Breaking News

कोविड प्रबंधन के संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिए व्यापक निर्देश

दया शंकर चौधरी

लखनऊ। कोविड प्रबंधन के संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूरी प्रतिबद्धता के साथ टीम-11 के सदस्यों के साथ वर्चुअल समीक्षा बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिये है। इस संबंध में उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव ‘सूचना’ नवनीत सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री जी के निर्देश पर लखनऊ के केजीएमयू और बलरामपुर चिकित्सालय को डेडीकेटेड कोविड चिकित्सालय बनाया जा रहा है। राजधानी लखनऊ के केजीएमयू और बलरामपुर हॉस्पिटल को अगले 24 घंटे की अवधि में डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल के रूप में परिवर्तित कर संचालित किया जाना है। स्वास्थ्य मंत्री एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री इस महत्वपूर्ण कार्य की मॉनीटरिंग करेंगे।

इन दो नए डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल के संचालन से लखनऊ में लगभग 4000 बेड का विस्तार होगा। उन्होंने बताया कि लखनऊ स्थित अवध शिल्प ग्राम में एचएएल के सहयोग से एक नया सर्व सुविधायुक्त कोविड हॉस्पिटल तैयार किया जाएगा। मुख्यमंत्री जी ने स्वास्थ्य विभाग को एचएएल से समन्वय स्थापित कर इस अतिमहत्वपूर्ण कार्य को तत्काल क्रियाशील करने के निर्देश दिये है।

प्रदेश में बनाये जाएंगे 10 नये आक्सीजन प्लांट

श्री सहगल ने बताया कि कोविड मरीजों की चिकित्सकीय सुविधा को सुदृढ़ रखने के दृष्टिगत सभी आवश्यक प्रयास किए जा रहे हैं। प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति सुचारू है। प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर अति शीघ्र 10 नए ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किए जाएंगे। इस कार्य में डीआरडीओ का सहयोग मिल रहा है। प्रदेश में ऑक्सीजन की सप्लाई नियमित है। डीआरडीओ ने प्रस्ताव दिया है, जिसमें वे 15 दिनों में 10 नए प्लांट बनाएंगे। जिसमें हवा से ऑक्सीजन बनाई जाएगी। मुख्यमंत्री ने आदेश दिया है कि एक सप्ताह के अंदर ये सारे प्लांट शुरू कर दिए जाएं। 10 नवीन ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना के संबंध में स्थान का चिन्हांकन कर आज से ही युद्धस्तर पर कार्यवाही प्रारंभ कर दी जाए। स्वास्थ्य मंत्री एवं अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य इस पूरी कार्यवाही पर सीधी नजर रखेंगे। उन्होंने बताया कि सभी जनपदों के कोविड अस्पतालों में ऑक्सीजन की अनवरत आपूर्ति बनी रहे। इसके लिए खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग द्वारा मेडिकल ऑक्सीजन की सुचारु आपूर्ति के संबंध में स्थापित कंट्रोल रूम 24×7 सक्रिय रहेंगे। उन्होंने बताया कि खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग को रेमिडीसीवीर की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिये है। रेमिडीसीवीर सहित किसी भी प्रकार के जीवनरक्षक दवाओं की कोई कमी नहीं है। सभी जिलों में इनकी उपलब्धता सुनिश्चित रखी जायेगी। स्वास्थ्य राज्य मंत्री अतुल गर्ग इस कार्य की सतत मॉनिटरिंग कर रहें है।

