Breaking News

लॉकडाउन के बाबजूद चकबंदी प्रक्रिया जारी, काश्तकारों की गैर मौजूदगी में काटे जा रहे चक

औरैया। जिले में शासन के निर्देश पर एक ओर लॉकडाउन लगाकर कोरोना की चेन को तोड़ने का प्रयास किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर चकबंदी विभाग शासन के आदेशों की धज्जियाँ उड़ा ऐरवा टिकटा गांव में किसानों की गैर मौजूदगी में चक काटने की प्रक्रिया को जारी किए है।

जिले के ऐरवाकटरा ब्लाक में पिछले लम्बे समय से चकबंदी प्रक्रिया चल रही है। वर्तमान में कोरोना महामारी के चलते शासन ने भले ही पूरे प्रदेश में लॉकडाउन लगा दिया हो लेकिन ऐरवा कटरा का चकबंदी विभाग शासन के आदेशों की परवाह किये बिना ऐरवा टिकटा गांव में चकबंदी प्रक्रिया जारी रखे हुए है और ऐसे में जब अधिकांश किसान या उनके परिवार के सदस्य या तो बीमारी से ग्रसित है या फिर कोरोना महामारी के डर से अपने घरों में दुबके हुए है।

महामारी के इस भयानक दौर में जब चारों ओर हाहाकार मचा हुआ है और आदमी डरा सहमा हुआ है। ऐसे समय में कड़ी धूप में ऐरवा कटरा के चकबंदी विभाग द्वारा ऐरवा टिकटा में चकबंदी प्रक्रिया जारी रखना जानबूझकर किसानों को संक्रमण की चपेट में झोंकने का काम कर रहा है।

ऐरवा टिकटा निबासी अखिलेश कुमार जाटव ने बताया कि वह बीमार है और उसके खेत का बाद चकबंदी अधिकारी के न्यायालय में चल रहा है, इसके बाबजूद भी चकबंदी लेखपाल व कानूनगो द्वारा विपक्षी को जरीब डालकर कब्जा दे दिया गया और नाप से पहले उन्हें कोई सूचना भी नहीं दी गयी। ऐरवा टिकटा निबासी छोटेलाल जाटव ने बताया कि लॉक डाउन में खेतों में जरीब डालकर की जारी नाप सरकार के नियमो की अनदेखी है।

काश्तकार निहाल सिंह ने बताया कि उन्होंने गाटा संख्या 8/2 में तीन लोगों ने तीन बीघा जमीन खरीदी थी। लेकिन चकबंदी विभाग द्वारा हेरफेर करके चार हिस्से कर दिए। ऐरवा टिकटा के चकबंदीकर्ता लेखपाल और कानूनगो ने बताया कि चकबंदी एसओसी ज्ञानेंद्र त्रिपाठी के द्वारा दिनांक 06 मई को दिए गए आदेश के अनुसार ऐरवा टिकटा में चक काटने की प्रक्रिया चल रही है।

रिपोर्ट-शिव प्रताप सिंह सेंगर

About Samar Saleel

Check Also

पोषण पाठशाला 26 मई को : छह माह तक पानी नहीं केवल स्तनपान का दिया जाएगा संदेश

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें Published by- @MrAnshulGaurav Monday, May 23, 2022 औरैया। बाल ...