Breaking News

जानिए विज्ञान के अनुसार क्या होता है एंटी मैटर पदार्थ और क्या है इसके गायब होने का कारण

हाल ही में विज्ञान की दुनिया में एंटीमैटर काफी चर्चा में रहा। वैज्ञानिकों ने पहली बार एंटीमैटर को गिरते हुए देखा, जिसे विज्ञान की दुनिया में एक बड़ी अवलोकन घटना माना जाता है क्योंकि अब तक यही धारणा थी कि गुरुत्वाकर्षण एंटीमैटर को खींचता नहीं बल्कि दूर धकेल देता है।

👉कौन हैं मेडिसिन का नोबेल जीतने वाली डॉ. कैटालिन और डॉ. वाइसमैन?

लेकिन नये अवलोकनों ने इस धारणा को पूरी तरह से ध्वस्त कर दिया है। कहा जा रहा है कि यह ब्रह्मांड से गायब हो रहा है। हम आमतौर पर सामान्य पदार्थ यानी मैटर के बारे में सुनते हैं, लेकिन ये एंटीमैटर क्या है और ये ब्रह्मांड से क्यों गायब हो रहा है. आइये जानते हैं विज्ञान इस बारे में क्या कहता है?

जानिए विज्ञान के अनुसार क्या होता है एंटी मैटर पदार्थ और क्या है इसके गायब होने का कारण

एंटीमैटर का जिक्र कम ही होता है

सामान्य भाषा में कहें तो जब भी किसी वैज्ञानिक की चर्चा होती है तो हम पदार्थ और ऊर्जा का जिक्र तो देखते हैं, लेकिन एंटीमैटर की चर्चा कम देखते हैं। वैज्ञानिक शोधों में भी इनका ज्यादा जिक्र नहीं होता। लेकिन वैज्ञानिक दृष्टि से इसका बहुत महत्व है। यदि हम अतिसूक्ष्म कणों के स्तर पर बात करें तो प्रत्येक कण में एक प्रतिकण या एंटीपार्टिकल होता है। उदाहरण के लिए, ऋणावेशित इलेक्ट्रॉन का प्रतिकण पॉज़िट्रॉन होता है।

पदार्थ और प्रतिपदार्थ

प्रत्येक भौतिक प्रक्रिया में समान मात्रा में पदार्थ और एंटीमैटर उत्पन्न होते हैं। भौतिक प्रक्रिया विज्ञान के अनुसार जब भी कोई कण अपने प्रतिकण से मिलता है तो परिणाम स्वरूप दोनों का विनाश होता है। इस विशेष प्रक्रिया को संहार कहते हैं। इस विनाश का परिणाम उच्च ऊर्जा फोटॉन का निर्माण है।

आज तो बात ही बात है

सामान्यतः कहें तो ब्रह्माण्ड में कोई पदार्थ या प्रतिपदार्थ नहीं होना चाहिए और केवल फोटॉन का महासागर ही होना चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं है। दरअसल, आज ब्रह्मांड में इतना पदार्थ है कि लगभग 2 ट्रिलियन आकाशगंगाएँ बन चुकी हैं और इसमें एंटीमैटर का कोई जिक्र नहीं है क्योंकि एक तरह से एंटीमैटर है ही नहीं। तो एंटीमैटर की अवधारणा कहां से आई?

पदार्थ प्रतिपदार्थ असंतुलन

हमारे वैज्ञानिक इसे बिग बैंग के बाद की चमक से जानते हैं, जो ब्रह्मांडीय पृष्ठभूमि विकिरण में 10 अरब फोटॉन कणों की उपस्थिति के कारण होता है। इससे पता चलता है कि बिग बैंग में पदार्थ के प्रत्येक एक अरब कणों पर 10 अरब एंटीमैटर कण थे और विनाश या विनाश की प्रक्रिया के बाद प्रत्येक कण पर एक अरब फोटॉन रह गए।

न्यूट्रिनो की भूमिका

वैज्ञानिक लंबे समय से पदार्थ और एंटीमैटर के असंतुलन के कारणों का पता लगा रहे हैं। उन्हें लगता है कि उन्हें इसका उत्तर न्यूट्रिनो के व्यवहार में मिल सकता है। न्यूट्रिनो उपआणविक कण हैं इसलिए वे पदार्थ के साथ प्रतिक्रिया नहीं करते हैं। ये इलेक्ट्रॉन न्यूट्रिनो, म्यूऑन न्यूट्रिनो और ताऊ न्यूट्रिनो की अवस्थाओं में बदलते रहते हैं। इनका वजन नगण्य होता है।

संतुलन असंतुलन में बदल गया

वैज्ञानिकों का मानना है कि इन न्यूट्रिनो के भारी एंटीन्यूट्रिनो बिग बैंग के समय उच्च ऊर्जा अवस्था में बने होंगे और फिर आज के कणों में विघटित हो गये होंगे। जिसके कारण पदार्थ-एंटीमैटर पदार्थ और एंटीमैटर का असंतुलन पैदा हो गया होगा। यही कारण है कि आज हम पदार्थ से बने ब्रह्मांड में रहते हैं। जबकि बिग बैंग के समय पदार्थ और प्रति-पदार्थ की मात्रा समान रही होगी।

भौतिकविदों का मानना है कि बिग बैंग के बाद पदार्थ और एंटीमैटर ने एक दूसरे को लगभग नष्ट कर दिया। आज ब्रह्माण्ड का केवल पाँच प्रतिशत भाग ही पदार्थ है और शेष भाग डार्क मैटर और डार्क एनर्जी से बना है, जबकि एंटीमैटर गायब है। वैज्ञानिक लंबे समय से यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या एंटीमैटर गुरुत्वाकर्षण के मामले में सामान्य पदार्थ की तरह व्यवहार करता है या नहीं। ऐसा माना जाता था कि गुरुत्वाकर्षण एंटीमैटर को प्रतिकर्षित करता है।

About News Desk (P)

Check Also

हम नक्सलवाद के सामने घुटने नहीं टेकते, नेस्तनाबूद कर देते हैं- योगी आदित्यनाथ

• योगी आदित्यनाथ ने कोरबा में जनसभा को किया संबोधित • कहा- कांग्रेस का नक्सलवाद ...