोध्या निवासी राकेश यादव पर 50 हजार का इनाम था। मुठभेड़ में दरोगा अजय कुमार और सिपाही विनीत कपासिया भी घायल हुए हैं। पुलिस ने बदमाशों के पास से दो पिस्टल और बाइक बरामद की है।

गौरतलब है कि 2 जून को रोहित सांडू को जानसठ इलाके से पुलिस हिरासत से छुड़ाया गया था। बदमाशों ने दोपहर के वक्त करीब दो बजे पानीपत-खटीमा राजमार्ग पर सालारपुर गांव में एक होटल से कुख्यात रोहित उर्फ श्सांडूश् को छुड़ा लिया। 100 किमी की दूरी बचाने के लिए मिर्जापुर पुलिस असुरक्षित रास्ते से कुख्यात को लेकर मुजफ्फरनगर से मिर्जापुर जा रही थी।
पुलिस के अनुसार बदमाश सफेद रंग की कार से आए थे। अपने साथियों को देखते ही पुलिस के साथ टेबल पर बैठे रोहित ने पुलिसकर्मियों की आंखों में मिर्ची पाउडर डाल दिया था। इससे पहले पुलिसकर्मी संभलते, बदमाशों ने गोलियां चला दीं।
गोली दरोगा के पेट में लगी थी। होटल में चीख पुकार मचते ही बदमाश अपने साथी रोहित को साथ लेकर फरार हो गया था। इस घटना में फायरिंग में घायल हुए मिर्जापुर के एसआई दुर्ग विजय सिंह की मौत हो गई थी।

गिरफ्तार हुए भूपेंद्र बाफर

हाल में मेरठ से गिरफ्तार हुए भूपेंद्र बाफर की निशानदेही पर पुलिस रोहित की तलाश में जुट गई थी। दरअसल रोहित को पुलिस कस्टडी से फरार कराने में भूपेंद्र बाफर का अहम रोल था। पुलिस पूछताछ में आरोपी भूपेंद्र ने बताया कि सुशील मूंछ पर हमला करने के लिए सुपारी किलर रोहित को फरार कराया गया था।

शातिर अपराधी रोहित कई संगीन मामलों में जेल में बंद था। जिसे यहां से मिर्जापुर की जेल में स्थानांतरित किया गया था। एक मुकदमे की पेशी पर शातिर को यहां एडीजे फर्स्ट कोर्ट में पेश करने के लिए पुलिस मुजफ्फरनगर लेकर पहुंची थी। एडीजी के मुताबिक सुपारी किलर रोहित पर संगीन मामलों के 40 मुकदमे और राकेश यादव पर 10 से 12 मुकदमे दर्ज थे। रोहित को पुलिस अभिरक्षा से छुड़ाने में राकेश यादव भी शामिल था। वह भी रोहित गैंग का सदस्य था। एडीजी ने बताया कि मुठभेड़ में चैकी इंचार्ज अजय कुमार और एसओजी के कांस्टेबल विनीत कपासिया भी गोली लगने से घायल हुए हैं, वह भी जिला अस्पताल में भर्ती कराए गए हैं, जो खतरे से बाहर हैं ।

About Samar Saleel

Check Also

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मंडलीय चिकित्सालय को ‘रक्तदान सेवा सम्मान पत्र’ प्रदान कर किया सम्मानित

• स्वैच्छिक रक्तदान के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य एवं अनुकरणीय योगदान हेतु किया गया सम्मानित ...