कोविड प्रोटोकॉल के तहत होंगी पूर्व निर्धारित परीक्षाएं और शादी विवाह

श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश के सभी ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में आज शनिवार की रात्रि 08 बजे से सोमवार सुबह 07 बजे तक साप्ताहिक बन्दी करने के निर्देश दिये है। इस अवधि में केवल स्वच्छता, सैनिटाइजेशन और आपातकालीन सेवाओं ही संचालित रहेंगी तथा जागरूकता कार्य भी किए जायेंगे। प्रदेश के सभी जिलों में, ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में स्वच्छता, सैनिटाइजेशन और फॉगिंग का कार्य अभियान के रूप में संचालित किया जायेगा। आमजन को भी इन कार्यों की महत्ता से अवगत कराया जायेगा। उन्होंने बताया कि रविवार को घोषित साप्ताहिक बन्दी कोविड संक्रमण के प्रसार को न्यूनतम रखने के लिए लागू किया जा रहा है। सभी जनपदों में इसे प्रभावी बनाया जाएगा। इस अवधि में पूर्व निर्धारित परीक्षाएं हो सकेंगी। अभ्यर्थी प्रवेश पत्र दिखाकर आवागमन कर सकेंगे। सार्वजनिक परिवहन आधी क्षमता के साथ संचालित किए जाएंगे। साप्ताहिक बन्दी के दौरान औद्योगिक इकाइयों को बन्दी से छूट होगी। उन्होंने बताया कि साप्ताहिक बन्दी के दौरान शादी-विवाह आदि के पूर्व निर्धारित कार्य कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन सुनिश्चित करते हुए सम्पन्न होंगे। बंद हॉल में अधिकतम 50 एवं खुले मैदान पर होने वाले आयोजनों में अधिकतम 100 लोग ही उपस्थित हो सकते हैं। इस आदेश का सख्ती से पालन कराया जायेगा। गृह विभाग ने इस सम्बन्ध में विस्तृत आदेश भी जारी किया है।

श्री सहगल ने बताया कि सभी जिलों में डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल की संख्या बढ़ाई जा रही है। एल-2 व एल-3 स्तर के अस्पतालों की संख्या में लागातर बढ़ोतरी की जा रही है। अस्पतालों में प्रशिक्षित मानव संसाधन की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री के स्तर से इस व्यवस्था की मॉनिटरिंग की जाएगी। उन्होंने बताया कि सभी अधिकृत निजी एवं सरकारी प्रयोगशालाओं में कोविड टेस्ट का कार्य पूरी क्षमता से किया जाएगा। कल निजी प्रयोगशालाओं में 19 हजार से अधिक टेस्ट किये गए तथा लगभग 90,000 सैम्पलों की जांच आरटीपीसीआर के माध्यम से की गयी है। कोविड टेस्ट के लिए निजी प्रयोगशालाओं का पूरा प्रयोग किया जा रहा है। सरकारी स्तर पर एकत्रित सैम्पल निजी प्रयोगशालाओं को भी भेजा जायेगा। उन्होंने लोगों से किसी प्रकार की अफवाह में न आने की अपील की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोविड संक्रमण को नियत्रित करने हेतु हर किसी व्यक्ति का सहयोग बहुत ही जरूरी है। प्रदेश में 45 वर्ष से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन चल रहा है। इसमें पात्र व्यक्ति आगे आकर अपना वैक्सीनेशन आवश्यक करवाये।

गेहूं की खरीद के लिए स्थापित किये गये 6000 क्रय केन्द्र

श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश सरकार किसानों के हितों के लिए कृतसंकल्प है और किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उनकी फसल को खरीदे जाने की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद किये जाने हेतु 6000 क्रय केन्द्र स्थापित किये गये हैं। उन्होंने बताया कि एक नई व्यवस्था के तहत कृषक उत्पादक संगठनों (एफ0पी0ओ0) को भी क्रय केन्द्र खोलने की अनुमति दी गयी है। उन्होंने बताया कि किसान उत्पादक संगठन 150 केन्द्रों के माध्यम से संचालित किया जायेगा। उन्होंने जिलाधिकारियों के द्वारा कृषक उत्पादक संगठनों (एफ0पी0ओ0) को भी क्रय केन्द्रों से जोड़कर गेहूं क्रय का कार्यक्रम शुरू कर दिया गया है। यह व्यवस्था प्रदेश में पहली बार हो रही है। 01 अप्रैल से 15 जून, 2021 तक गेहू खरीद का अभियान जारी रहेगा। गेहू क्रय अभियान में अब तक 2,98,050.77 लाख मी0 टन से अधिक गेहूं खरीदा गया है।

Loading...

About Samar Saleel

Check Also

भाजपा सरकार की कुरीतियां प्रदेशवासियों को पड़ रहीं भारी: अखिलेश यादव

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *